Home समाचार ममता के गुंडाराज में महिलाएं असुरक्षित, पिता और चाचा को बचाने गई...

ममता के गुंडाराज में महिलाएं असुरक्षित, पिता और चाचा को बचाने गई लड़की को टीएमसी के गुंडों ने बेरहमी से पीटा, नंदीग्राम में बीजेपी कार्यकर्ता की पत्नी से रेप

904
SHARE

पश्चिम बंगाल में सियासी संग्राम जारी है। ममता बनर्जी महिलाओं का समर्थन हासिल करने के लिए कोई मौका नहीं चूक रही है। ममता नंदीग्राम में महिलाओं के सम्मान की बात कर रही थी, इसी बीच टीएमसी के गुंडे बेटियों और महिलाओं को भी निशाना बना रहे थे। इससे राज्य में महिला सुरक्षा को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं। जहां उत्तर 24 परगना जिले के दमदम नगरपालिका के काशीपुर में टीएमसी के गुंडों ने एक लड़की की बेरहमी से पिटाई कर दी, वहीं नंदीग्राम में एक बीजेपी कार्यकर्ता की पत्नी के साथ रेप करने का मामला सामने आया।   

बीजेपी की बंगाल ईकाई के ट्विटर अकाउंट से भी शेयर किए गए वीडियो में दमदम की एक लड़की आपबीती सुना रही है। उसकी आंख के पास आई चोटें भी वीडियो में साफ दिख रही हैं। घटना से संबंधित सवाल पूछे जाने पर वह कहती है कि कई लोग मेरे चाचा को मार रहे थे। जब पापा को ये बात पता चली तो वह उन्हें बचाने गए। उन्हें भी पीटा गया। परिवार को पता चला तो हम भी उन लोगों को बचाने गए। सबने हमें भी पीटा।

पीड़िता का वीडियो शेयर करते हुए बीजेपी ने कहा, “टीएमसी की बर्बरता अपने चरम पर है। इस समय उन्होंने इस नवयुवती को पीटा क्योंकि वह अपने पिता को बचाने गई थी, जिन्हें तृणमूल के गुंडे मार रहे थे। सवाल जो अब दीदी से पूछा जाना चाहिए- क्या ये लड़की बंगाल की बिटिया नहीं है?”

उधर पूर्व मेदिनीपुर जिले के नंदीग्राम ब्लॉक नंबर 2 के टेंटुल बारी इलाके में एक बीजेपी कार्यकर्ता की पत्नी के साथ बलात्कार के बाद नहर में फेंक दिया गया। बीजेपी कार्यकर्ता के मुताबिक सोमवार यानि 29 मार्च, 2021 को वे दिन भर शुभेंदु अधिकारी के साथ कार्यक्रमों में व्यस्त थे। जब वह कार्यक्रम निपटाकर घर लौटे तो उन्हें अपनी पत्नी आसपास नहीं दिखीं। उन्होंने छानबीन की तो घर के पास की नहर में वह बेसुध अवस्था में पड़ी थीं। उनकी साड़ी से उनके हाथ, पांव, मुंह बंधे हुए थे। बड़ी मुश्किल से आसपास के लोगों की मदद से उन्हें नहर से निकाला गया।

इस घटना पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि यहां पहुंचने के बाद, मुझे एक दुखद समाचार मिला। ममता बनर्जी जिस स्थान पर रह रही हैं, उसके 5 किलोमीटर के दायरे में एक महिला के साथ बलात्कार किया गया। यदि किसी महिला के साथ उस समय बलात्कार किया जा सकता है जब वह क्षेत्र में मौजूद हों, तो महिलाएं कैसे सकुशल और सुरक्षित रह सकती हैं?

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नंदीग्राम के सोना चूरा में कहा कि मैं किसी अन्य विधानसभा क्षेत्र से भी चुनाव लड़ सकती थी लेकिन मैंने नंदीग्राम को चुना। मैंने ऐसा यहां की माताओं और बहनों के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए किया। नंदीग्राम के आंदोलन को सलामी देने के लिए मैंने सिंगुर की जगह इसे चुना। हैरानी की बात यह है कि महिलाओं के सम्मान की बात करने के दौरान ममता बनर्जी ने इस घटना पर कोई प्रतिक्रिया देना जरूरी नहीं समझा। 

गौरतलब है कि इससे पहले 26 फरवरी, 2021 को टीएमसी के गुंडों ने रात में बीजेपी कार्यकर्ता गोपाल मजूमदार के घर पर हमला कर दिया था और कार्यकर्ता की बुजुर्ग मां की बेरहमी से पिटाई की थी। इस घटना के एक महीने बाद 29 मार्च, 2021 को बुजुर्ग महिला शोवा मजूमदार की मौत हो गई। बीजेपी कार्यकर्ता की बुजुर्ग मां करीब एक महीने तक जिंदगी के लिए संघर्ष करती रही और आखिर में दम तोड़ दिया। 

बंगाल की मुख्यमंत्री एक महिला है, लेकिन राज्य में महिला कितनी सुरक्षित है, इसका अंदाजा पूर्व में बीजेपी के महिला नेताओं और कार्यकर्ताओं पर हुए हमले से लगाया जा सकता है।…. 

  • दक्षि‍ण 24 परगना जिले में बीजेपी नेता रूपा गांगुली पर टीएमसी के गुंडों ने हमला किया, जिसमें वो गंभीर रूप से घायल हो गईं।
  • पूर्वी मेदिनीपुर में बीजेपी नेता भारती घोष के काफिले पर टीएमसी के गुंडों ने हमला किया, जिसमें बीजेपी के कई कार्यकर्ता घायल हुए।
  • दक्षिण 24 परगना जिले में टीएमसी के गुंडों ने बीजेपी महिला मोर्चा की नेता राधारानी नस्कर को गोली मारकर गंभीर से घायल कर दिया।
  • हावड़ा में ममता बनर्जी का मीम पोस्‍ट करने पर बीजेपी युवा मोर्चा की महिला नेता प्रियंका शर्मा को गिरफ्तार किया गया।
  • पश्चिमी मेदिनीपुर के डेबरा में टीएमसी के गुंडों ने आदिवासी महिला और बीजेपी कार्यकर्ता मीना कराई की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी।
  • फरवरी 2020 में हल्दिया में मां और बेटी के साथ सद्दाम हुसैन और मंजूर मलिक नाम के दरिंदों ने रेप के बाद जलाकर मार डाला।
  • अप्रैल 2018 में दक्षिण 24 परगना जिले में टीएमसी के गुंडों ने बीजेपी की महिला कार्यकर्ता की पिटाई की और निर्वस्त्र करने की कोशिश की।
  • जुलाई 2017 में जारी एक गैर-सरकारी संस्था की रिपोर्ट के मुताबिक मर्शिदाबाद जैसे मुस्लिम बहुल जिलों में हिंदू महिलाओं को शिकार बनाया जा रहा है।

Leave a Reply