Home समाचार हिन्दू विरोधियों का जमावड़ा है AAP, गुजरात के प्रदेश अध्यक्ष इटालिया का...

हिन्दू विरोधियों का जमावड़ा है AAP, गुजरात के प्रदेश अध्यक्ष इटालिया का विवादित बोल- सत्यनारायण और भागवत कथा फालतू, हिजड़ों की तरह बजाते हैं ताली

462
SHARE

जब पार्टी का मुखिया हिन्दू विरोधी मानसिकता से ग्रसित हो तो उस पार्टी में शामिल नेताओं से हिन्दुओं के मामले में किसी बेहतर की उम्मीद नहीं की जा सकती है। आम आदमी पार्टी में हिन्दू मान्यताओं और परंपराओं का अपमान करने वाले नेताओं की भरमार है। इसमें गुजरात इकाई के अध्यक्ष गोपाल इटालिया का एक और नाम शामिल हो गया है। इटालिया का एक पुराना वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें उन्हें हिन्दू परंपराओं और मान्यताओं का अपमान करते हुए देखा जा सकता है।

वायरल वीडियो में AAP नेता कह रहे हैं, “मैं जो कहता हूं अगर वो आपको सही नहीं लगे तो मुझे ब्लॉक कर दो क्योंकि मुझे आपकी जरूरत नहीं। लोग सत्यनारायण कथा और भागवत कथा जैसी अवैज्ञानिक और फालतू की चीजों पर पैसा और समय बर्बाद कर देते हैं। इसके बाद भी लोगों को यह नहीं पता चलता कि उन्हें ऐसा करके क्या हासिल हुआ। वे दूसरों का समय भी बर्बाद कर देते हैं। अगर हम 5 पैसे भी ऐसी फालतू चीजों पर खर्च कर देते हैं तो हमें मनुष्य की तरह जीने का अधिकार भी नहीं है।”

हिन्दू मान्यताओं का अपमान करते हुए इटालिया ने कहा कि जो इन सत्संग और कथा में शामिल होते हैं वो हिजड़ों के जैसे तालियां बजाते हैं। उन्होंने कहा, “मुझे ऐसे लोगों पर शर्म आती है। जो मैं कहता हूं वह आपको अगर अच्छा न लगे तो मुझे ब्लॉक कर दीजिए। लेकिन हमें उनकी जरूरत नहीं है जो संस्कृति और प्रथाओं के नाम पर हिजड़ों की तरह ताली बजाते हैं। कुछ साधु स्टेज से फालतू बातें करेंगे और हम हिंजड़ों की तरह ताली बजाएंगे।”

इटालिया का एक और वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें इटालिया ने दावा किया कि अमीर व्यापारी कथा और सत्संग के नाम पर लोगों से पैसे लूटते हैं। इटालिया ने सवाल किया, “ये कथाकार सिर्फ सूरत में ही कथाएं क्यों करते हैं? अगर तुम इतने ही बड़े हो तो जाकर सीमा पर कथा करो। पाकिस्तान और बांग्लादेश सीमा पर जाकर कथा करो लेकिन यहाँ के लोगों को छोड़ दो।”

यह पहली बार नहीं है जब किसी आम आदमी पार्टी के नेता ने हिन्दू मान्यताओं का अपमान किया हो। खुद AAP सुप्रीमो अरविन्द केजरीवाल किसी से पीछे नहीं है। उनका एक ट्वीट भी वायरल हुआ था जिसमें उन्होंने हिंदुओं के पवित्र चिह्न का अपमान किया था। केजरीवाल ने एक फोटो पोस्ट किया था जिसमें यह दिखाया गया था कि हिंदुओं के पवित्र चिह्न स्वास्तिक जैसे एक निशान के पीछे एक आदमी झाड़ू लेकर दौड़ रहा है।

इसके अलावा अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा था, “विवेक तिवारी तो हिंदू था? फिर उसको इन्होंने क्यों मारा? भाजपा के नेता पूरे देश में हिंदू लड़कियों का रेप करते घूमते हैं। अपनी आंखों से पर्दा हटाइए। भाजपा हिंदुओं की हितैषी नहीं है। सत्ता पाने के लिए अगर इन्हें सारे हिंदुओं का कत्ल करना पड़े तो यह दो मिनट भी नहीं सोचेंगे।”

आइए देखते हैं केजरीवाल एंड कंपनी ने कब-कब भगवान श्रीराम का अपमान किया…

13 जून, 2021 : AAP के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने राम मंदिर ट्रस्ट पर जमीन खरीद में घोटाले का आरोप लगाया।

7 अगस्त, 2020 : संजय सिंह ने आरोप लगाया था कि राम मंदिर भूमि पूजन से दलितों को दूर रखा गया था।

नवंबर 2019 : केजरीवाल कैबिनेट के मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने भगवान राम और भगवान कृष्ण के अस्तित्व पर ही सवाल उठा दिया था।

दिसंबर 2018 : दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने राम मंदिर की जगह विश्वविद्यालय का निर्माण कराने का सुझाव दिया था।

नवंबर 2018 : अरविंद केजरीवाल ने राममंदिर विवाद पर कहा कि अगर जवाहरलाल नेहरू ने स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया के बजाय मंदिर बनाया होता, तो भारत आगे नहीं बढ़ता।

Leave a Reply