Home मोदी सरकार के नौ साल मोदी सरकार के 9 साल : पीएम मोदी के मुरीद बने विरोधी,...

मोदी सरकार के 9 साल : पीएम मोदी के मुरीद बने विरोधी, तो राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के दिग्गज नेता भी हुए दीवाने

2189
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पिछले नौ साल से अपने कर्त्तव्य पथ पर बिना रूके और बिना थके चलते जा रहे हैं। इस दौरान तमाम चुनौतियां आईं, जिसने उनके धैर्य और नेतृत्व क्षमता की परीक्षा लीं। लेकिन प्रधानमंत्री मोदी अपने सशक्त व मजबूत नेतृत्व और सूझबूझ के कारण इस परीक्षा में अव्वल दर्जे से पास हुए। उनकी लोकप्रियता प्रदेश, देश और अंतरराष्ट्रीय सीमाओं को लांघती हुई वैश्विक हो चुकी है। राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के दिग्गज नेता भी उनके मुरीद बन चुके हैं। यहां तक कि जो उनके कट्टर विरोधी थे, वो भी प्रधानमंत्री की ईमानदारी, कर्मठता, जनकल्याण, देश के प्रति समर्पण और वैश्विक विजन देखकर उनके दीवाने हो गए। आज आलम ये है कि विरोधी भी उनकी तारीफ करने से खुद को नहीं रोक पाते। आइए देखते हैं कि पिछले नौ साल में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दिग्गज नेता किस तरह प्रधानमंत्री मोदी के सम्मान में कसीदे पढ़ते रहे हैं…

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपनी नेतृत्व क्षमता और कार्यशैली से विरोधियों को भी अपना मुरीद बना लेते हैं…

आलोचक रहे एनसीपी नेता माजिद मेमन भी हुए पीएम मोदी के मुरीद
एनसीपी नेता माजिद मेमन ने प्रधानमंत्री मोदी की जमकर तारीफ की। दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता के रूप में रैंकिंग हासिल करने और जनादेश के लिए माजिद मेमन ने प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा की। एनसीपी प्रमुख शरद पवार के करीबी माजिद मेमन ने 27 मार्च, 2022 को ट्वीट करते हुए लेखा कि अगर नरेन्द्र मोदी लोगों का जनादेश प्राप्त करते हैं और उन्हें दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता के रूप में भी दिखाया जाता है, तो उनमें कुछ गुण या अच्छे काम, जो उन्होंने किए होंगे, जिसे विपक्षी नेता ढूंढ नहीं पा रहे हैं। विपक्ष को नसीहत देते हुए मेमन ने कहा कि शुरू में विपक्ष कह रहा था कि ईवीएम में हेराफेरी है, इसलिए वह जीत रहे हैं लेकिन अब यह बात मैदान में नहीं टिकता है। एनसीपी नेता ने आगे कहा कि मैंने जो कहा वह यह है कि विपक्ष को कुछ शोध करने की जरूरत है, कुछ आत्मनिरीक्षण करने की जरूरत है कि ऐसी कौन सी चीजें हैं जो नरेन्द्र मोदी को न केवल भारत में ही नहीं बल्कि बाहर भी स्वीकार्य बना रही हैं।

हर मुलाकात के बाद उनके प्रति सम्मान बढ़ता गया- पूर्व पीएम देवगौड़ा
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी में किसी को अपना बनाने का गजब का हुनर है। उनका व्यक्तित्व ही ऐसा है कि जो भी उनके करीब आता है और संवाद करता है, तो उनका मुरीद हुए बिना नहीं रहता है। प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा करने वालों में पूर्व प्रधानमंत्री एच. डी. देवगौड़ा भी शामिल है। उन्होंने कई बार प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की है। 05 दिसंबर, 2021 को कर्नाटक के मांड्या में देवगौड़ा ने खुलासा किया कि प्रधानमंत्री मोदी के प्रति मेरा आदर उस वक्त कई गुना बढ़ गया, जब उन्होंने 2014 के चुनाव में बीजेपी की जीत के बाद मुझे लोकसभा से इस्तीफा नहीं देने दिया।

पूर्व प्रधानमंत्री देवगौड़ा ने कहा कि समारोह समाप्त होने के बाद उन्होंने मोदी से मिलने का समय मांगा, जिसके लिए वह सहमत हो गए। जब उनकी कार संसद के बरामदे में पहुंची तो प्रधानमंत्री मोदी खुद वहां उनका स्वागत करने पहुंचे। देवगौड़ा ने कहा, ‘‘मुझे तब घुटने में दर्द था, जो अभी भी है। वह जिस भी तरह के व्यक्ति हों, उस दिन जब मेरी कार वहां पहुंची, मोदी खुद आए, मेरा हाथ पकड़कर मुझे अंदर ले गए। यह व्यवहार उस व्यक्ति के लिए था, जिसने उनका (मोदी) इतना विरोध किया था।’’ देवगौड़ा ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी से छह से सात बार मिल चुका है। हर मुलाकात के बाद उनके प्रति उनका सम्मान बढ़ता गया।

आजाद ने पीएम मोदी को बताया जमीन से जुड़े नेता
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रहे गुलाम नबी आजाद ने मार्च 2021 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जमकर तारीफ की थी। श्रीनगर में गुज्जर समुदाय के एक कार्यक्रम में पूर्व राज्यसभा सांसद आजाद ने कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी जमीन से जुड़े नेता हैं और लोगों को उनसे सीखना चाहिए कि कामयाबी की बुलंदियों पर जाने के बाद भी कैसे अपनी जड़ों को याद रखा जाता है। गुलाम नबी आजाद ने कहा, “कई नेताओं में बहुत सी अच्छी बातें होती हैं। मेरे प्रधानमंत्री मोदी के साथ राजनीतिक मतभेद हैं, लेकिन वास्तव में वे एक जमीनी व्यक्ति हैं। मैं खुद गांव का हूं और मुझे भी इस बात पर बहुत फख्र है। प्रधानमंत्री मोदी भी कहते हैं कि बर्तन मांजता था, चाय बेचता था। निजी तौर पर हम उनके खिलाफ हैं, लेकिन जो इंसान अपनी असलियत नहीं छिपाते, वे हमेशा जड़ों से जुड़ें होते हैं। यदि आपने अपनी असलियत छिपाई तो आप मशीनी दुनिया में जी रहे होते हैं।”

