Home समाचार केजरीवाल के हाथों में कमान आते ही दिल्ली में कोरोना ने तोड़ा...

केजरीवाल के हाथों में कमान आते ही दिल्ली में कोरोना ने तोड़ा 40 दिन का रिकॉर्ड, बीजेपी का आरोप- उत्तराखंड चुनाव और ताहिर को बचाने पर है पूरा ध्यान

634
SHARE

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के कोरोना से पीड़ित होने के बाद जैसे ही कमान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के हाथों में आई, कोरोना ने फिर रफ्तार पकड़ ली। कोरोना ने पिछले 40 दिनों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। बीजेपी ने आरोप लगाया है कि केजरीवाल का पूरा ध्यान कोरोना की जगह उत्तराखंड चुनाव और दिल्ली दंगे का मास्टरमाइंड ताहिर हुसैन को बचाने पर है।

पिछले 10 दिन के अंदर 12 हजार लोग संक्रमित
ताजा आंकड़ों के मुताबिक, 40 दिन पहले 16 जुलाई को दिल्ली में एक दिन में 1652 कोरोना संक्रमित मिले थे। इसके बाद कल यानि 26 अगस्त को कोरोना के 1693 मरीज सामने आए। दिल्ली में पिछले 10 दिन के अंदर 12 हजार लोग संक्रमित हुए हैं। जुलाई मध्य के बाद से दिल्ली में 24 घंटे में मिलने वाले कोरोना के मामलों में गिरावट आने लगी थी। अगस्त की शुरुआत में ये और कम होती चली गई। उसके बाद 24 घंटे में 500-600 संक्रमित मिलने लगे और दिल्ली का रिकवरी रेट बढ़ने लगा। दिल्ली में संक्रमित होने वालों से ज्यादा ठीक होने वालों की संख्या बढ़ने लगी।

फिर 24 घंटे के अंदर हजार से ज्यादा केस
लेकिन बीते दस दिनों से दिल्ली में फिर 24 घंटे के अंदर हजार से ज्यादा केस आने लगे हैं। वहीं बीते 3 दिन देखें तो 24 अगस्त को दिल्ली में 1061 केस सामने आए, 25 अगस्त को 1544 केस सामने आए और 26 अगस्त को 1693 केस सामने आए। इसी प्रकार से अप्रैल-मई के बीच में दिल्ली में संक्रमितों की संख्या बढ़ी थी। और कोरोना ने दिल्ली में स्थिति को भयावह कर दिया था।

सीएम केजरीवाल ने की आपात बैठक
कोरोना के मामलों को बढ़ता देख दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के साथ अन्य आला अधिकारियों की बुधवार को आपात बैठक बुलाई। इस बैठक के बाद सीएम केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दी कि दिल्ली में टेस्टिंग डबल की जाएगी।

दिल्ली में 1.65 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित
यहां बुधवार को 24 घंटों में कोरोना के 1693 नए मामले सामने आए हैं और एक दिन में 17 मरीजों की जान गई है। इसके साथ ही राजधानी में संक्रमण के कुल मामले 1 लाख 65 हजार 764 हो गए हैं। संक्रमण के कुल मामलों में सक्रिय मामलों की संख्या 12,520 है। वहीं 1,48,897 लोग कोरोना को मात देकर ठीक हो चुके हैं। यहां अब तक 4,347 लोगों की जान जा चुकी है।

कोरोना से ज्यादा उत्तराखंड और ताहिर पर है केजरीवाल सरकार का ध्यान-बीजेपी

जब दिल्ली सरकार कोरोना की बढ़ती रफ्तार पर ब्रेक लगाने में नाकाम रही, तो केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कमान संभाली। उनके नेतृत्व में कोरोना को नियंत्रित करने में काफी सफलता मिली। खुद केजरीवाल ने माना कि लगातार डेढ़ महीने तक दिन-रात मेहनत कर केस को बढ़ने से रोक लिया गया। दिल्ली बीजेपी ने आरोप लगाया है कि अमित शाह ने दिल्ली में स्थिति को काबू में लाकर सीएम केजरीवाल के हाथों में दिया था, लेकिन सीएम केजरीवाल अपने प्रचार-प्रसार, उत्तराखंड चुनाव और दंगाई ताहिर को बचाने में ज़्यादा व्यस्त हैं। एक बार फिर केजरीवाल ने जनता को उनके हाल पर छोड़ दिया है।

Leave a Reply