Home समाचार बिहार में दिखने लगा जंगलराज का ट्रेलर, सरकार में आते ही दिखे...

बिहार में दिखने लगा जंगलराज का ट्रेलर, सरकार में आते ही दिखे तेज प्रताप के तेवर, शपथ ग्रहण के दौरान मीडिया वालों को RSS का बता कर धमकाया

445
SHARE

बिहार की जनता ने लालू यादव और उनके परिवार के जंगलराज से मुक्ति दिलाने के लिए नीतीश कुमार को राज्य का मुख्यमंत्री बनाया था। लेकिन नीतीश कुमार ने अपने स्वार्थ के लिए जनता की भावनाओं को दरकिनार कर आरजेडी से गठबंधन कर लिया। गठबंधन के ऐलान होते ही बिहार में जंगलराज रिटर्न का ट्रेलर दिखने लगा जब आज तक की महिला एंकर अंजना ओम कश्यप के खिलाफ आरजेडी समर्थकों ने नारेबाजी की। इसके बाद नीतीश कुमार के शपथ ग्रहण समारोह में भी आरजेडी विधायक और लालू यादव के बड़े लाल तेज प्रताप यादव पर सत्ता का नशा सर चढ़कर बोलने लगा। इस दौरान तेज प्रताप मीडिया वालों को RSS का बता कर धमकाते हुए नजर आए।

राजभवन में शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन किया गया था। नीतीश कुमार ने आठवीं बार मुख्यमंत्री और तेजस्वी यादव ने दूसरी बार उपमुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। बेटे तेजस्वी के शपथ समारोह में शामिल होने के लिए राबड़ी देवी भी राजभवन पहुंचीं। उनके साथ तेज प्रताप और तेजस्वी की पत्नी राजश्री भी मौजूद थीं। शपथ ग्रहण शुरू होने से ठीक पहले तेज प्रताप अपने तेवर में नजर आए। शपथ ग्रहण समारोह का कवरेज करने गए मीडिया वाले जब डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव की पत्नी से बात करने की कोशिश की तो तेज प्रताप भड़क गए। उन्होंने RSS का चैनल बता कर धमकाया। इसके बाद मीडिया कर्मियों को उनसे दूर रखने की कोशिश की गई।

गौरतलब है कि बिहार में सियासी उथल-पुथल के बीच मंगलवार (9 अगस्त, 2022) को पटना में मीडियकर्मियों का जमावड़ा लग गया था। इसी कड़ी में आजतक की सीनियर पत्रकार अंजना ओम कश्यप भी रिपोर्टिंग के लिए पटना पहुंची थीं, जहां राजद और जेडीयू के कार्यकर्ताओं ने उन्हें देखकर नारेबाजी शुरू कर दी। अंजना ओम कश्यप के खिलाफ अंजना मोदी मुर्दाबाद और गोदी मीडिया मुर्दाबाद के नारे लगाए। सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल हो गया है। लोगों ने कहा कि सरकार बदलते ही राज्य में जंगलराज की झलक दिखाई देने लगी।

बिहार आरजेडी की ओर से भी अंजना ओम कश्यप के खिलाफ नारेबाजी का वीडियो शेयर किया गया। इसको लेकर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। तमाम सोशल मीडिया यूजर्स पत्रकार अंजना के पक्ष में ट्वीट कर अपनी तीखी प्रतिक्रिएं दीं। इसी कडी में अनंत विजय नाम के एक युजर ने लिखा कि बेहद शर्मनाक ट्वीट है। इस सोच को बिहार ने पंद्रह साल झेला है। न उदाहरण की आवश्यकता है और न ही विज्ञान की। नाम ही काफ़ी है – राजद ।

Leave a Reply