Home समाचार दिल्ली में पेट्रोल-डीजल की कीमत में भारी बढ़ोतरी पर चुप है ‘तथाकथित...

दिल्ली में पेट्रोल-डीजल की कीमत में भारी बढ़ोतरी पर चुप है ‘तथाकथित सेक्युलर गैंग’

1016
SHARE

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के चुनाव के मद्देनजर जनता को बिजली, पानी और फ्री बस सेवा समेत कई घोषणाएं की लेकिन वोट लेने के बाद अब केजरीवाल दिल्ली की जनता के जेब काटने पर उतारू हैं। सोमवार को शराब की कीमत में 70 फीसदी बढ़ोतरी करने के बाद दिल्ली सरकार ने मंगलवार को पेट्रोल और डीजल की कीमत में भारी इजाफा कर दिया। दिल्ली में पेट्रोल की कीमत में एक रुपए 67 पैसे और डीजल की कीमत में 7 रुपये 10 पैसे की बढ़ोतरी की गई है।

राजस्व की कमी के कारण लिया फैसला

कोरोना वायरस की वजह से अर्थव्यवस्था पर पड़े असर और घटते राजस्व को देखते हुए दिल्ली सरकार ने पेट्रोल और डीजल के दामों में बढ़ोतरी का बड़ा फैसला लिया है। दिल्ली में मंगलवार से पेट्रोल के दाम 1.67 रुपये और डीजल के दाम 7.10 रुपये प्रति लीटर बढ़ाए गए हैं। राज्य सरकार की ओर से पेट्रोल और डीजल पर वैट बढ़ा दिया गया है जिसके चलते दामों में ये वृद्धि हुई है। पेट्रोल पर वैट को बढ़ाकर 27 फीसदी से 30 फीसदी कर दिया गया है, जबकि डीजल पर 16.77 फीसदी से बढ़ाकर 30 फीसदी कर दिया गया है।

दिल्ली में अब इस रेट में मिलेगा पेट्रोल-डीजल

दिल्ली में अब पेट्रोल की कीमत 71.26 प्रति लीटर हो गई है, जबकि डीजल की कीमत बढ़कर 69.29 प्रति लीटर हो गई है। दरअसल, कोरोना वायरस संकट की वजह से बीते करीब 40 दिनों से सबकुछ लॉकडाउन है, ऐसे में सरकार को राजस्व का काफी नुकसान उठाना पड़ा है। हाल ही में दिल्ली के मुख्यमंत्री ने भी कहा था कि सरकार का अप्रैल का रेवेन्यू 3500 करोड़ रुपये से घटकर 300 करोड़ रुपये ही रह गया है। साफ है कि सरकार की कमाई पर पड़े असर का बोझ अब आम जनता पर भी पड़ेगा।

दिल्ली सरकार के इस फैसले से महंगाई बढ़ने की संभावना है। लेकिन सबसे आश्चर्य की बात ये है कि पेट्रोल और डीजल की कीमत में भारी बढ़ोतरी के बाद भी कांग्रेसी नेता, सेक्युलर पत्रकार और वामपंथी नेता चुप्पी साधे बैठे हैं।

 

Leave a Reply