Home समाचार श्रम का सम्मान करने वाला सूरत किसी को पिछड़ने नहीं देता :...

श्रम का सम्मान करने वाला सूरत किसी को पिछड़ने नहीं देता : प्रधानमंत्री

213
SHARE

दो दिन के लिए गुरुवार को गुजरात पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने दौरे की शुरुआत सूरत से की। अपने इस दौरे पर गुजरात के साथ ही देश के विकास के लिए 29 हजार करोड़ रुपये की सौगात के साथ गुजरात पहुंच प्रधानमंत्री नरेंद्र ने सूरत में 3400 करोड़ रुपये के अलग-अलग प्रोजेक्ट्स का उद्घाटन और शिलान्यास किया। इस अवसर पर एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने सूरत की प्रशंसा करते हुए कहा कि सूरत श्रम का सम्मान करने वाला शहर है तभी तो आज दुनिया के सबसे तेज गति से विकास करने वाले शहरों में इसकी गणना होती है।

विकसित भारत के निर्माण की प्रेरणा है सूरत

अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सूरत लोगों की एकजुटता औऱ जनभागीदारी, दोनों का बहुत ही शानदार उदाहरण है। उन्होंने कहा कि  हिन्दुस्तान का कोई प्रदेश ऐसा नहीं होगा, जिसके लोग सूरत की धरती पर न रहते हों। सूरत की सबसे बड़ी खासियत ये है कि यहां टैलेंट की कद्र होती है, प्रगति की आकांक्षाएं पूरी होती हैं, आगे बढ़ने के सपने साकार होते हैं। और सबसे बड़ी बात यह है कि विकास की दौड़ में जो पीछे छूट जाता है, ये शहर उसे ज्यादा मौके देता है, उसका हाथ थामकर आगे लाने का प्रयास करता है। सूरत की यही स्पिरिट आज़ादी के अमृतकाल में विकसित भारत के निर्माण के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा है।

फोर ‘पी’ मॉडल का उत्तम उदाहरण सूरत

प्रधानमंत्री मोदी ने देश के विकास में सूरत की अहमियत की चर्चा करते हुए कहा कि जब पूरी दुनिया इस सदी के शुरुआती दशकों में तीन P यानि पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप की चर्चा कर रही, तभी उन्होंने कहा था कि सूरत चार ‘पी’ का उदाहरण है। चार P यानि पीपल्स, पब्लिक, प्राइवेट पार्टनरशिप। यही मॉडल सूरत को विशेष बनाता है। सूरत के लोग वो दौर कभी भूल नहीं सकते जब महामारियों को लेकर, बाढ़ की परेशानियों को लेकर यहां अपप्रचार को हवा दी गईं। उस कालखंड में यहां के व्यापारी समाज से मैंने एक बात कही थी। मैंने कहा था कि अगर सूरत शहर की ब्रैंडिंग हो गई तो हर सेक्टर, हर कंपनी की ब्रैंडिंग अपने आप हो जाएगी। और आज सूरत के आप सभी लोगों ने ऐसा करके दिखा दिया है। मुझे खुशी है कि आज दुनिया के सबसे तेज़ी से विकसित होते शहरों में सूरत का नाम है और इसका लाभ यहां हर व्यापार-कारोबार को हो रहा है।

रेलवे ने निकाला सामान ढुलाई का नया समाधान

पीएम मोदी ने अपने संबोधन के दौरान व्यापारियों और कारोबारियों की आवश्यकता को अपनी प्राथमिकता बताते हुए कहा कि उनकी सरकार उनकी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए नए-नए इनोवेशन कर रही है। सूरत के टेक्सटाइल का एक बड़ा बाजार काशी और पूर्वी उत्तर प्रदेश भी है। यहां से बड़ी संख्या में ट्रकों के जरिए कार्गो, पूर्वी यूपी भेजा जाता रहा है। अब रेलवे और पोस्टल डिपार्टमेंट ने मिलकर एक नया समाधान भी खोजा है, एक नया इनोवेशन किया है। रेलवे ने अपने कोच की डिजाइन को इस तरह से बदला है कि उसमें आसानी से कार्गो फिट हो जाता है। इसके लिए खास तौर पर एक टन के कंटेनर भी बनाए गए हैं। ये कंटेनर, आसानी से चढ़ाए और उतारे जा सकते हैं। शुरुआती सफलता के बाद अब सूरत से काशी के लिए पूरी एक नई ट्रेन ही चलाने की कोशिश हो रही है। ये ट्रेन, सूरत से सामान लेकर काशी तक जाया करेगी। और इसका बहुत बड़ा लाभ सूरत के व्यापारियों को होगा, यहां के कारोबारियों को होगा।

 

Leave a Reply