Home समाचार वर्षांत विशेष : सियासी घटनाक्रमों से भरपूर रहा वर्ष 2020, बीजेपी को...

वर्षांत विशेष : सियासी घटनाक्रमों से भरपूर रहा वर्ष 2020, बीजेपी को मिली महत्वपूर्ण राजनीतिक सफलता

260
SHARE

वर्ष 2020 राजनीतिक घटनाक्रमों से भरपूर रहा। कोरोना संकट के बावजूद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता देश भर में लोगों के सर चढ़कर बोलती रही। चाहे लोकसभा चुनाव हो, विधानसभा चुनाव या फिर स्थानीय निकाय चुनाव देश में मोदी लहर कायम रहा। इसलिए बीजेपी की राजनीतिक सफलता का सिलसिला वर्ष 2020 में भी जारी रहा। जहां बिहार में एनडीए की सरकार बनी, वहीं मध्य प्रदेश में भी बीजेपी की वापसी हुई। इस दौरान विधानसभा के हुए उपचुनावों में भी बीजेपी ने शानदार प्रदर्शन किया। इसके अलावा विभिन्न राज्यों में हुए नगर निकायों और पंचायत चुनावों में बीजेपी ने अच्छी सफलता हासिल की। इस साल राज्यसभा में भी बीजेपी ने अपनी स्थिति मजबूत की और एनडीए बहुमत के करीब पहुंच गया। यहां पर हम उन्हीं प्रमुख राजनीतिक सफलताओं पर एक नजर डाल रहे हैं।

  • बीजेपी ने अरुणाचल प्रदेश स्थानीय निकाय चुनावों में 80 प्रतिशत सीटें जीतकर इतिहास रच दिया।
  • अरुणाचल प्रदेश में स्थानीय निकाय चुनावों में बीजेपी ने कुल 8390 सीटों में से 6661 सीटें जीतने में सफल रही।
  • ग्राम पंचायत चुनावों में 8125 सीटों में से 6458 सीटें जीतकर बीजेपी ने इतिहास रच दिया।
  • बीजेपी ने पासीघाट म्युनिसिपल काउंसिल चुनाव में 8 में से 6 सीटें जबकि ईटानगर म्युनिसिपल कॉरपोरेशन चुनाव में 20 में से 10 सीटें जीती।
  •  जम्मू-कश्मीर डीडीसी चुनाव में बीजेपी सबसे ज्यादा 74 सीटें जीत कर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी।
  • डीडीसी चुनाव की सबसे खास बात यह रही कि भाजपा को नेशनल कांफ्रेंस, पीडीपी और कांग्रेस को मिलाकर पाए गए वोट से ज्यादा वोट मिले।
  • राजस्थान के 21 जिलों के पंचायत समिति और जिला परिषद सदस्यों के लिए हुए चुनावों में बीजेपी ने सत्ताधारी कांग्रेस को जबरदस्त झटका दिया।
  • हैदराबाद नगर निकाय चुनाव में असदुद्दीन ओवैसी के मजबूत गढ़ में 2016 में सिर्फ चार सीटें हासिल करने वाली बीजेपी ने इस बार 150 में से 48 सीटों पर अपना परचम लहरा दिया।
  • असम में बोडोलैंड क्षेत्रीय परिषद (BTC) में बीजेपी गठबंधन ने बहुमत हासिल किया। साल 2015 के बीटीसी चुनाव में सिर्फ एक सीट जीतने वाली बीजेपी ने इस बार नौ सीटों पर जीत दर्ज कर बड़ी बढ़त बनाई।
  • बिहार विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 110 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे।
  • बिहार में बीजेपी को 19.5 प्रतिशत वोट शेयर और 67 प्रतिशत की शानदार स्ट्राइक रेट के साथ 74 सीटों पर सफलता मिली
  • 11 राज्यों के 59 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनावों में बीजेपी ने परचम लहराते हुए 40 सीटों पर जीत हासिल की।
  • मध्य प्रदेश में 28 सीटों के लिए हुए उपचुनाव में बीजेपी के 19 उम्मीदवार चुनाव जीत गए।
  • गुजरात में बीजेपी ने आठ सीटों पर हुए उपचुनावों में सभी पर जीत दर्ज की।
  • उत्तर प्रदेश में सात सीटों पर हुए उपचुनावों में बीजेपी छह सीटों पर जीत हासिल की।
  • पूवोर्त्तर राज्य मणिपुर में भी पांच सीटों पर हुए उपचुनाव में बीजेपी ने चार पर जीत हासिल की।
  • कनार्टक में दो सीट पर हुए उपचुनाव में सत्तारूढ़ बीजेपी ने दोनों सीटें पर बाजी मार ली।
  • तेलंगाना में बीजेपी का कोई मज़बूत जनाधार नहीं है, वहां भी एक सीट के लिए हुए उपचुनाव में बीजेपी को सफलता मिली।

राज्यसभा में मजबूत हुआ एनडीए

राज्यसभा के इतिहास में पहली बार एनडीए का आंकड़ा न सिर्फ सौ के पार हुआ, बल्कि बहुमत के करीब पहुंच गया। बीजेपी राज्यसभा में पहली बार इतनी ताकतवर बनी। राज्यसभा में कुल 245 सदस्य हैं, जिनमें से एनडीए के पास 104 सदस्य हैं। बीजेपी के सबसे ज्यादा 93 सदस्य हैं, जबकि कांग्रेस की संख्या घटकर 37 पहुंच गई है। राज्यसभा में एनडीए के मजबूत होने का ही नतीजा है कि मोदी सरकार अपना हर बिल पास कराने में कामयाब रही। विपक्ष के विरोध के बावजूद मोदी सरकार कृषि क्षेत्र और अन्य महत्वपूर्ण कानूनों को कोरोना काल में भी पास कराने में कामयाब रही।

Leave a Reply