Home समाचार वन इंडिया, वन हेल्थ अभियान को जन-जन तक पहुंचाना सरकार का लक्ष्य...

वन इंडिया, वन हेल्थ अभियान को जन-जन तक पहुंचाना सरकार का लक्ष्य : प्रधानमंत्री मोदी 

474
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार सुबह दस बजे केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा आयोजित एक वेबिनार का उद्घाटन किया। यह वेबिनार बजट में स्वास्थ्य सेक्टर के लिए किए गए प्रावधानों एवं उनके क्रियान्वयन पर आधारित है। इस अवसर पर अपने संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जिस प्रकार वन अर्थ वन हेल्थ की हम बात करते हैं उसी प्रकार देश में वन इंडिया वन हेल्थ अभियान को जन-जन तक पहुंचाने को हमारी सरकार ने अपना लक्ष्य निर्धारित किया है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष का बजट हेल्थकेयर सिस्टम को रिफॉर्म करने के प्रयासों को विस्तार देगा। उन्होंने कहा कि जब हेल्थ सेक्टर में समग्रता की बात करते हैं तो इसमें दो फैक्टर्स का समावेश कर रहे हैं।

हेल्थकेयर सिस्टम के रिफॉर्म का विस्तार है यह बजट 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वास्थ्य मंत्रालय के केंद्रीय बजट वेबिनार को संबोधित करते हुए कहा कि यह बजट बीते 7 साल से हेल्थकेयर सिस्टम को रिफॉर्म और ट्रांसफॉर्म करने के हमारे प्रयासों को विस्तार देता है। हमने अपने हेल्थकेयर सिस्टम में एक समग्र दृष्टिकोण को अपनाया है, आज हमारा फोकस हेल्थ पर तो है ही इसके अलावा, कल्याण पर भी है। उन्होंने कहा, ‘जब हम हेल्थ सेक्टर में समग्रता की बात करते हैं तो इसमें तीन फैक्टर्स का समावेश कर रहे हैं। पहला- आधुनिक चिकित्सा विज्ञान से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर और ह्यूमेन रिसोर्स का विस्तार. दूसरा- आयुष जैसी पारंपरिक भारतीय चिकित्सा पद्धति में अनुसंधान को प्रोत्साहन करना. तीसरा- आधुनिक और भविष्य की तकनीक के माध्यम से देश के हर व्यक्ति, हर हिस्से तक बेहतर और सस्ती स्वास्थ्य सेवा सुविधाएं पहुंचाना।’ पीएम ने कहा, ‘हमारा प्रयास है कि क्रिटिकल हेल्थकेयर सुविधाएं ब्लॉक स्तर, जिला स्तर और गांवों के नजदीक हों। इस इंफ्रास्ट्रक्चर को बनाए रखना और समय-समय पर अपग्रेड करना जरूरी है। इसके लिए प्राइवेट सेक्टर और दूसरे सेक्टर्स को भी ज्यादा ऊर्जा के साथ आगे आना होगा।’

देश में तेजी से चल रहा वेलनेस सेंटर्स का निर्माण 

हेल्थ सेक्टर के बारे में पीएम मोदी ने कहा, ‘प्राइमरी हेल्थकेयर नेटवर्क को सशक्त करने के लिए डेढ़ लाख हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स के निर्माण का काम भी तेजी से चल रहा है। अभी तक 85,000 से अधिक सेंटर्स रुटीन चेकअप, वैक्सीनेशन और टेस्ट की सुविधा दे रहे हैं। इस बार के बजट में इनमें मेंटल हेल्थकेयर की सुविधा भी जोड़ी गई है।’ उन्होंने कहा, कि जैसे-जैसे हेल्थ सर्विस की डिमांड बढ़ रही है। वैसे ही स्किल्ड हेल्थ प्रोफेशनल्स तैयार करने का प्रयास किया जा रहा है। इसलिए बजट में हेल्थ एजुकेशन और हेल्थकेयर से जुड़े ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट के लिए पिछले साल की तुलना में बड़ी वृद्धि की गई है।

भारतीय डिजिटल टेक्नोलॉजी का लोहा मान रही दुनिया 

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वैक्सीनेशन में कोविन जैसे प्लेटफॉर्म के माध्यम से हमारी डिजिटल टेक्नोलॉजी का लोहा पूरी दुनिया मान रही है। आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन, कंज्यूमर और हेल्थकेयर प्रोवाइडर के बीच एक आसान इंटरफेस उपलब्ध कराता है। इससे देश में उपचार पाना और देना, दोनों बहुत आसान हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि आयुष की भूमिका तो आज पूरी दुनिया भी मान रही है। हमारे लिए गर्व की बात है कि WHO भारत में अपना विश्व में अकेला ग्लोबल सेंटर ऑफ ट्रेडिशनल मेडिसिन शुरू करने जा रहा है।

Leave a Reply