Home समाचार देखिए आंदोलनजीवी योगेंद्र यादव का इच्छाधारी रूप, ‘पॉलिटिकल कीड़ा’ ने पुराना वीडियो...

देखिए आंदोलनजीवी योगेंद्र यादव का इच्छाधारी रूप, ‘पॉलिटिकल कीड़ा’ ने पुराना वीडियो शेयर कर दिखाया आईना

602
SHARE

स्वराज अभियान के अध्यक्ष योगेंद्र यादव मौसम के अनुसार रंग बदलने में माहिर है। कभी सलीम बनकर तो, कभी अर्थशास्त्री और किसान बनकर अपने बहुरूप का प्रदर्शन करते रहते हैं। ‘पॉलिटिकल कीड़ा’ ने एक पुराना वीडियो शेयर कर ‘इच्छाधारी आन्दोलनजीवी’ योगेंद्र यादव की पोल खोलकर रख दी है। इस वीडियो में योगेंद्र यादव किसानों को सीधे बाजार तक पहुंच मिलने की वकालत करते नजर आ रहे हैं। लेकिन आज इसी के विरोध में आंदोलन कर रहे हैं।

योगेंद्र यादव आज दर्शन पाल और राकेश टिकैत जैसों के साथ मिल कर ‘किसान आंदोलन’ का चेहरा बने हुए हैं। योगेंद्र यादव जिन कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे हैं, कभी इसी तरह के कृषि कानूनों को लाने की वकालत कर रहे थे। उन्होंने मौजूदा सिस्टम को ख़त्म करने की बात करते हुए बिचौलियों पर लगाम लगाने की बात कही थी। उन्होंने आशंका जताई थी कि बिचौलिए और सरकार मिले हुए हैं। उन्होंने ये भी कहा था कि पूरा का पूरा बाजार आज उन लोगों के कब्जे में है, जो न तो उत्पादन कर रहे हैं और न ही उपयोग कर रहे हैं। 

इस वीडियो में योगेंद्र यादव समझाते हुए कहते हैं कि बेचने वाले उत्पादक और खरीदने वाले ग्राहक के बीच फ़िलहाल 7 लेयर हैं, जिन्हें कम किया जाना चाहिए। तब उनकी मांग थी कि सरकार को बाजार को रेगुलेट करना पड़ेगा क्योंकि सारी चीजों की मार किसानों पर ही पड़ रही है। साथ ही उपभोक्ताओं को भी नुकसान उठाना पड़ रहा है। उनका जोर था कि उपभोक्ता और उत्पादक दोनों को पीसने से रोका जाए। आज जब मोदी सरकार ने इन्हीं समस्याओं को ख़त्म करने के लिए 3 कृषि कानून बनाया है, तो योगेंद्र यादव उनके भी विरोध में खड़े हो गए हैं।

राज्यसभा में सोमवार (8 फरवरी, 2021) को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बिना बात हर चीज का विरोध करने वालों के लिए ‘आंदोलनजीवी’ शब्द का प्रयोग किया था। ये शब्द योगेंद्र यादव जैसे लोगों के लिए काफी उपयुक्त है, जो अपने फायदे के लिए मुद्दों को तोड़-मरोड़कर पेश करते हैं और लोगों को गुमराह करते हैं। ऐसे लोग न तो जनता का भला करते हैं और न ही देश का।

आइए आपको दिखाते हैं योगेंद्र यादव का इच्छाधारी रूप, जिसे देखकर आप भी कहेंगे कि प्रधानमंत्री मोदी का निशाना सही जगह पर लगा है-

योगेन्द्र यादव को अगर आप पहली बार देखे और नाम पता नहीं हो तो आप धोखा खा जाएंगे। पहनावे और हाव-भाव देखकर आप पहली नजर में कहेंगे कि वो मुस्लिम व्यक्ति है। लेकिन जब आप नाम जानेंगे तो और उलझन में पड़ जाएंगे। जिन्हें दुनिया योगेन्द्र के रूप में जानती है, वो दरअसल सलीम है। एक बहुरुपिया बनकर योगेन्द्र यादव लोगों को गुमराह करने का कोई मौका नहीं चुकते हैं। हर वो मंच पर दिखाई देते हैं, जहां पर मोदी सरकार और देश के खिलाफ आवाजें बुलंद की जाती हैं।

योगेन्द्र यादव के परिवार के लोग और उनके कुछ करीबी अभी भी उन्हें ‘सलीम’ और उनकी बहन नीलम को ‘नजमा’ कहकर पुकारते है। सलीम के योगेन्द्र यादव बनने की कहनी भी काफी हैरान करने वाली है। योगेन्द्र का बचपन हरियाणा के रेवाड़ी गांव में बीता। 1936 में हुए एक सांप्रदायिक दंगे में उनके दादा राम सिंह की हत्या कर दी गई। तब योगेन्द्र यादव के पिता देवेन्द्र यादव मात्र 7 साल के थे। बाद में उन्होंने तय किया की वो अपने बच्चों को मुस्लिम नाम से पुकारेंगे।

