Home नरेंद्र मोदी विशेष PM Modi ने उत्तर प्रदेश के सियासी रण में सभी दलों को...

PM Modi ने उत्तर प्रदेश के सियासी रण में सभी दलों को पीछे छोड़ा, यूपी में धुआंधार 12 रैलियों के जनसैलाब में अखिलेश बह गए, प्रियंका, राहुल, मायावती रैली ही नहीं कर पाए

1523
SHARE

करोड़ों मतदाताओं तक पहुंचे पीएम मोदी, अरबों रुपयों के डेवलपमेंट प्रोजेक्ट की दी सौगातें
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यूं ही विजनरी राजनेता नहीं कहा जाता। जब दूसरी पार्टी के नेता इटली और रणथंभौर में छुट्टियां मनाने में लगे हुए थे, तब प्रधानमंत्री मोदी ने उत्तर प्रदेश में लगातार रैलियों, विकास कार्यों के लोकार्पण और शिलान्यास कार्यक्रमों की झड़ी लगा दी। प्रधानमंत्री मोदी ने न सिर्फ अरबों रुपयों के विकास कार्यों को हरी झण्डी दिखाई, बल्कि लगे हाथों विपक्ष के नेताओं को भी जमकर निशाने पर लिया। पीएम मोदी ने समाजवादी पार्टी के नेता, उसकी पिछली सरकार और कांग्रेस नेताओं की कार्यशैली पर अपने चुटीने अंदाज में पोल खोली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी धुंआधार रैलियों से उत्तर प्रदेश में इतनी बड़ी लकीर खींच दी है कि विपक्षी दलों का इससे पार पाना संभव नहीं लगता।

पीएम मोदी ने धुआंधार रैलियों से करो़ड़ों लोगों को मुरीद बनाया
चुनाव आयोग के ऐलान के बाद उत्तर प्रदेश में 7 चरणों में 25 दिन में चुनाव हो जाएंगे। कोरोना की तीसरी लहर के चलते आयोग ने 15 जनवरी तक रैली, सभा, पदयात्रा, साइकिल यात्रा, नुक्कड़ सभाएं, रोड शो करने पर रोक लगा दी है। इसके चलते राजनीतिक दलों को कम से कम अगले 5 दिन तक कैंपेनिंग ऑनलाइन ही करनी पड़ेगी। राज्य में कोरोना के हालात बिगड़े तो ऑनलाइन कैंपेनिंग की अवधि बढ़ भी सकती है, लेकिन बीजेपी को इससे कोई फर्क पड़ने वाला नही है। दरअसल, पीएम मोदी ने 16 नवंबर से 2 जनवरी तक उत्तर प्रदेश में 12 रैलियां करके लाखों मतदाताओं के अपना मुरीद बना दिया। आयोग के ऐलान से पहले ही बीजेपी के सबसे बड़े स्टार कैंपेनर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रदेश में एक के बाद एक रैलियों का खेला करके अपना काम पूरा कर चुके हैं। उन्होंने डेढ़ महीने के दौरान यूपी के हर इलाके में रैली कीं। पूर्वांचल से लेकर वेस्ट यूपी तक पीएम की ताबड़तोड़ 12 रैलियां हुईं, हर रैली में लाखों का जनसैलाब उमड़ा। डिजिटल माध्यमों की मदद से पीएम मोदी करोड़ों लोगों तक पहुंचे।

