Home चुनावी हलचल पंजाब में सिद्धू के सलाहकार और पूर्व डीजीपी की हेट स्पीच, हिंदुओं...

पंजाब में सिद्धू के सलाहकार और पूर्व डीजीपी की हेट स्पीच, हिंदुओं के खिलाफ बिगड़े बोल, हमलावर हुई बीजेपी ने पूछा- क्या राहुल गांधी पंजाब को भी कश्मीर बनाना चाहते हैं

855
SHARE

पंजाब में तरह-तरह से चुनाव से पहले माहौल को खराब करने की कोशिशें की जा रही हैं। पहले गुरुद्वारों में वारदातें, फिर बम विस्फोट और अब पंजाब के पूर्व डीजीपी मुहम्मद मुस्तफा शब्दों के बम लेकर आए हैं। पंजाब प्रदेश कांग्रेस प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू के रणनीतिक सलाहकार मुस्तफा के बिगड़े बोल का मामला गरमा गया है। इसे लेकर बीजेपी का आक्रामक होना लाजिमी है। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा है कि राहुल गांधी को स्पष्ट करना चाहिए कि वे मोहम्मद मुस्तफा को मोहरा बनाकर क्या पंजाब के कश्मीर बनाना चाहते हैं ? वहीं कांग्रेस के भीतर से भी मुस्तफा को नसीहत दी जा रही हैं।

पत्नी रजिया सुल्ताना के प्रचार के दौरान दिया विवादित बयान
इस बीच मालेरकोटला पुलिस ने मुहम्मद मुस्तफा के खिलाफ अलग-अलग धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है। मुस्तफा की पत्नी रजिया सुल्ताना मालेरकोटला से ही कांग्रेस प्रत्याशी हैं। मुस्तफा पर हिंदू-मुस्लिम के बीच शत्रुता पैदा करने वाला बयान देने का आरोप है। फिलहाल पुलिस इस मामले की छानबीन कर रही है। मुस्तफा को गिरफ्तार किया जाना चाहिए या नहीं? पत्नी रजिया सुल्ताना के लिए प्रचार करने निकले मुहम्मद मुस्तफा का एक वीडियो सामने आया था। इसमें वे हेट स्पीच देते हुए बोलते हैं कि अगर हिंदुओं (फितनों) को उनके जलसे के बराबर इजाजत दी तो ऐसे हालात पैदा कर दूंगा कि संभालना मुश्किल हो जाएगा।

‘मैं आरएसएस का एजेंट नहीं हूं, मैं कौमी फौजी हूं’
इस मौके पर वीडियो में उन्होंने ये भी कहा कि मैं अल्लाह की कसम खाकर कहता हूं, कि इनका कोई जलसा नहीं होने दूंगा। मैं कौमी फौजी हूं। मैं आरएसएस का एजेंट नहीं हूं,जो डर कर घर में घुस जाऊंगा। अगर दोबारा इन्होंने ऐसी हरकत की तो खुदा की कसम घर में घुसकर मारूंगा। आज मैं सिर्फ वार्निंग दे रहा हूं। मैं वोटों के लिए नहीं लड़ रहा। मैं कौम के लिए लड़ रहा हूं।हिंसा के उकसावे को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, माफी मांगें मुस्तफा : कांग्रेस सांसद
बीजेपी ही नहीं कांग्रेस में भी सिद्धू के सलाहकार के बिगड़े बोलों की आलोचना हो रही है। लुधियाना से कांग्रेस सांसद रवनीत बिट्‌टू ने मुस्तफा का वीडियो ट्वीट करते हुए कहा कि पंजाब के पूर्व डीजीपी और कांग्रेस वर्कर के एटीट्यूड और भाषा से उन्हें झटका लगा है। पंजाब धार्मिक सौहार्द का सबसे बढ़िया उदाहरण है। यहां सिख, हिंदू, ईसाई और मुस्लिम एक समुदाय की तरह रहते हैं। मुस्तफा के शब्द न केवल सांप्रदायिक सौहार्द के लिए नुकसानदेह हैं, बल्कि कांग्रेस के सेक्युलर आदर्श के उलट हैं। हिंसा के इस उकसावे को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। कोई भी चुनाव पंजाब की शांति से बड़ा नहीं है। मुस्तफा को खुद इस बारे में माफी मांगनी चाहिए।

