Home समाचार अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के गुंडे छात्रों की धमकी, सीएए का समर्थन करने...

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के गुंडे छात्रों की धमकी, सीएए का समर्थन करने पर लड़कियों को पीतल का हिजाब पहनाने की धमकी

845
SHARE

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) एक बार फिर विवादों में है। इंजीनियरिंग कॉलेज की एक हिन्दू छात्रा ने अपने ट्विट में लिखा कि हिंदू लड़कियों को एएमयू के हॉस्टल में जबरदस्ती खुद को ढक कर रखने का दबाव डाला जाता है और धमकी दी जाती है। लड़की के इस ट्विट से सवाल उठा है कि क्या एएमयू में शरियत के हिसाब से शिक्षा दी जाती है ? क्या गैर-मुस्लिमों को अपने धर्म के अनुसार रहने की आजादी नहीं है? क्या एएमयू के परिसर में दाखिल होते ही धर्मनिरपेक्षता दम तोड़ देती है? 

गैर-मुस्लिम छात्राओं को पर्दे में रहने का दबाव  

दरअसल बुलंदशहर की रहने वाली एक हिन्दू छात्रा ने अपने ट्विटर हैंडल पर इस दबाव के खिलाफ ट्विट किया। उसने लिखा, ‘एक और बात हिंदू लड़कियों को एएमयू हॉस्टल में खुद को कवर करने के लिए मजबूर किया जाता है। भारतीय शिक्षा हमें कवर रहने के लिए सिखा रही है अन्यथा यह हमारे पहनावे किसी आदमी को उत्तेजित करेंगे।’ 

छात्र ने दी पीतल का हिजाब पहनाने की धमकी

इस ट्वीट के बाद छात्रा एएमयू के छात्रों के निशाने पर आ गई। एएमयू के एक छात्र ने धमकी भरा जवाब दिया। उसने लिखा, ‘कौन से हॉस्टल में आपको नंगा घुमने से मना किया जा रहा है। इंशाअल्लाह आपको भी हिजाब पहनाया जाएगा, वह भी पीतल का।’ इसके बाद कई छात्रों ने विवादित टिप्पणियां कीं।

आरोपी छात्र के खिलाफ मामला दर्ज

इसके बाद डरी हुई छात्रा ने मामले में एएमयू प्रशासन से लेकर पुलिस को शिकायत भेजी। छात्रा ने अलीगढ़ के एसएसपी को छात्र के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए एक शिकायत पत्र दिया, जिसके बाद पुलिस ने थाना सिविल लाइंस में आर्किटेक्चर के छात्र राहबर दानिश के खिलाफ आईटी एक्ट की धारा में मुकदमा दर्ज कर लिया। हिन्दू छात्रा के इस मैसेज के बाद कैम्पस में राजनीति तेज हो गई है।

CAA-NRC का समर्थन करने पर मिले अभद्र मैसेज

एएमयू में छात्रा ने SSP को लिखी चिट्ठी में बताया है कि वो सोशल मीडिया पर सिर्फ अपने विचार साझा करती है। इस पर कुछ लोग कमेंट करके उसका विरोध करते हैं। पिछले दिनों नागरिकता संशोधन कानून (CAA), NRC के समर्थन में भी छात्रा ने पोस्ट डाली थी, तब भी उन्हें अभद्र मैसेज भेजे गए। फरवरी में भी छात्रा ने कॉलेज में घुसे बाहरी युवकों को लिखा था कि विश्वविद्यालय की स्वतंत्रता छीनने का प्रयास किया जा रहा है।

हिजाब पहनने के लिए दबाव बनाना गलत- प्रोफेसर

इस मामले पर एएमयू के प्रोफेसर मुफ्ती जाहिद ने कहा कि कोई मुसलमान छात्र एएमयू में किसी भी मुस्लिम लड़की को भी अखलाकी तौर पर कह सकता है कि ऐसे कपड़े ना पहने, जिससे कि कोई दिक्कत हो। यह हिंदुस्तान की तहजीब है। अगर कोई मुसलमान लड़का किसी गैर मुस्लिम लड़की से हिजाब का इस्तेमाल करने की बात कह रहा है तो ये गलत है।

 

.

Leave a Reply