प्रियंका रणथंभौर में छुट्टियां मनाती रह गई, राहुल और आप की तो कहानी ही शुरू नहीं हो पाई
प्रियंका गांधी राज्य में पिछले एक साल से सक्रिय होने की कोशिक कर रही हैं। एक नारा देने के अलावा वह अब तक कोई बड़ी रैली नहीं कर पाई हैं। अलबत्ता जब पीएम मोदी और योगी रैलियां कर रहे थे, तब वह छुट्टियां मनाने रणथंभौर जरूर चली गई थीं। उनके भाई और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तो यूपी में एक भी जनसभा नहीं कर पाए हैं। उत्तर प्रदेश में आप की कहानी तो शुरू होने से पहले ही खत्म होती नजर आ रही है। क्योंकि आप नेताओं का अभी यूपी को लेकर कोई स्पष्ट नजरिया नहीं है।अखिलेश छोटे-छोटे क्षेत्रीय दलों का सहारा लेने को मजबूर, मायावती सक्रिय ही नहीं हो पाईं
अखिलेश यादव राज्य ने विजय रथ यात्रा निकाली है। यादव बैल्ट के अलावा यात्रा में कहीं भी ज्यादा भीड़ दिखाई नहीं दी। इसलिए अब वे छोटे-छोटे क्षेत्रीय दलों का साथ ले रहे हैं। वे राज्य में बड़ी जनसभाएं नहीं कर पाए हैं। सपा में उनके अलावा राज्य में दूसरा कोई बड़ा चेहरा भी नहीं है। बसपा सुप्रीमो मायावती सबसे कम सक्रिय हैं। उन्होंने अब तक महज एक रैली और तीन बैठकें की हैं। इसके अलावा 5 बार प्रेस कॉन्फ्रेस की हैं। मायावती रैलियों के लिए चुनाव का इंतजार ही करती रह गईं। लेकिन अब कोरोना गाइडलाइन के चलते बड़ी रैली नहीं कर पाएंगी। इस बार चुनावी मैदान में उनकी सक्रियता को लेकर भी सवाल उठ रहे हैं।

और इधर डबल इंजन की सरकार शंखनाद करती रही, पीएम मोदी ने विपक्षी नेताओं पर जमकर साथे निशाने
2017 में भी यूपी में 7 फेज में विधानसभा चुनाव हुए थे। पहले फेज में 11 फरवरी को वोटिंग हुई थी। इस बार पहले फेज में 10 फरवरी को वोटिंग होगी। 2017 में आखिरी फेज में 8 मार्च को वोटिंग हुई थी। इस बार 5 मार्च को वोटिंग होगी। 2017 में कुल 27 दिनों में चुनाव समाप्त हुए थे। इस बार 25 दिनों में चुनाव खत्म होंगे। यानी 2 दिन कम लग रहे चुनाव संपन्न होने में। लेकिन चुनाव प्रचार के लिए लोगों के बीच जाने का नेताओं को कोरोना के चलते और भी कम समय मिलेगा।

 

आइये, अब बताते हैं कि तारीखों की घोषणा से पहले प्रधानमंत्री मोदी उत्तर प्रदेश के लिए इतना कुछ कर गए, जो आने वाले चुनावों में ही नहीं, बल्कि पीएम मोदी की इन 13 रैलियों को बरसों तक याद किया जाएगा…

1. सुल्तानपुर में 341 किमी लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन, नौ जिले जुड़े
16 नवंबर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश को एक्सप्रेस वे की सौगात देते हुए सुल्तानपुर जिले के करवल खीरी में 341 किलोमीटर लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन किया। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि जब तीन वर्ष पहले मैंने पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास किया था तब ये नहीं सोचा था कि कि एक दिन उसी एक्सप्रेस-वे पर विमान से मैं खुद उतरूंगा। पीएम भारतीय वायु सेना के विमान सी-130जे सुपर हरक्यूलिस से सुल्तानपुर के करवल खीरी पहुंचे। पूर्वी उत्तर प्रदेश को इस एक्सप्रेस वे से सीधा फायदा मिलेगा। लखनऊ से गाजीपुर तक एक्सप्रेसवे से नौ जिले जुड़ेंगे। सुल्तानपुर जिले में एक्सप्रेसवे आपात स्थिति में भारतीय वायु सेना के लड़ाकू विमानों की लैंडिंग और टेक आफ करने में सक्षम होगी।

2.बुंदेलखंड के महोबा में अर्जुन बांध परियोजना का उद्घाटन, 4 लाख को मिलेगा पेयजल
19 नवंबर: पीएम नरेंद्र मोदी ने बुंदेलखंड के महोबा में सौगात देते हुए अर्जुन सहायक योजना का उद्घाटन किया। इस मौके पर पीएम मोदी ने पिछली सरकारों पर जमकर हमला बोला और उन्हें बुंदेलखंड को सुविधाओं से महरुम रखने के लिए जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि पुरानी सरकारों ने हमेशा बुंदेलखंड को लूटा। यूपी के विकास को कोई रोक नहीं पाएगा। योगी सरकार ने पानी की कई परियोजनाओं पर काम किया। अर्जुन सहायक बांध परियोजना में कुल 2655.35 करोड़ की लागत आई है। इस योजना से महोबा, हमीरपुर, बांदा जिलों को फायदा होगा। इसके तहत सिंचाई क्षमता 44381 हेक्टेयर क्षेत्र में होगी और 4 लाख लोगों को पीने का पानी मिल सकेगा।

