Home समाचार ‘हिन्दुओं को गाली पाकिस्तान से प्यार’: राहुल गांधी के इशारे पर हो...

‘हिन्दुओं को गाली पाकिस्तान से प्यार’: राहुल गांधी के इशारे पर हो रहा खतरनाक खेला…!

534
SHARE

देश का दुश्मन पाकिस्तान…कश्मीर में आतंक फैलाने वाला पाकिस्तान… बेगुनाहों का खून बहाने वाला पाकिस्तान…भारत की बर्बाद के सपने देखने वाला पाकिस्तान…कंगाल पाकिस्तान के भिखारी प्रधानमंत्री का नाम इमरान खान। भारत के दुश्मन नंबर वन, इमरान खान को अपना बड़ा भाई बता रही है कांग्रेस। वोटों की राजनीति और मुसलमानों के तुष्टिकरण के लिए कांग्रेस किस हद तक जा सकती है, उसका ताजा उदाहरण है, पाकिस्तान के आर्मी चीफ बाजवा को गले लगाने वाले नवजोत सिद्धू का पाकिस्तान प्रेम। 

फिर छलका कांग्रेस नेता नवजोत सिद्धू का पाकिस्तान प्रेम 

कांग्रेस नेता नवजोत सिद्धू भारत-पाकिस्तान सीमा पार करते हुए करतारपुर साहिब गुरुद्वारा के दर्शन करने के लिए पहुंचे थे। लेकिन जैसे ही सिद्धू ने भारत की सीमा लांघी, उनका पाकिस्तान प्रेम उमड़ पड़ा, पाकिस्तान के भिखारी पीएम को अपना बड़ा भाई बताने लगे। इमरान खान की तारीफों में कसीदे गढ़ते हुए सिद्धू ने कहा इमरान खान उनके बड़े भाई हैं और उन्हें इमरान खान से बहुत प्यार मिला है।

‘इमरान बड़े भाई’ पर बीजेपी ने साधा कांग्रेस पर निशाना

इमरान खान ने ये बात उनके स्वागत के लिए पहुंचे पाकिस्तानी अधिकारियों से कही। अपने पाकिस्तान प्रेम पर सिद्धू को अब देश के लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है। 

नवजोत सिद्धू के खिलाफ सोशल मीडिया पर गुस्सा

इमरान खान को बड़ा भाई बताने वाले  नवजोत सिद्धू के बयान की सोशल मीडिया पर जम कर लानत मलानत हो रही है।

सोशल मीडिया पर सिद्धू के बयान के खिलाफ कमेंट की बाढ़ आ गई है, लोग इमरान बड़े भाई के उनके बयान के खिलाफ नाराजगी जता रहा है।  

पहले भी छलक चुका है सिद्धू का पाकिस्तान प्रेम 

पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष सिद्धू इसके पहले जब पाकिस्पतान पहुंचे थे , तो पाकिस्तानी आर्मी चीफ बाजवा को गले लगा कर विवाद में फंसे थे, लेकिन उन्होंने अपनी गलती से कोई सबक नहीं लिया। साल 2018 में सिद्धू इस्लामाबाद में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए थे। इस समारोह में ’ सिद्धू ने ‘हिंदुस्तान जीवे, पाकिस्तान जीवे!’ का भी नारा लगाया था।

कांग्रेस के पाकिस्तान प्रेम की कहानी कोई नई नहीं-जवाहर लाल नेहरू का पाकिस्तान प्रेम 

देशहित के नाम पर ढोंग करने वाली कांग्रेस के पाकिस्तान प्रेम की कहानी कोई नई है। कांग्रेस के सबसे बड़े नेता और देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने पाकिस्तान को दिल का टुकड़ा बताते हुए कहा था कि ‘हमारे पड़ोसी मुल्क है पाकिस्तान, जो एक हमारे टुकड़े हैं, हमारे दिल के आवाजों के टुकड़े हैं, कैसे हम सोचें उनसे लड़ना, ये तो अपने को नुकसान पहुंचाना है, अगर वो हिमाकत से समझें अदावत करना हमसे, तो वे अपने को नुकसान पहुंचाएंगे। ये अजीब रिश्ता है हिंदुस्तान का और पाकिस्तान का, अजीब रिश्ता की रंजिश भी हो, एक दूसरे के खिलाफ कभी-कभी कुछ गुस्सा भी चढ़े, लेकिन आखिर में वो रिश्ता इतना करीब का, हजारों बरस का कि कानूनों से वो नहीं मिट सकता है और अगर कोई जरा नुकसान हिंदुस्तान को हो, यकीनन पाकिस्तान को उसका नुकसान है और पाकिस्तान को हो तो हिंदुस्तान को, इसलिए हम चाहते हैं कि हम अमन से रहें दोस्ती से रहें पाकिस्तान से हमारे रिश्ते बढ़ें’