पीएम मोदी की दृढ़ इच्छाशक्ति और कठोर परिश्रम के मुरीद रहे प्रणब दा
भारत रत्न पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भले ही अलग-अलग राजनीतिक धाराओं से संबंध रहा, लेकिन विचारधारा के दो अलग ध्रुवों पर रहने के बावजूद दोनों एक-दूसरे का बेहद सम्मान करते रहे। पीएम मोदी उन विरले व्यक्तित्वों में से एक हैं, जिनसे प्रणब दा जैसे अनुभवी और ज्ञानी राजनेता प्रभावित हुए। दूसरी ओर, पीएम मोदी भी प्रणब मुखर्जी को अपना मार्गदर्शक और अभिभावक मानते रहे। राष्ट्रपति भवन में प्रणब मुखर्जी के आखिरी दिन पीएम मोदी ने उन्हें एक भावुक पत्र लिखा था, तो प्रणब दा ने संसद के सेंट्रल हॉल में अपने विदाई समारोह के दौरान पीएम मोदी को बेहद कर्मठ और ऊर्जावान नेता बताते हुए उनके प्रति अपने हार्दिक उद्गार व्यक्त किए थे। राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के तौर पर प्रणब मुखर्जी और नरेन्द्र मोदी के परस्पर आदरपूर्ण और सहयोगात्मक रुख को हमेशा याद किया जाएगा।

प्रधानमंत्री मोदी के मुरीद हुए कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा
अमेरिका के ह्यूस्टन में प्रधानमंत्री मोदी का जलवा देखकर कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद मिलिंद देवड़ा ने उनकी प्रशंसा की। कांग्रेस नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री मिलिंद देवड़ा ने कहा कि पीएम मोदी का संबोधन भारत की बौद्धिक और सांस्कृतिक ताकत को दर्शाता है। मिलिंदा देवड़ा ने ‘हाउडी-मोदी’ कार्यक्रम के लिए पीएम मोदी की तारीफ में ट्विटर पर लिखा, ‘प्रधानमंत्री का ह्युस्टन संबोधन भारत की सॉफ्ट पावर डिप्लोमैसी का सबसे महत्वपूर्ण क्षण था। मेरे पिता मुरली भाई भारत-अमेरिका के गहरे संबंधों के शुरुआती शिल्पकारों में से एक थे। डोनाल्ड ट्रम्प की मेहमान नवाजी और भारतीय अमेरिकियों के योगदान को मान्यता देना हमें गौरवान्वित महसूस कराता है।’

कांग्रेस नेता पी चिदंबरम हुए प्रधानमंत्री मोदी के मुरीद
वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तारीफ में कसीदे पढ़े हैं। चिदंबरम ने 15 अगस्त, 2019 के दिन लाल किले की प्राचीर से दिए गए भाषण में उठाए गए मुद्दों के लिए प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की। चिदंबरम ने कहा कि 15 अगस्त के भाषण में पीएम मोदी की तीन घोषणाओं का स्वागत होना चाहिए। चिदंबरम ने कहा कि छोटा परिवार और प्लास्टिक बैन को जन अभियान बनाना चाहिए। इसके साथ ही दौलतमंद लोगों को शक के नजर से देखने के बजाए, उनका सम्मान किए जाने के पीएम मोदी के विचार का भी स्वागत होना चाहिए। गौरतलब है कि पीएम मोदी ने छोटे परिवार को राष्ट्रिय कर्तव्य बताया था, प्लास्टिक बैन को लेकर मजबूत कदम उठाने की बात कही थी, और अमीरों को शक की नजर से नहीं देखने की अपील की थी।

कांग्रेस नेता कमलनाथ ने बांधे पीएम मोदी की तारीफ के पुल
प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा करने वालों में वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भी शामिल है। मुख्यमंत्री रहते कमलनाथ ने प्रधानमंत्री मोदी को दल ऊपर उठकर सभी के हित में काम करने वाला नेता बताया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने कभी उनके साथ भेदभाव नहीं किया। उन्होंने नीति आयोग की सब कमेटी में मुझे शामिल किया और इसके लिए मैं उनका आभारी हूं।

लाल बहादुर शास्त्री के बेटे ने की पीएम मोदी की तारीफ
पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के बेटे सुनील शास्त्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बिल्कुल मेरे पिता की तरह काम कर रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी दुनिया भर में भारत का सम्मान बढ़ा रहे हैं। सुनील शास्त्री ने कहा कि वे देश के भीतर व्यापक विकास योजनाओं से सबका साथ सबका विकास कर रहे हैं। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, लाल बहादुर शास्त्री के बेटे ने यह भी कहा कि आज की भारतीय राजनीति में प्रधानमंत्री मोदी का कोई विकल्प नहीं है।

प्रकाश अंबेडकर ने कहा था- 2024 तक हराना मुश्किल
आज से एक साल बाद मई 2024 में देश का आम चुनाव होगा। लेकिन ठीक पांच साल पहले जनवरी 2018 में दलित नेता प्रकाश अंबेडकर ने प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ करते हुए 2024 के आम चुनाव के लिए भविष्यवाणी की थी। उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी की छवि साफ-सुथरी है और कांग्रेस 2024 तक बीजेपी को सत्ता से हटा नहीं सकती। प्रकाश अंबेडकर ने कहा कि कांग्रेस श्री मोदी की छवि का मुकाबला नहीं कर सकती। एक नेता के तौर पर प्रधानमंत्री मोदी की साफ-सुथरी छवि अब तक कायम है। प्रधानमंत्री मोदी अपने भाषणों में कांग्रेस के दागदार अतीत की बातें करते हैं जिसका मुकाबला नहीं किया जा सकता। कांग्रेस 2024 तक बीजेपी को नहीं हरा सकती।