योगेन्द्र यादव के मुताबिक उनके दादाजी एक स्कूल के प्रधानाध्यापक थे। उन्हें एक मुस्लिम भीड़ को स्कूल में घुसने से रोकने की कोशिश की। इस दौरान मुस्लिम दंगाइयों ने उनकी हत्या कर दी। इसके बाद उनके पिता देवेन्द्र यादव ने विभाजन के दौरान एक और नरसंहार देखा था। जब बच्चे हुए तो उनके पिता ने साम्प्रदायिक सद्भाव के लिए अपने बच्चों को मुस्लिम नाम दिया। हालांकि, सामाजिक दबाव के कारण पांच साल की उम्र में सलीम का आधिकारिक नाम बदलकर योगेन्द्र कर दिया गया। 

दरअसल योगेन्द्र यादव 5 साल की उम्र में स्कूल जाने लगे तो बच्चे सवाल पूछते थे कि तुम हिन्दू हो या मुसलमान? तुम्हारे माता-पिता हिन्दू है या मुसलमान? जब बच्चे मजाक बनाने लगे तो तंग आकर नाम योगेन्द्र रखा गया। योगेन्द्र यादव कहते हैं कि यह नाम मुझे हमेशा अपनेपन का एहसास दिलाता है। यही वजह है कि सलीम आज तक योगेन्द्र से अलग नहीं हुआ। आज भी योगेन्द्र को सलीम के नाम से पुकारा जाता है,ताकि दुनिया के सामने तथाकथित सेक्युलर छवि पेश की जा सके। 

2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान योगेन्द्र यादव ने आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर गुरुग्राम से चुनाव लड़ा था। इस दौरान सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने आरोप लगाया था कि चुनाव के दौरान अपने पक्ष में मुस्लिम वोटरों को रिझाने के लिए उन्होंने कहा था कि उनका नाम सलीम है। जब सोशल मीडिया पर सवाल उठाए जाने लगे तो योगेन्द्र यादव को सफाई देने के लिए आगे आना पड़ा। तब उन्होंने ट्वीट करके कहा कि मेरे परिवार के लोग और दोस्त मुझे बचपन से सलीम कहकर ही बुलाते हैं।

2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी के आईटी ऑपरेशंस चीफ अमित मालवीय ने योगेन्द्र यादव के पुराने भाषण का वीडियो का एक हिस्सा ट्वीट किया, जिसमें लिखा, “मैं आमतौर पर सोशल मीडिया पर टीवी की बहस नहीं लाता, लेकिन योगेंद्र यादव के दो मुंहे चेहरे को बेनकाब करने के लिए एक अपवाद बनता है। यहां एक वीडियो है जिसमें उन्हें मुस्लिम बहुल मेवात इलाके में मुस्लमान बहुल लोगों के बीच अपनी मुस्लिम पहचान को भुनाते हुए देखा जा सकता है। अगर यह राजनीति निंदनीय नहीं है, तो और क्या है?”

योगेन्द्र यादव उर्फ सलीम ने सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक क्षेत्र में अपनी तथाकथित सेक्युलर छवि को भुनाने की हर मुमकिन कोशिश की है। उन्होंने कभी सेफोलॉजिस्ट के रूप में तो कभी बजट विशेषज्ञ के रूप में अपनी उपस्थिति दर्ज करायी है। लेकिन हर बार अपने संकुचित और सरकार विरोधी दलीलों के कारण चर्चा में आए हैं।

किसान आंदोलन में योगेन्द्र यादव ने अपनी मौजूदगी से लोगों को गुमराह करने का काम किया है, जिसका नतीजा गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में उपद्रव के रूप में देखने को मिला। किसानों को आंदोलन के लिए भड़का कर योगेन्द्र यादव अपनी राजनीतिक जमीन को उपजाऊ बनाने और सियासी फसल काटने में लगे हैं।

योगेन्द्र यादव ने बहुरुपिया बनकर हमेशा लोगों को गुमराह किया है। अपनी सेक्युलर छवि को देश विरोधी ताकतों और टुकड़े-टुकड़े गैंग को मजबूत करने में इस्तेमाल किया है। योगेन्द्र यादव ने सीएए का भी खुलकर विरोध किया और सीएए विरोधी आंदोलन में हिस्सा लेकर मुसलमानों को भड़काने की कोशिश की। इसका नतीजा पूरी दुनिया ने देखा, जब दिल्ली में भीषण दंगे हुए। इस दंगे में काफी जान-माल का नुकसान हुआ।

 

Leave a Reply