राहुल बताएं, मुस्तफा को मोहरा बनाकर पंजाब को कश्मीर क्यों बनाना चाहते हैं : पात्रा
भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने मुस्तफा का वीडियो पोस्ट कर सीधे कांग्रेस हाईकमान से जवाब मांगा। पात्रा ने कहा कि राहुल गांधी को स्पष्ट करना चाहिए कि कांग्रेस पार्टी मुस्तफा को मोहरा बनाकर पंजाब को कश्मीर क्यों बनाना चाहती है ? क्या वे शांति और अमन वाले पंजाब में फिर से 80 के दशक वाले हालात पैदा करना चाहते हैं ? क्या पंजाब में एक कौम विशेष को ही जलसे का अधिकार है ? पंजाब में सांप्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ने की इजाजत किसी को नहीं दी जाएगी।

गृहमंत्री की नसीहत : पंजाब सेक्युलर राज्य है और यह सभी धर्मों का
इधर सिद्धू से अपने सलाहकार के विवादित बयान पर कोई सीधा जवाब बोलते नहीं बना। न ही पंजाब के गृहमंत्री सुखजिंदर रंधावा ने मुस्तफा को लेकर सीधे कोई बात कही। उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि पंजाब एक सेक्युलर राज्य है और यह सभी धर्मों का है। इस मामले में पंजाब कांग्रेस चीफ नवजोत सिद्धू ने भी सीधा कोई जवाब नहीं दिया। उन्होंने कहा कि पंजाब का बच्चा-बच्चा न हिंदू है और न मुसलमान, वह गुरुओं की शिक्षा पर जीते हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस महात्मा गांधी के आदर्शों पर चलने वाली पार्टी है।

पंजाब का माहौल खराब करने की कोशिश, आयोग से की शिकायत
बीजेपी प्रवक्ता शाजिया इल्मी और पंजाब महासचिव सुभाष शर्मा ने पूछा कि क्या यही कांग्रेस का सेक्युलरिज्म है। ऐसी भाषा बर्दाश्त नहीं की जा सकती। कांग्रेस पंजाब में दंगे कराने पर क्यों आमादा हैं। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को इसका जवाब देना चाहिए। भाजपा ने इस मामले में चुनाव आयोग को शिकायत की है।

पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई तो कांग्रेस घबरा गई है : बादल
अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल ने कहा कि पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई तो कांग्रेस घबरा गई है। इस वजह से ऐसी कोशिश की जा रही है। आम आदमी पार्टी के पंजाब सह प्रभारी राघव चड्‌ढा ने कहा कि पंजाब को धर्म के नाम पर बांटने और माहौल खराब करने की कोशिश की जा रही है। एक धर्म का सहारा लेकर समाज में दरार डालने की कोशिश की जा रही है।

विवाद से डरे मुस्तफा की सफाई, मेरी नाराजगी झाड़ू वालों पर थी
इधर विवाद बढ़ता देखकर मुस्तफा ने सफाई दी है कि उन्होंने हिंदुओं नहीं, बल्कि फितनों कहा था। फितनों का मतलब शरारती होता है। इसमें हिंदू-मुसलमान वाली कोई बात नहीं, क्योंकि जिनके बारे में वह बोल रहे थे, वे भी मुसलमान ही हैं। इसमें कोई हिंदू-मुसलमान वाली बात नहीं है। मेरी नाराजगी उन झाड़ू वालों पर थी, जो शरारत कर रहे थे।

 

Leave a Reply