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने की तारीफ
केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने भी प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की थी। विजयन ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर केरल के ओखी तूफान प्रभावित इलाकों में दौरा करने के लिए धन्यवाद ज्ञापन किया। प्रधानमंत्री मोदी ने 20 दिसंबर, 2017 को तूफान प्रभावित इलाकों का दौरा किया था। इस दौरान प्रधानमंत्री ने राहत कार्यों का जायजा लिया था और पीड़ित परिवारों से मुलाकात कर हरसंभव मदद का आश्वासन दिया था। प्रधानमंत्री ने केरल, तमिलनाडु और लक्षद्वीप के लिए 325 करोड़ रुपये की वित्तिय मदद की घोषणा की थी। साथ ही कहा था कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत तूफान से बर्बाद हुए 1400 घरों को फिर से बनाया जाएगा। विजयन ने संकट के समय तत्काल राहत के लिए प्रधानमंत्री मोदी का शुक्रिया अदा किया।

केरल के मुख्यमंत्री विजयन इसके पहले भी प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ कर चुके थे। विजयन ने अक्टूबर 2017 में कोझीकोड में एक कार्यक्रम में कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें आश्वासन दिया है कि राज्य के विकास के लिए फंड की कमी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के साथ उनके राजनीतिक मतभेद हो सकते हैं, लेकिन विकास के मुद्दे पर दोनों एकमत हैं। उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र सरकार की मदद से जल्द ही राज्य की सड़कें दुरुस्त होंगी।

मुझसे बहुत बड़े नेता हैं पीएम मोदी-देवगौड़ा
”मैं 85 वर्ष का हूं और दोबारा प्रधानमंत्री बनने की मेरी महत्वाकांक्षा नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुझसे बहुत बड़े नेता हैं।” The Economic Times में छपे इस इंटरव्यू में पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा ने खुले मन से ये स्वीकार किया कि पीएम मोदी से बड़ा नेता आज देश में नहीं है। दरअसल वर्तमान भारतीय राजनीति में पीएम मोदी वो चेहरा हैं जिनके आस-पास कोई अन्य नेता खड़ा हो पाने की हैसियत नहीं रखता है। सवा सौ करोड़ देशवासियों की आशा और आकांक्षा के प्रतीक बने पीएम मोदी महिलाओं, युवाओं के मन-मस्तिष्क पर तो छा ही चुके हैं, साथ ही देश के बाल मन पर भी अपनी अमिट छाप छोड़ चुके हैं।

पीएम मोदी के मुरीद हैं शशि थरूर
चीन के साथ डोकलाम गतिरोध के शांतिपूर्ण समाधान को भारत की कूटनीतिक जीत करार देते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने पीएम मोदी की प्रशंसा की थी। उन्होंने ट्विटर पर कहा था कि विदेश मंत्रालय के राजनयिकों और प्रधानमंत्री कार्यालय का कुशल नेतृत्व सभी को इसका श्रेय जाता है। शशि थरूर इससे पहले भी पीएम मोदी की कई बार तारीफ कर चुके थे। थरूर प्रधानमंत्री मोदी की ऊर्जा और उत्साह से बेहद प्रभावित हैं। 26 अक्टूबर, 2016 को एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में उन्होंने पीएम मोदी की जमकर प्रशंसा की थी।

उमर अबदुल्ला ने की पीएम मोदी की प्रशंसा
डोकलाम विवाद में भारत की सफल कूटनीति को नेशनल कॉन्फ्रेंस के कार्यकारी अध्यक्ष और जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी सराहा। उन्होंने ट्वीट कर पीएम मोदी और उनकी टीम को बधाई देते हुए लिखा कि ये इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि भारत ने बिना किसी गरज और धमक के चीन पर अपनी श्रेष्ठता साबित कर दी।

मोदी विरोध में विपक्षी एकता Myth है !
इससे पहले भी उमर अब्दुल्ला पीएम मोदी की प्रशंसा कर चुके थे। यूपी चुनाव 2017 के बाद उमर अब्दुल्ला ने साफ कहा था कि विपक्षी एकता के ख्वाब देखने वाले 2019 का सपना देखना छोड़ दें और 2024 की तैयारी करें। इसके बाद उन्होंने सात अगस्त को भी एक ट्वीट किया था जिसमें मोदी के विरुद्ध विपक्षी एकता को Myth करार दिया। हालांकि उनकी बात विरोधी दलों को रास नहीं आई थी। लेकिन उमर अब्दुल्ला अपने बेबाक बयानों के लिए जाने जाते हैं, सो पीएम मोदी की तारीफ भी उन्होंने खुलकर की।

नीतीश कुमार ने भी की थी पीएम मोदी की तारीफ
आज नीतीश कुमार प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ विपक्षी एकता के लिए मुहिम चला रहे हैं। समय समय पर सियासी पलटी मारने वाले और प्रधानमंत्री मोदी को लेकर कभी बैर-कभी दोस्ती की नीति पर चलने वाले नीतीश भी उनकी तारीफ कर चुके हैं। सितंबर 2013 में बिहार की सियासत ने नई करवट ली थी। ये वही समय था जब बीजेपी ने प्रधानमंत्री पद के लिए नरेन्द्र मोदी के नाम की घोषणा की थी। इसके बाद नीतीश कुमार ने उनके नाम पर असहमति जताते हुए एनडीए से अपना नाता ही तोड़ लिया था, लेकिन चार साल बाद नीतीश कुमार की एनडीए में ‘घर वापसी’ हो गई थी। इस प्रकरण में सबसे खास यह रहा कि जिन पीएम मोदी के कारण नीतीश कुमार का एनडीए से नाता टूटा था, उन्हीं के कारण फिर से वह नाता वापस स्थापित हो गया। 31 जुलाई,2017 को एक सवाल के जवाब में नीतीश ने खुलकर कहा था कि 2019 में भी पीएम मोदी ही प्रधानमंत्री होंगे, उनकी जगह कोई और उस कुर्सी पर काबिज नहीं होगा। नीतीश के अनुसार पीएम मोदी के व्यक्तित्व का कोई मुकाबला करे ऐसी क्षमता आज किसी के पास नहीं है।