कांग्रेस की रणनीति पाकिस्तान से प्रेम, हिंदुत्व से नफरत

कांग्रेस नेता इमरान खान को बड़ा भाई बता रहे हैं, पाकिस्तान जीवे! का नारा लगा रहे हैं, लेकिन हिंदुत्व के खिलाफ बार-बार नफरत का इजहार कर रहे हैं। देखिए पाकिस्तान के प्रेम में डूबी पार्टी में हिन्दुत्व को बदनाम करने की लगी है होड़, अब राहुल गांधी ने कर दिया हिन्दू और हिन्दुत्व में बंटवारा

इस समय कांग्रेस पार्टी के नेताओं में हिन्दू और हिन्दुत्व को बदनाम करने की प्रतियोगिता चल रही है। इसमें हर नेता एक दूसरे से आगे निकलने की कोशिश में हिन्दू और हिन्दुत्व के खिलाफ अधिक से अधिक जहर उगलने में लगा है। सलमान खुर्शीद और राशिद अल्वी के विवादित बयान से उठा तूफान अभी शांत भी नहीं हुआ था कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने हिन्दुत्व के खिलाफ जहरीला बयान देकर इस तूफान को और प्रचंड बना दिया है। राहुल गांधी ने कांग्रेस की पुरानी ‘बांटो और राज करो’ की नीति का पालन करते हुए हिन्दू और हिन्दुत्व को ही विभाजित कर दिया है। कांग्रेस संगठन की ट्रेनिंग के राष्‍ट्रीय कार्यक्रम में राहुल ने पार्टी कार्यकर्ताओं को हिंदू धर्म और हिंदुत्‍व का फर्क समझाया। राहुल गांधी ने कहा कि हिंदुस्तान में 2 विचारधाराएं हैं, एक कांग्रेस पार्टी की विचारधारा और एक आरएसएस की विचारधारा। 

राहुल गांधी ने आगे कहा कि विचारधारा की जो लड़ाई थी वो फोकस्ड नहीं थी, लेकिन आज के हिंदुस्तान में विचारधारा की लड़ाई सबसे जरुरी लड़ाई हो गई है। ये जो विचारधारा है इसको हम कांग्रेस की विचारधारा कहते हैं और यह हमसे बहुत पुरानी है। बीजेपी हिंदुत्व की बात करती है। हम कहते हैं कि हिंदू धर्म और हिंदुत्व में फर्क है।

कांग्रेस नेता ने आगे कहा कि बीजेपी हिंदुत्व की बात करती है। हिंदू और हिंदुत्व में क्या फर्क है, क्या ये एक हो सकते हैं? अगर हैं तो इनका नाम क्यों एक जैसा नहीं है। ये सच में अलग हैं। क्या हिंदू धर्म में ये है कि सिख और मुस्लिम को पीटा जाए? हिंदुत्व में ये है। उन्होंने यह भी कहा कि जिस शक्ति को हम शिव कहते हैं वो इसका प्रतीक थे। कबीर, गुरुनानक, महात्मा गांधी बहुत सारे लोगों ने इस विचारधारा को अपनाया, और फैलाया। उनके भी अपने आदर्श हैं और हमारे भी।

इससे पहले कांग्रेस के ही एक और मुस्लिम नेता राशिद अल्व ने उत्तर प्रदेश के संभल में रामायण का एक प्रसंग सुनाते हुए जय श्रीराम कहने वालों की तुलना राक्षस से कर डाली। राशिद अल्वी ने कहा, “आजकल कुछ लोग जय श्री राम का नारा लगाकर देश के लोगों को गुमराह करते हैं, ऐसे लोगों से होशियार रहना चाहिए। आज जो जय श्री राम बोलते हैं, वे बिना नहाएं बोलते हैं। आज भी बहुत लोग जय श्री राम का नारा लगाते हैं, वे सब मुनि नहीं वे निसिचर घोरा है।”

इससे पहले सलमान खुर्शीद ने भी राहुल गांधी और राशिद अल्वी की तरह हिन्दू और हिन्दुत्व के प्रति अपनी नफरत को जाहिर किया था। खुर्शीद ने हाल ही में प्रकाशित अपनी एक नई किताब ‘सनराइज ओवर अयोध्या’ में हिंदुत्व की तुलना आतंकी संगठनों आईएसआईएस और बोको हराम जैसे कट्टरपंथी समूहों से की। सलमान खुर्शीद ने हिन्दू धर्म की सबसे बड़ी प्रेरणा गांधी द्वारा बताए गए सिद्धांतों को माना है। हिंदुत्व की राजनीति पर सलमान खुर्शीद का कहना है कि उनकी पार्टी में कुछ नेताओं को अल्पसंख्यक समर्थक छवि होने का पछतावा है। उनके अनुसार पार्टी का एक धड़ा पार्टी की पहचान जनेऊधारी के रूप में स्थापित करना चाहता है।

Leave a Reply