Home कोरोना वायरस पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर प्रधानमंत्री मोदी ने दिखाया आईना, मुख्यमंत्रियों से कहा-...

पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर प्रधानमंत्री मोदी ने दिखाया आईना, मुख्यमंत्रियों से कहा- VAT कम न करना अन्याय, लोगों का बोझ कम करने के लिए राज्य करें वैट में कटौती

442
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना के बढ़ते केसों को लेकर राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग की। इसमें कोरोना महामारी के अलावा यूक्रेन-रूस जंग के कारण देश की आर्थिक स्थिति पर हुए असर, पेट्रोल-डीजल पर वैट आदि को लेकर चर्चा हुई। पीएम मोदी ने कहा कि वैश्विक संकट के इस दौर में देशहित सर्वोपरि होना चाहिए। पीएम ने मुख्यमंत्रियों को आईना दिखाते हुए राज्यों से उनके हिस्से का टैक्स घटाने की अपील की, ताकि जनता पर महंगाई का बोझ कम किया जा सके। उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों ने वैट कम किया है, लेकिन कुछ राज्यों ने वैट न घटाकर अपने राज्य के लोगों को लाभ नहीं दिया है। इससे इन राज्यों में दूसरे राज्यों के मुकाबले पेट्रोल-डीजल की कीमतें ज्यादा हैं। एक तरह से इन राज्यों के लोगों के साथ ये अन्याय तो है ही, इसके साथ ही इससे पड़ोसी राज्यों को भी नुकसान होता है। गौरतलब है कि बीजेपी शासित राज्यों ने तो वैट कम कर दिया था, लेकिन गैर भाजपा शासित राज्य वैट कम न करके जनता पर बोझ डालने में लगे हुए हैं। कुछ राज्यों ने पेट्रोल-डीजल पर वैट कम न करके लोगों को लाभ नहीं दिया और राजस्व कमाया
प्रधानमंत्री ने कोरोना की समीक्षा बैठक में कोरोना से बचाव पर विस्तार से बात की। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीनेशन को सबसे बड़ा हथियार है। इस सुरक्षा कवच से सभी लोंगों के लैस करने के लिए राज्यों को केंद्र के साथ मिलकर उसी तेज गति से काम करना चाहिए। ताकि तीसरी लहर की तरह हम संभावित चौथी लहर को भारत के लिए घातक होने से रोक सकें। प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना के उपायों पर चर्चा के साथ ही कहा, “मैं इस मौके पर एक और बात का जिक्र करना चाहूंगा। दरअसल, कुछ राज्यों ने पेट्रोल-डीजल पर वैट नहीं घटाकर अपने नागरिकों को लाभ नहीं दिया और राजस्व कमाया है। वैश्विक संकट में केंद्र और राज्यों को मिलकर आगे बढ़ने की जरूरत है।”

पीएम मोदी बोले- केंद्र ने तो नवंबर में ही घटा दिया था टैक्स, अब राज्यों की बारी
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर चिंता जताते हुए राज्यों को नसीहत दी। पीएम ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों से कहा कि वैश्विक परिस्थितियों के बीच केंद्र सरकार ने पिछले साल नवंबर में ही पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी घटा दी थी। लेकिन कई राज्यों ने ऐसा नहीं किया है। उन्होंने राज्यों से आग्रह किया कि वैश्विक चुनौती की इस घड़ी में केंद्र और राज्यों को साथ मिलकर चलने की जरूरत है। पीएम मोदी ने कहा, “आपसे मेरी प्रार्थना है कि देशहित में पिछले साल नवंबर में जो करना था उसमें अब 6 महीने की देरी हो गई है। वैट कम करके जनता को इसका लाभ दें। भारत सरकार के पास जो रेवेन्यू आता है उसका 42 फीसदी हिस्सा राज्यों के पास ही चला जाता है। वैश्विक संकट के समय एक टीम के रूप में काम करने की जरूरत है।”

देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए केंद्र-राज्यों के बीच सामंजस्य जरूरी
पीएम मोदी ने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए केंद्र राज्यों के बीच सामंजस्य जरूरी है। युद्ध की परिस्थिति पैदा होने से सप्लाई चेन प्रभावित हुई है। ऐसे माहौल में चुनौतियां बढ़ रही हैं। हमने नवंबर में पेट्रोल डीजल पर एक्साइज ड्यूटी घटाई थी। राज्यों से भी ऐसा ही करने का आग्रह किया था। गुजरात और कर्नाटक ने टैक्स कम किया है। गुजरात ने टैक्स कम नहीं किया होता तो उसे भी साढ़े 3 हजार करोड़ से ज्यादा का राजस्व मिलता। वहीं कुछ राज्यों ने वैट में कमी नहीं करके इस दौरान साढ़े 3 हजार से साढ़े 5 हजार रुपये तक अतिरिक्त राजस्व की कमाई कर ली है और जनता के साथ अन्याय किया है।जिन राज्यों ने वैट नहीं घटाया, उन्होंने अपने नागरिकों पर बोझ डाला
पीएम मोदी ने कहा कि मैं किसी की आलोचना नहीं प्रार्थना कर रहा हूं। आपके राज्यों की भलाई के लिए प्रार्थना कर रहा हूं। महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, केरल, तमिलनाडु और झारखंड ने किसी न किसी कारण से केंद्र की सलाह को नहीं माना। उनके नागरिकों पर बोझ जारी रहे। पीएम मोदी ने कहा कि जिन राज्यों ने तेल पर टैक्स नहीं घटाए और जहां टैक्स घटाए गए हैं वहां पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बड़ा फर्क है।

शहरों में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इतना अंतर क्यों है, इसे समझना होगा
पीएम मोदी ने आंकड़ों के साथ सप्रमाण कहा कि विभिन्न शहरों में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इतना अंतर क्यों है, इसे समझना होगा। उन्होंने कहा कि आज चेन्नई में पेट्रोल के दाम 111 रुपये के करीब हैं। जयपुर में 118 से ज्यादा, हैदराबाद में 119 रुपये से ऊपर, कोलकाता में 115 रुपये से अधिक, मुंबई में तो 120 रुपये तक पहुंच गए हैं। वहीं, मुंबई के बगल में दमन-दीव में पेट्रोल का भाव 102 रुपये है, लखनऊ में 105 रुपये, जम्मू में 106 रुपये, गुवाहाटी में 105 रुपये, गुड़गांव में 105 रुपये तो वहीं छोटे से राज्य उत्तराखंड के देहरादून में पेट्रोल का दाम 103 रुपया है। पीएम ने कहा कि मैं सबसे आग्रह करता हूं कि सभी राज्य देशहित में आगे बढ़ें।

देशवासियों पर पेट्रोल-डीजल की कीमतों का बोझ कम करने के लिए टैक्स कम करें राज्य
पीएम मोदी ने कहा कि आज भारत की अर्थ व्यवस्थाओं में केंद्र और राज्य सरकारों के सामंजस्य पहले से ज्यादा आवश्यक हैं। कोरोना महामारी के वैश्विक संकट और रूस-यूक्रेन युद्ध के माहौल के बीच दिनों-दिन चुनौतियां बढ़ रही हैं। ऐसे संकट के समय में केंद्र और राज्यों के बीच में तालमेल को बढ़ाना और अनिवार्य हो गया है। जैसे पेट्रोल-डीजल की कीमतों का विषय सबके सामने है। देशवासियों पर इनकी बढ़ती कीमतों का बोझ कम करने के लिए राज्यों से आग्रह किया था कि वे अपने यहां टैक्स कम करें, इसके बाद कुछ राज्यों ने तो टैक्स कम कर दिया, लेकिन कुछ राज्यों ने अपने नागरिकों को इसका लाभ नहीं दिया, इसलिए इन राज्यों में पेट्रोल-डीजल की कीमतें दूसरे राज्यों के मुकाबले ज्यादा है।

 

Leave a Reply