Home समाचार दिल्ली हाईकोर्ट ने फिर लगाई केजरीवाल सरकार को फटकार, बंद पड़े अस्पताल...

दिल्ली हाईकोर्ट ने फिर लगाई केजरीवाल सरकार को फटकार, बंद पड़े अस्पताल में दिखाए थे 150 बेड खाली

894
SHARE

दिल्ली हाईकोर्ट ने एक बार फिर केजरीवाल सरकार को फटकार लगाई है। फटकार के बाद दिल्ली सरकार के वकील को अदालत से माफी मांगनी पड़ी। असल में अरविंद केजरीवाल सरकार ने दो दिन पहले दावा किया था कि द्वारका स्थित इंदिरा गांधी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में कोरोना मरीजों के लिए इलाज शुरू हो गया है। दिल्ली सरकार के एप पर भी बताया जाने लगा कि अस्पताल में 150 बेड खाली है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि केजरीवाल सरकार के दावे के बावजूद इंदिरा गांधी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल चालू नहीं हुआ था। मरीज एप पर बेड खाली होने की जानकारी होने के बाद वहां पहुंचने लगे, लेकिन अस्पताल बंद होने के कारण उन्हें वापस लौटना पड़ा। कोरोना मरीजों के साथ उनके परिजनों को भी काफी परेशानी की सामना करना पड़ा।

दिल्ली सरकार ने कहा था कि इंदिरा गांधी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल शनिवार से कोविड अस्पताल के रूप में काम करने लगेगा। सरकारी आदेश में यह भी कहा गया था कि अस्पताल में शुरू में 250 बिस्तर होंगे जिसे बाद में बढ़ा दिया जाएगा। ऐसे में अस्पताल चालू नहीं होने पर दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार को फटकार लगाते हुए इसपर जवाब मांगा। अदालत ने कहा कि दो दिन पहले सारे अखबारों में छपा कि यह अस्पताल शुरू हो गया है और दो दिन बाद भी इसके सारे बेड खाली पड़े हैं।

अदालत ने फटकार लगाते हुए कहा कि आपने कोर्ट को गलत जानकारी क्यों दी? जिसके बाद दिल्ली सरकार के वकील ने माफी मांगते हुए कहा कि दोबारा ऐसा नहीं होगा। वकील ने कहा कि ऐसा एसओ सर्टिफिकेट मिलने में देरी की वजह से ऐसा हुआ और दावा किया कि आज यह अस्पताल शुरू हो जाएगा।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की लापरवाही का खामियाजा आज दिल्ली की जनता भुगत रही है। दिल्ली हाई कोर्ट ने पिछले दिनों भी केजरीवाल सरकार को फटकार लगाई थी। हाई कोर्ट ने कहा कि दिल्ली के प्रमुख अरविंद केजरीवाल खुद एक प्रशासनिक अधिकारी रहे हैं, क्या उन्हें नहीं पता कि ये चीजें कैसे काम करती हैं। हाईकोर्ट ने कहा था कि दिल्ली के लोगों को समय पर ऑक्सीजन मिले, इसके लिए दिल्ली सरकार अपना प्लांट क्यों नहीं लगाती है। ऑक्सीजन की कमी को लेकर केजरीवाल सरकार लताड़ लगाते हुए दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि अगर सभी राज्य अपने लिए टैंकर अरेंज कर रहे हैं और आपके पास टैंकर नहीं तो आप क्यों ऐसा नहीं करते।

Leave a Reply