Home कोरोना वायरस कोरोना पर शिकंजा : 12 राज्यों में सुस्त पड़ी रफ्तार, देश में...

कोरोना पर शिकंजा : 12 राज्यों में सुस्त पड़ी रफ्तार, देश में स्वस्थ होने की दर बेहतर

716
SHARE

पूरी दुनिया में अपने प्रकोप से हड़कंप मचाने वाली वैश्विक महामारी कोरोना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी दूरदर्शी कुशलता से शिकंजा कस दिया है। लगता है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत को कोरोना का वाटरलू बनाकर ही अब दम लेंगे। मालूम हो कि दुनिया में अविजित कहे जाने वाले नेपोलियन बोनापार्ट के लिए 1815 में वाटरलू के मैदान में हुआ युद्ध निर्णायक साबित हुआ था। इसी युद्ध में नेपोलियन बोनापार्ट की हार हुई थी और उसे आत्मसमर्पण करना पड़ा था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कुशल नेतृत्व के कारण अब न केवल कोरोना संक्रमण की दर में गिरावट दर्ज की गई है, बल्कि विश्व के दूसरे देशों की तुलना में भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों के स्वस्थ होने की दर भी बेहतर है। इसके साथ ही देश के 12 राज्यों में कोरोना संक्रमण की रफ्तार भी सुस्त पड़ी है।

दूसरे देशों की तुलना में स्वस्थ होने की दर देश में बेहतर

पिछले 36 दिनों से संपूर्ण लॉकडाउन जैसी पीड़ा को झेल रहे देश के लोगों के लिए कोरोना को लेकर शुभ संकेत आने शुरू हो गए हैं। इस संकेत से साफ लगता है कि अब देश को कोरोना के प्रकोप से बचाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संकल्प सिद्ध होने ही वाला है। कोरोना वायरस से चल रही जंग के बीच देश में अच्छे संकेत आने लगे हैं। देश में स्वस्थ होने की दर अमेरिका और पश्चिमी देशों की तुलना में काफी बेहतर है। संपूर्ण लॉकडाउन लागू होने से पहले हर चौथे दिन कोरोना संक्रमण के मामले दोगुने हो जा रहे थे लेकिन अब इसमें 7.5 दिन का वक्त लग रहा है। भारत में रिकवरी दर को देखें तो यहां हर 10 में से 8 केस बंद हैं। बंद केस का मतलब है कि जिन केस का निपटारा हो गया हो, यानि या तो मरीज ठीक हो गए हो या फिर मौत हो गई हो। इस प्रकार हर 10 में से बंद आठ मामले में दो की मौत हुई है। रिकवरी रेट की बात करें तो भारत मं 83.6 प्रतिशत है जो कि वैश्विक स्तर पर 79.1 प्रतिशत से भी कहीं अधिक है। देश में रिकवरी रेट की बात है तो 98.9 प्रतिशत की दर से केरल इसमें नंबर एक पर है। वहीं तमिलनाडु 96.5%, राजस्थान 92.9%, तेलंगाना में 91.2%, कर्नाटक में 87.4%, उत्तर प्रदेश में 86.4%, महाराष्ट्र में 69.5%, मध्य प्रदेश में 64.5% गुजरात में 62.5% और राजधानी दिल्ली में 61.5% रिकवरी रेट है। राजधानी दिल्ली में रिकवरी रेट देश में सबसे कम है।

देश के इन 12 राज्यों में सुस्त पड़ी कोरोना की रफ्तार

एक तरफ जहां देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 30 हजार के पार पहुंचने वाली है, वहीं मृतकों की संख्या भी हजार की संख्या को छूने वाली है। ऐसे बेहद डराने वाले हालात के बीच कोरोना पर शिकंजा कसे जाने जैसी खुशखबरी भी है। देश के ऐसे 12 राज्य सामने आए हैं जहां कोरोना की रफ्तार न केवल धीमी पड़ी है बल्कि वहां के हालात में भी सुधार दिखने लगे हैं। ध्यान रहे कि ये सुधार सिर्फ और सिर्फ लाकडाउन जैसे बड़े और कड़े कदम उठाने कि वजह से संभव हो पाए हैं। इसी लॉकडाउन के कारण पूर्वोत्तर के मणिपुर, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश तथा गोवा जैसे राज्य कोरोना मुक्त हो पाए हैं, वहीं कई राज्य ऐसे हैं जहां कोरोना से संक्रमण होने वालों की संख्या में काफी कमी आई है। ये आंकड़े 20 अप्रैल और 27 अप्रैल की तुलना कर के निकाले गए हैं।

देश में राज्यवार कोरोना के कम होते आंकड़े

देश के दक्षिण राज्यों में शुमार तेलंगाना में कोरोना वायरस फैलने की दर जहां अभी 2 प्रतिशत है वहीं 20 अप्रैल को यह दर 6.2 प्रतिशत थी। मालूम हो कि तेलंगाना में जहां संक्रमितों की सख्या 1002 तक पहुंच चुकी है वहीं वहां मरने वालों की संख्या 26 हो चुकी है। हरियाणा में जहां पिछले सप्ताह संक्रमण की रफ्तार 3.4 फीसदी थी वहीं वह घटकर 3.1 फीसदी रह गई है। हरियाणा में इस संक्रमण से जहां 3 लोगों की मौत हो चुकी है वहीं 289 लोग संक्रमित हैं। कर्नाटक में जहां कोरोना संक्रमण 6.9 प्रतिशत की दर से फैल रहा था वहीं अब घटकर 3.5 प्रतिशत रह गया है। तमिलनाडु में भी कोरोना संक्रमण की गति 4.6 प्रतिशत की दर से घटकर 3.5 प्रतिशत रह गई है। मध्य प्रदेश में 13.7 फीसदी से घटकर 5 फीसदी पर आ चुकी है। देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमण की दर 7.9 फीसदी से घटकर 5.5 फीसदी पर आ गई है। राजस्थान में 20 अप्रैल को जहां कोरोना संक्रमण की दर 8.9 फीसदी थी वहीं 27 अप्रैल को 5.7 फीसदी रह गई है। आंध्र प्रदेश में कोरोना संक्रमण के प्रसार की गति 7.6 फीसदी से घटकर 6.2 फीसदी पर पहुंच गई है। उत्तर प्रदेश में तो कोरोना संक्रमण की दर 13.6 प्रतिशत से घटकर 6.8 प्रतिशत पर पहुंच चुकी है। गुजरात में कोरोना संक्रमण की दर पिछले सप्ताह तक 19.3 प्रतिशत थी जो अब घटकर 8.6 प्रतिशत पर पहुंच गई है। एक सप्ताह पहले तक पश्चिम बंगाल में कोरोना संक्रमण की दर 12.1 प्रतिशत थी जो अब 9.7 प्रतिशत पर पहुंच गई है। महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण की दर 11.3 प्रतिशत से घट कर 9.8 प्रतिशत पर पहुंच गया है। इतना ही नहीं देश के 13 ऐसे राज्य हैं जहां पर कोरना संक्रमण की दर राष्ट्रीय दर से कम है। देश में कोरोना संक्रमण फैलने की दर 7.8 प्रतिशत है।

Leave a Reply