Home समाचार कैप्टन अमरिंदर का हरीश रावत पर निशाना, कहा- सिद्धू ने खुलकर किया...

कैप्टन अमरिंदर का हरीश रावत पर निशाना, कहा- सिद्धू ने खुलकर किया मेरा अपमान

129
SHARE

पंजाब कांग्रेस का घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। कैप्टन अमरेन्द्र सिंह के ऐलान-ए-जंग के बाद वार-पलटवार का दौर शुरू हो चुका है। अमरिंदर सिंह ने पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत पर पलटवार करते हुए कहा कि पूरी दुनिया ने मेरा अपमान होते देखा इसके बाद भी रावत ऐसा दावा कर रहे हैं कि अमरिंदर सिंह का अपमान नहीं हुआ है। उन्होंने मुझे पार्टी नेतृत्व के रुख के बारे में अंधेरे में रखा। उन्होंने आज जिस भाषा का इस्तेमाल किया वह अपमान नहीं तो क्या है।

अमरिंदर ने सवाल किया, ‘अगर पार्टी की मेरा अपमान करने की मंशा नहीं थी तो क्यों नवजोत सिंह सिद्धू को खुलकर सोशल मीडिया और अन्य सार्वजनिक मंचों पर महीनों तक मेरा अपमान करने की छूट मिली। क्यों पार्टी ने सिद्धू के नेतृत्व वाले विद्रोहियों को मेरे अधिकार को चुनौती देने को फ्री हैंड दिया?’ मुख्यमंत्री पद छोड़ने से तीन हफ्ते पहले मैंने सोनिया गांधी के समक्ष इस्तीफे की पेशकर की थी। उस समय उन्होंने मना कर दिया। इसके बाद उन्हें कांग्रेस विधायक दल की बैठक से कुछ घंटे पहले सीएम पद से इस्तीफा देने को मजबूर किया गया। कैप्टन ने कहा कांग्रेस विधायक दल की बैठक निश्चित रूप से मुझे हटाने के लिए बुलाई गई थी। 

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि उनकी धर्मनिरपेक्षता पर मेरे सबसे बड़े आलोचक भी संदेह पैदा नहीं कर सकते। मेरे लिए जिस तरह की स्थितियां पैदा की गई यह मेरे लिए अपमानजनक रहा। यह स्पष्ट हो गया था कि जिस पार्टी की मैंने निष्ठापूर्वक वर्षों सेवा की उसे अब मुझ पर भरोसा नहीं रहा। उन्होंने कहा कि रावत ने खुद उनसे मिलने के बाद सार्वजनिक रूप से कहा था कि वह 2017 के चुनावी वादों पर अपनी सरकार के ट्रैक रिकार्ड से संतुष्ट हैं। पंजाब के कांग्रेस प्रभारी ने हाल ही में 1 सितंबर को स्पष्ट रूप से कहा था कि 2022 का चुनाव उनके (कैप्टन अमरिंदर सिंह) नेतृत्व में लड़ा जाएगा और आलाकमान का उन्हें बदलने का कोई इरादा नहीं है। तो अब कैसे हरीश रावत यह दावा कर सकते हैं कि पार्टी नेतृत्व मुझसे असंतुष्ट था, और अगर वे थे, तो उन्होंने जानबूझकर मुझे अंधेरे में क्यों रखा।

गौरतलब है कि पंजाब प्रभारी हरीश रावत ने कैप्टन अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए कहा था कि हाल ही के कैप्टन के बयान ऐसे हैं जैसे वे किसी दबाव में हैं। उन्होंने कहा कि इन रिपोर्टों में कोई सच्चाई नहीं है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह का पंजाब कांग्रेस द्वारा अपमान किया गया था। रावत ने कहा कि सहयोगियों और पार्टी नेतृत्व के लगातार याद दिलाने के बावजूद कैप्टन अमरिंदर बरगाड़ी, ड्रग्स और बिजली जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर अपने वादों को निभाने में विफल रहे। कम से कम पांच बार मैंने कैप्टन साहब के साथ इन मुद्दों पर चर्चा की लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। 

 

 

Leave a Reply