धर्मनिरपेक्ष पार्टियां गठबंधन बनाकर भी भाजपा के रथ को नहीं रोक सकती- प्रकाश करात
वामपंथियों को बीजेपी और पीएम मोदी का धुर विरोधी माना जाता है। लेकिन बीते 3 अगस्त, 2017 को वामपंथी नेता प्रकाश करात ने माकपा के मुखपत्र ‘पीपुल्स डेमोक्रेसी’ के संपादकीय में पीएम मोदी की कार्यशैली और नेतृत्व क्षमता की तारीफ की थी। उन्होंने लिखा था, “मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस वर्षों के अपने कुशासन और भ्रष्टाचार की वजह से बदनाम हो चुकी है, इसलिए वामपंथी और लोकतांत्रिक ताकतें देश की सबसे पुरानी पार्टी से गठबंधन करके भाजपा को रोकने की उपलब्धि नहीं हासिल कर सकती है।” उन्होंने कांग्रेस के साथ अन्य क्षेत्रीय दलों को भी कमजोर बताते हुए लिखा था कि अलग-अलग चरित्र वाली धर्मनिरपेक्ष पार्टियां गठबंधन बनाकर भी भाजपा के रथ को नहीं रोक सकती।

रामविलास पासवान थे पीएम मोदी के प्रशंसक
27 फरवरी, 2014 को भी एक ऐसी ही सियासी हलचल हुई थी। रामविलास पासवान ने कांग्रेस और आरजेडी का साथ छोड़ एनडीए में शामिल होने का निर्णय लिया था। रामविलास पासवान एनडीए में आने से पहले नरेंद्र मोदी के विरोध की राजनीति करते रहे थे, लेकिन प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व की वजह से एनडीए में शामिल हुए और आखिरी सांस तक पीएम मोदी के सबसे बड़े समर्थकों में से एक बने रहे। दरअसल पीएम मोदी के व्यक्तित्व की विशेषता है कि उनके धुर विरोधियों को भी वे अपना बना लेते हैं।

रामदास अठावले को अच्छे लगते हैं पीएम मोदी
रामदास अठावले की आरपीआई जब 2012 में एनडीए का हिस्सा बनी थी तब प्रधानमंत्री पद के लिए नरेन्द्र मोदी के नाम की चर्चा तक नहीं थी, लेकिन ऐसा माना जाता था कि रामदास अठावले गुजरात के तत्कालीन सीएम नरेन्द्र मोदी के विरोधी थे। जब नरेन्द्र मोदी का नाम पीएम पद के उम्मीदवार के तौर पर आया तो वे उतने उत्साहित भी नहीं थे। लेकिन तीन साल से पीएम मोदी के साथ वे लगातार कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं। आज संसद में कोई बहस होती है तो अपने मसखरे अंदाज से पीएम मोदी के समर्थन में सबसे अधिक खड़े रहते हैं। विरोधियों द्वारा पीएम मोदी के हर वार का प्रतिकार करते हैं। साफ है कि पीएम मोदी अपनी सकारात्मक सोच की बदौलत अपने धुर विरोधियों को भी अपना मुरीद बना लेते हैं।

कांग्रेसी दिग्गज ने पीएम मोदी की इंदिरा से की तुलना
कांग्रेसी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री एम वी राजशेखरन ने प्रधानमंत्री को मार्च 2017 में विधानसभा चुनाव में मिली जीत की बधाई दी और उनकी प्रशंसा की। राजशेखरन ने पत्र में लिखा कि आप जिस तरह से मतदाताओं खासतौर से युवा पीढ़ी से संवाद स्थापित करते है वो काबिले-तारीफ़ है। कांग्रेसी नेता ने कहा कि गरीबी उन्मूलन कार्यक्रम हो या फिर महिलाओं का सशक्तिकरण, मोदी ये सुनिश्चित कर रहे है कि देश के विकास में उनकी समान भागीदारी हो, जिसके लिए स्वर्गीय श्रीमती इंदिराजी को याद किया जाता है।

मुलायम ने दी थी अखिलेश को पीएम मोदी से सीखने की नसीहत
सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव कई बार प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ कर चुके थे। मार्च 2017 में संपन्न उत्तर प्रदेश के चुनावों में मुलायम सिंह ने कहा था कि पीएम मोदी बहुत गरीब परिवार से हैं और बहुत कष्ट झेलकर यहां तक पहुंचे है। मुलायम ने तो अखिलेश को भी मोदी से सीखने की नसीहत तक दे डाली थी। इससे पहले मुलायम सिंह ने मोदी सरकार के रेल बजट की भी तारीफ की थी।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सहयोग और वैश्विक विजन की वजह से दुनिया के दिग्गज नेताओं के दिलों में खास जगह बनाई है। आइए देखते हैं प्रधानमंत्री मोदी के बारे में विभिन्न देशों के नेताओं और राष्ट्राध्यक्षों की राय…

पापुआ न्यू गिनी में प्रधानमंत्री जेम्स मारापे ने छुए पैर, कहा- पीएम मोदी ग्लोबल साउथ के नेता   
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जापान दौरे के बाद फोरम फॉर इंडिया-पैसिफिक आइलैंड्स को-ऑपरेशन (एफआईपीआईसी) के तीसरे शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने पापुआ न्यू गिनी पहुंचे। पापुआ न्यू गिनी के प्रधानमंत्री जेम्स मारापे ने एयरपोर्ट पर पीएम मोदी का पैर छूकर भावुक स्वागत किया। इसके बाद पीएम मोदी ने जेम्स मारापे को गले लगा लिया। पीएम मोदी पापुआ न्यू गिनी पहुंचने वाले भारत के प्रथम प्रधानमंत्री बन गए। पीएम जेम्स मारपे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ में कहा “हम वैश्विक पावरप्ले के शिकार हैं। पीएम मोदी ग्लोबल साउथ के नेता हैं और हम वैश्विक मंचों पर आपके (भारत) नेतृत्व का समर्थन करेंगे।” जेम्स मारापे बोले, “आप (पीएम मोदी) वो आवाज हैं जो हमारे मुद्दों को उच्चतम स्तर पर पेश कर सकते हैं।”

ऑस्ट्रेलिया के पीएम भी मुरीद होकर बोले- मोदी बॉस हैं
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 23 मई, 2023 को ऑस्ट्रेलिया के सिडनी के कुडोस बैंक एरिना में भारतीय समुदाय को संबोधित किया। इस दौरान ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीज ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ‘बॉस’ करार दिया और कहा कि उनके भारतीय समकक्ष का वैसा स्वागत हुआ है जैसा अमेरिकी गायक ब्रूस स्प्रिंगस्टीन का भी 2017 में यहां नहीं हुआ था। देश के सबसे बड़े इंडोर स्टेडियम में से एक कुडोस बैंक एरिना में प्रवासी भारतीयों के कार्यक्रम में ऑस्ट्रेलिया में रह रहे हजारों भारतीयों ने प्रधानमंत्री मोदी का जोरदार स्वागत किया।

जो बाइडन – अमेरिका में आप बहुत पॉपुलर हैं, मैं आपका आटोग्राफ ले लूं!
जापान के हिरोशिमा में G7 समिट के बाद QUAD देशों के नेताओं ने 20 मई 2023 को बैठक की। अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, जापान और भारत इस ग्रुप का हिस्सा हैं। क्वाड मीटिंग के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने एक तरह से पीएम नरेन्द्र मोदी से ऑटोग्राफ मांग लिया। उन्होंने कहा कि आप बहुत पॉपुलर हैं, मुझे आपका ऑटोग्राफ लेना चाहिए। बाइडेन ने पीएम मोदी से कहा कि वह बहुत लोकप्रिय नेता हैं और अमेरिका में बड़ी संख्या में लोग उनसे मिलना चाहते हैं। बाइडेन ने पीएम मोदी से कहा, ‘मुझे आपके कार्यक्रमों के लिए लोगों से लगातार अनुरोध आ रहे हैं। ये मेरे लिए एक चुनौती बन गई है। अगले महीने हम आपके साथ डिनर करेंगे। पूरे देश से हर कोई आपसे मिलने के लिए आना चाहता है। मेरे पास टिकट खत्म हो गए हैं। आपको लगता है कि मैं मजाक कर रहा हूं, तो मेरी टीम से पूछ लीजिए। मुझे ऐसे लोगों के फोन आ रहे हैं, जिनसे लंबे समय से बात नहीं हुई। फिल्म अभिनेता से लेकर रिश्तेदार तक सभी फोन कर रहे हैं। आप बहुत लोकप्रिय हैं।’ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 21 से 24 जून के बीच अमेरिका का दौरा करने वाले हैं।

अविश्वसनीय, दूरदर्शी और सबसे लोकप्रिय विश्व नेता – अमेरिकी वाणिज्य मंत्री
अमेरिकी वाणिज्य मंत्री जीना रायमोंडो ने 15 अप्रैल, 2023 को अमेरिका स्थित भारतीय दूतावास में आयोजित एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इस दौरान रायमोंडो ने भारत दौरे के समय प्रधानमंत्री मोदी के साथ एक घंटे से भी अधिक समय तक चली अपनी बैठक का जिक्र किया। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की जमकर तारीफ करते हुए उन्हें सबसे लोकप्रिय विश्व नेता, अविश्वसनीय और दूरदर्शी बताया। उन्होंने कहा कि भारत के लोगों के उनकी प्रतिबद्धता का स्तर ठीक अवर्णनीय (जिसका वर्णन न किया जा सके), संजीदा, जुनूनी, वास्तविक और प्रामाणिक है। लोगों को गरीबी से बाहर निकालने और भारत को एक वैश्विक शक्ति के रूप में आगे बढ़ाने की उनकी इच्छा वास्तविक है और यह हो रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी एक तकनीकी व्यक्ति हैं और वो हर वक्त कुछ न कुछ सीखते रहते हैं। सीखने की उनकी लालसा अलग लेवल की है।

पीएम मोदी के ‘युद्ध का युग नहीं’ वाले बयान की तारीफ
रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद पहली बार यूक्रेन की उप-विदेश मंत्री एमीन झापरोवा अपने चार दिवसीय दौरे पर सोमवार (10 अप्रैल, 2023) को नई दिल्ली पहुंचीं। साथ में वो राष्ट्रपति जेलेंस्की का एक लेटर भी लाईं थीं। इस लेटर में भारत से मदद की गुहार थी। भारत ने तत्काल यूक्रेन को मदद का आश्वासन दिया। झापरोवा ने कहा कि मुझे लगता है कि एक वैश्विक खिलाड़ी के रूप में भारत वास्तव में दुनिया का विश्वगुरु है। मूल्यों और न्याय के लिए लड़ते हुए हमने यूक्रेन में यही महसूस किया है। यूक्रेन की उप-विदेश मंत्री का मानना है कि प्रधानमंत्री मोदी युद्ध को रकने के लिए मध्यस्थ के रूप में काम कर सकते हैं। इसलिए उप-विदेश मंत्री एमीन झापरोवा ने प्रधानमंत्री मोदी को कीव आने का न्‍योता देते हुए उनके विजन की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी की लोकतंत्र, संवाद और विविधता की नीति, “युद्ध का युग नहीं” और रणनीतिक उपयोग वास्तव में महत्वपूर्ण है।

ब्राजील के राष्ट्रपति ने पीएम मोदी की तुलना भगवान हनुमान से की
ब्राजील के राष्ट्रपति बोलसोनारो ने कोरोना वैक्सीन की तुलना संजीवनी बूटी से की। उन्होंने भगवान हनुमान की संजीवनी बूटी ले जाते हुए तस्वीर को ट्वीट कर इस मुश्किल वक्त की घड़ी में साथ देने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का शुक्रिया अदा किया। कोरोना वैक्सीन पाकर खुद को धन्य महसूस करते हुए बोलसोनारो ने कहा कि कोरोना की जंग को लड़ने में मदद करने के लिए ब्राजील भारत का आभार व्यक्त करता है। हम भारत का धन्यवाद करते हैं। भारत के प्रति अपना स्नेह जाहिर करते हुए उन्होंने अपने ट्वीट के आखिर में हिंदी में धन्यवाद लिखा। ब्राजील के राष्‍ट्रपति बोल्‍सोनारो ने इसके पहले भी प्रधानमंत्री मोदी की तुलना भगवान हनुमान से की करते हुए हाइड्रोक्‍सीक्‍लोरोक्‍वीन दवा को संजीवनी बूटी बताया था। उन्होंने कहा कि भारत की ओर से दी गई इस हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा से लोगों के प्राण बचेंगे और इस संकट की घड़ी में भारत और ब्राजील मिलकर कामयाब होंगे।

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने पीएम मोदी को बताया महान नेता
पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मार्च 2020 में अमेरिका के साउथ कैरोलिना में एक जनसभा को संबोधित किया था। सभा में कम लोग देखकर ट्रंप को भारत यात्रा की याद आ गई। उन्होंने सभा में मोटेरा स्टेडियम में आयोजित ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम में आए लोगों के हुजूम का जिक्र किया। इतना ही नहीं, उन्होंने सभा में प्रधानमंत्री मोदी की भी जमकर तारीफ की। राष्ट्रपति ट्रंप ने आगे कहा, ‘मैं भारत से आने के बाद जनसभा में आए लोगों को लेकर फिर कभी उतना उत्साहित नहीं होऊंगा। इसके बारे में सोचिए। वो 150 करोड़ हैं। हमारे पास 350 लोग, इसका मतलब है कि हम अच्छा कर रहे हैं। मैं इस सभा के लोगों से प्यार करता हूं और मैं उस सभा के लोगों से भी प्यार करता हूं। वो बहुत प्यार करते हैं। उनके पास एक महान नेता है। वो एक सफल यात्रा थी।’

पीएम मोदी दुनिया के सबसे महान नेताओं में से एक- अमेरिकी उद्योगपति
पीएम मोदी ने जिस तरह से भारत की छवि को पूरी दुनिया में पेश किया है, उसने दुनिया भर के नेताओं को प्रधानमंत्री मोदी का मुरीद बना दिया है। अमेरिका के उद्योगपति रे डेलियो ने नवंबर 2019 में प्रधानमंत्री मोदी को दुनिया के सबसे महान नेताओं में से एक बताया। डेलियो ने अपने ट्वीट में प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ के साथ सऊदी अरब में एक कार्यक्रम का वीडियो भी शेयर किया। अमेरिकी उद्योगपति ने कहा कि मेरे विचार से भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अगर बेस्ट नहीं तो सबसे बेहतरीन नेताओं में एक हैं। मुझे उनसे बातचीत का मौका मिला जिस दौरान मैंने जाना कि वह क्या सोचते हैं। उन्होंने ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों को बुनियादी सुविधाओं के साथ ही डिजिटल तकनीक उपलब्ध कराई है। मोदी सरकार ने 10 करोड़ शौचालयों का निर्माण किया जिससे बीमारियां घटी और करीब 3 लाख जिंदगियां बच गई।

अमेरिकी सांसद ने भी की पीएम मोदी की तारीफ
जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने के लिए अमेरिकी सांसद जॉर्ज होल्डिंग ने प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की। जॉर्ज होल्डिंग ने कहा कि क्षेत्र में लंबे समय तक स्थिरता बनाए रखने के लिए यह एक अच्छा फैसला था और इसकी सराहना होनी चाहिए। नॉर्थ कैरोलाइना से सांसद जॉर्ज होल्डिंग ने कहा कि जम्मू कश्मीर के लोग बेहतर डिजर्व करते हैं और क्षेत्र में शांति और स्थिरता की जरूरत है। रिपब्लिकन सांसद ने कहा कि भारतीय संसद ने जम्मू-कश्मीर का दर्जा बदलने का कानून पारित करने के साथ ही उन प्रावधानों में भी बदलाव किया है जो ‘आर्थिक विकास में बाधक थे और अलगाववाद की भावना को बढ़ावा देने वाले लगते थे।’

नैंसी पेलोसी ने की जलवायु परिवर्तन पर प्रतिबद्धता की सराहना
अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष रहीं नैंसी पेलोसी ने कहा था कि भारत के प्रधानमंत्री ने पृथ्वी के अस्तित्व को खतरा पैदा करने वाली चुनौतियों से निपटने का जिम्मा लेकर महात्मा गांधी के मूल्यों को बरकरार रखा है। जलवायु परिवर्तन पर समझौते को सुनिश्चित करने में प्रधानमंत्री मोदी की प्रतिबद्धता का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि यह आसान नहीं था, लेकिन यह किया गया। महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर अमेरिका में भारतीय दूतावास द्वारा ऐतिहासिक ‘लाइब्रेरी ऑफ कांग्रेस’ में आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा था, ‘मैंने जलवायु संकट का जिक्र किया और उनके नेतृत्व के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने महात्मा गांधी और पर्यावरण के बारे में बात की।’ पेलोसी ने कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि चाहे जल संरक्षण हो या जो कुछ भी हो, गांधी ने प्रकृति का मूल्य और इस बात को समझा कि हमें उसका सम्मान करना होगा।

भूटान के पीएम ने की प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ
प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ करने वालों में भूटान के पीएम लोतेय शेरिंग भी शामिल है। पीएम लोतेय शेरिंग ने प्रधानमंत्री मोदी को सहज और सरल स्वाभाव का ऐसा नेता बताया, जो अपने देश को आगे ले जाने का अच्छा इरादा रखता है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी देश को आगे ले जाने के लिए कठोर फैसले लेने से भी नहीं हिचकते हैं। इतना ही नहीं भूटान के प्रधानमंत्री लोतेय शेरिंग ने पीएम मोदी द्वारा लिखित एक्जाम वॉरियर्स किताब की तारीफ करते हुए अपने फेसबुक पेज पर एक पोस्ट भी लिखी। उन्होंने लिखा, “मैंने किताब पढ़ी है। यह किताब युवाओं को ध्‍यान में रखकर लिखी गई है। इस किताब के जरिए एग्‍जाम के डर को कम किया गया है।”

प्रधानमंत्री मोदी ला रहे भारत के अच्‍छे दिन- सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री
सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि उनके कार्यकाल में भारत में कारोबार करना काफी आसान हो गया है। ऊर्जा मंत्री खालिद ए अल-फलीह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी भारत में अच्छे दिनों के वादे को पूरा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि श्री मोदी के कार्यकाल में भारत में एफडीआई में तेजी आई है। भारत के कच्चे तेल की जरूरत को पूरा करने की प्रतिबद्धता जताते हुए उन्होंने कहा कि वह दुनिया के सबसे तेजी से बढ़ते ऊर्जा उपभोक्ता देश में ईंधन के खुदरा और पेट्रोरसायन कारोबार में निवेश का इच्छुक है।

ब्रिटेन के पूर्व पीएम कैमरन ने की तारीफ: कहा- भारत भाग्यशाली है, क्योंकि उसके पास मोदी हैं
ब्रिटेन के पूर्व पीएम डेविड कैमरन ने प्रधानमंत्री मोदी की सराहना करते हुए कहा कि भारत भाग्यशाली है कि उसके पास स्पष्ट दृष्टि वाला नेतृत्व है। इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स की वार्षिक आम बैठक में एक सवाल के जवाब में कैमरन ने कहा कि, भारत भाग्यशाली है कि उसके पास स्पष्ट दृष्टि वाला नेतृत्व है। जब मैं प्रधानमंत्री मोदी से मिला तो मैंने देखा कि उनके पास दीर्घकालिक समस्याओं को लेकर गहरी सोच है। प्रधानमंत्री कैमरन ने यह भी कहा कि भारत सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक है और इसे अपने आकार की सबसे तेजी से बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था कहा जाता है।

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ने की तारीफ
दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेइ इन ने भी प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की। राष्ट्रपति मून ने नई दिल्ली से रवाना होने के बाद ट्वीट करके कहा कि, ‘भारत से रवाना हो रहा हूं, मैंने भारत में उसके दयालु और उदार लोगों के बीच चार दिन गुजारे। भारतीय लोगों की आंखों में ईश्वर वास करते हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ऐसे व्यक्ति है जिन्होंने अपने पूरे जीवन में सद्भावना के महत्व को जाना है, जिस तरह भारत के पूरे इतिहास में है।’

फ्रांसीसी राष्ट्रपति भी हुए प्रधानमंत्री मोदी के मुरीद
फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने भी प्रधानमंत्री मोदी की जमकर प्रशंसा की। प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा करते हुए राष्ट्रपति मैक्रों ने कहा कि, ‘वह प्रधानमंत्री मोदी के विजन, विशेष रूप से जलवायु परिवर्तन के प्रति उनकी प्रतिबद्धता से प्रभावित हैं।’ राष्ट्रपति ने कहा कि, ‘हम इस एजेंडे में भारत के साथ हैं, विशेष रूप से अंतर्राष्ट्रीय सोलर एलायंस को लेकर।’ इंडिया टुडे पत्रिका के साथ इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि, ‘मेरे विचार में आजादी और व्यक्तिगत दर्शन के साथ पीएम मोदी बहुत बुद्धिमान व्यक्ति हैं। वह भारत की संप्रभुता के साथ बहुत घनिष्ठ हैं, जैसा मैं अपने देश की संप्रभुता के साथ हूं।’

फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ने भी की प्रशंसा
इसके पहले फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने प्रशंसा करते हुए कहा था कि, ”मैं प्रधानमंत्री मोदी के दृढ़निश्चय और कूटनीतिक सूझबूझ का कायल हूं। पीएम नरेंद्र मोदी ने क्लाइमेट चेंज कॉन्फ्रेंस में अहम भूमिका निभाई और दुनिया को नई राह दिखाई।”

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा भी मान चुके हैं पीएम मोदी का लोहा
अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ पीएम मोदी के मजबूत संबंध जगजाहिर हैं। 2015 में गणतंत्र दिवस के मौके पर पीएम मोदी ने तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा को मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया था। भारत आने से पहले ओबामा ने पीएम मोदी की जमकर तारीफ की थी, उन्होंने चाय बेचने से लेकर प्रधानमंत्री तक के सफर का जिक्र करते हुए कहा था कि यह भारतीयों की इच्छाशक्ति को दर्शाता है। श्री ओबामा ने कहा था कि पीएम मोदी का विजन एकदम साफ है और उनकी ऊर्जा प्रभावित करने वाली है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी विकास के रास्ते में रोड़े अटकाने वाले मुद्दों को फौरन हटाने को तैयार हो जाते हैं। जब पूर्व अमेरिका राष्ट्रपति ओबामा ने भारत का दौर किया था, तभी उन्होंने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए, उन्हें कड़े फैसले लेने वाला नेता बताया था। बराक ओबामा ने कहा कि मोदी के पास देश के लिए विजन है।

प्रधानमंत्री मोदी महान देशभक्त हैं: नेतन्याहू
इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सोच और कार्यशैली के कायल हो गए। नेतन्याहू ने कहा कि पीएम मोदी पूरी तरह से भारत के विकास के लिए समर्पित हैं। उन्होंने पीएम मोदी को महान देशभक्त बताया और कहा कि पीएम मोदी वही करते हैं, जो भारत के लिए अच्छा होता है। इजरायली पीएम बेंजामिन नेतन्याहू ने पीएम मोदी को क्रांतिकारी नेता बताया और कहा कि उनका विजन बहुत स्पष्ट है। प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ करते हुए नेतन्याहू ने कहा कि पीएम मोदी के इजरायल दौरे से हमारी दोस्ती शुरू हुई थी, हमारी दोस्ती दोनों देशों में शांति लाएगी, मेरी यह यात्रा शांति, समृद्धि और विकास के लिए है, शांति और खुशहाली के लिए यह साझेदारी अहम है।

जापानी पीएम शिंजो आबे ने की पीएम मोदी की प्रशंसा
जापान के पूर्व दिवंगत प्रधानमंत्री शिंजो आबे पीएम मोदी के अच्छे दोस्तों में शामिल थे। शिंजो आबे भी कई मौके पर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा कर चुके थे। शिंजो आबे ने जब भारत का दौरा किया था, तब अहमदाबाद में पीएम मोदी ने उनके साथ रोड शो किया था। इस मौके पर दोनों नेताओं ने अहमदाबाद-मुंबई के बीच चलने वाली बुलेट ट्रेन परियोजना की आधारशिला रखी थी। इस अवसर पर उन्होंने पीएम मोदी की प्रगतिशील सोच की तारीफ करते हुए कहा था कि अब दोनों देशों का सहयोग सिर्फ द्विपक्षीय नहीं रहा है, बल्कि यह सामरिक और वैश्विक साझेदारी में विकसित हुआ है। उन्होंने कहा था कि भारत और जापान स्वतंत्रता, लोकतंत्र, मानव अधिकार और कानून का नियम जैसे बुनियादी मूल्यों को साझा करते हैं। उस वक्त आबे ने अपने भाषण में जय इंडिया, जय जापान का नारा भी दिया था।

भारत को तरक्की के रास्ते पर ले जा रहे हैं पीएम मोदी: पूर्व ऑस्ट्रेलियाई पीएम
पूर्व ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना की थी।  जब टर्नबुल भारत के चार दिवसीय दौरे पर आए थे, तब उन्होंने कहा था कि पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत तरक्की और विकास के असाधारण रास्ते पर बढ़ रहा है। पूर्व ऑस्ट्रेलियाई पीएम मैल्कम टर्नबुल ने कहा कि हमारा भारत के साथ मजबूत रिश्ता है और इसे और मजबूत करना है। हम इतिहास और मूल्यों के द्वारा एक-दूसरे से जुड़े हैं। उन्होंने कहा था कि दोनों देश तरक्की और विकास के रास्ते की यात्रा पर आगे चल रहे हैं। आज पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत की उपलब्ध‍ियों की पूरी दुनिया में सराहना हो रही है, ऐसे में हम भारत के साथ रिश्तों को और गहरा करना चाहते हैं।

पूर्व जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने आतंकवाद से लड़ने में मोदी की तारीफ की
जर्मनी की पूर्व चांसलर एंजला मर्केल ने कहा था कि आतंकवाद और जलवायु के मुद्दे पर पर पीएम मोदी के विचारों से काफी प्रभावित हुईं हैं। दुनिया के सामने आतंकवाद समेत कई चुनौतियां हैं, इनका सामना करने के लिए मानवतावादी शक्तियों को एकजुट होना होगा।

चीनी राष्ट्रपति ने पीएम मोदी की तारीफ में पढ़े कसीदे
चीन हमारा पड़ोसी है, और कुछ मुद्दों पर दोनों के बीच विवाद भी है, लेकिन चीन और उसके नेता प्रधानमंत्री मोदी की ताकत से अच्छी तरह वाकिफ हैं। चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी कई मौके पर पीएम मोदी की प्रशंसा कर चुके हैं और देश ही नहीं बल्कि वैश्विक मसलों पर उनके विचारों से सहमति जता चुके हैं। पीएम मोदी ने 2014 में जब देश की बागडोर संभाली थी, उसी वर्ष सितंबर में चीनी राष्ट्रपति का भारत दौरा हुआ था। उस दौरे में पीएम मोदी ने चीनी राष्ट्रपति के स्वागत में अहमदाबाद में साबरमती के तट पर स्वागत के विशेष इंतजाम किए थे। जर्मनी के हैमबर्ग में जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर ब्रिक्स देशों की बैठक में चीनी राष्ट्रपति ने आतंकवाद के खिलाफ भारत के मजबूत संकल्प को सराहनीय बताया। उन्होंने आतंकवाद के खिलाफ भारत के कड़े रुख और ब्रिक्स देशों के बीच सामंजस्य स्थापित करने में प्रधानमंत्री मोदी की भूमिका की सराहना भी की थी।

फिलिस्तीन के पूर्व प्रधानमंत्री भी हुए मुरीद
फिलिस्तीन के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. रामी हमदल्लाह ने कहा था कि ”प्रधानमंत्री मोदी वैश्विक नेता हैं, वे पश्चिम एशिया के नेताओं के बीच अपने अच्छे रसूख के बल पर इजरायल के साथ हमारा विवाद खत्म करने में अहम भूमिका निभा सकते हैं।”

अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति ने की थी सराहना
अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी ने पीएम मोदी की सराहना करते हुए कहा था कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक अच्छे वक्ता और कुशल राजनैतिक व्यक्ति हैं। उनके अफगानिस्तान दौरे के बाद दोनों देशों के बीच रिश्ते और मजबूत हुए हैं। भारत और अफगानिस्तान स्वाभाविक मित्र हैं अफगानिस्तान के विकास के लिए भारत ने अहम योगदान दिया है।

 

Leave a Reply