3. झांसी में डिफेंस कॉरिडोर, सेना को स्वदेशी लाइट कॉम्बेट हेलिकॉप्टर सौंपा
19 नवंबर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झांसी में आयोजित ‘राष्ट्र रक्षा समर्पण पर्व’ में डिफेंस कॉरिडोर की आधारशिला रखी। उन्होंने सेना को स्वदेशी लाइट कॉम्बेट हेलिकॉप्टर सौंपा। अल्ट्रा मेगा सोलर पॉवर पार्क का शिलान्यास किया। पीएम नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) के पूर्व छात्र संघ का शुभारंभ किया। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि लंबे समय से भारत को दुनिया के सबसे बड़े हथियार खरीदार देशों में गिना जाता रहा है। आज देश का मंत्र है- मेक इन इंडिया, मेक फॉर वर्ल्ड। आज हमारी सेनाओं की ताकत बढ़ रही है। पीएम मोदी ने कहा कि हमें अपने देश को सरदार पटेल के सपनों का भारत बनाना था। यह हमारी जिम्मेदारी है। यही आजादी के अमृत काल में हमारा संकल्प और देश का लक्ष्य है।4. जेवर एयरपोर्ट का शिलान्यास : कुछ दलों ने परिवार का विकास किया, हमारे लिए राष्ट्र प्रथम- पीएम
25 नवंबर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जेवर में ‘नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे’ का शिलान्यास किया। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि 21वीं सदी का भारत एक से बढ़कर एक आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण कर रहा है। नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट कनेक्टिविटी के जरिए बेहतर मॉडल बनेगा। यह उत्तर भारत का लॉजिस्टिक गेटवे बनेगा। यह पूरे क्षेत्र को नेशनल गतिशक्ति मास्टर प्लान का प्रतिबिंब बनाएगा। विपक्ष पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा कि देश में कुछ राजनीतिक दलों ने हमेशा अपने स्वार्थ को सर्वोपरि रखा है। इन लोगों की सोच रही है- अपना स्वार्थ, सिर्फ अपना खुद का, परिवार का विकास, जबकि हम राष्ट्र प्रथम की भावना पर चलते हैं। सबका साथ-सबका विकास, सबका विश्वास-सबका प्रयास, हमारा मंत्र है। उन्होंने कहा कि इंफ्रास्ट्रक्चर हमारे लिए राजनीति का नहीं बल्कि राष्ट्रनीति का हिस्सा है।

5. गोरखपुर के एम्स, फर्टिलाइजर प्लांट का लोकार्पण : लाल टोपी वालों को लाल बत्ती और सत्ता चाहिए-पीएम
7 दिसंबर : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज गोरखपुर को करोड़ों की परियोजनाओं की सौगात दी। प्रधानमंत्री ने 9,600 करोड़ की परियोजनाओं को राष्ट्र को समर्पित किया है। इन परियोजनाओं में सबसे अहम है गोरखपुर का खाद कारखाना, जिसकी कुल लागत 8603 करोड़ है। इसके अलावा पीएम मोदी गोरखपुर में एम्स और आरएमआरसी के जांच केंद्र का भी उद्घाटन किया। इस मौके पर विपक्ष को आड़े हाथों लेते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आज माफिया जेल में हैं। लाल टोपी वाले यूपी के लिए रेड अलर्ट हैं। आपके दुख से लाल टोपी वालों का कोई लेना-देना नहीं है। लाल टोपी वालों को लाल बत्ती और सत्ता चाहिए। आज निवेशक दिल खोलकर यूपी में निवेश कर रहे हैं। डबल इंजन की सरकार पर यूपी को विश्वास है। आपका यह आशीर्वाद हमें मिलता रहेगा।

6. बलरामपुर में सरयू केनाल का लोकार्पण किया, नौ जिलों के 30 लाख किसानों को फायदा
11 दिसंबर : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में सरयू नहर परियोजना का लोकार्पण किया। 9800 करोड़ रुपये की इस परियोजना का फायदा 9 जिलों के 25 से 30 लाख किसानों को होगा। इससे 14 लाख हेक्टेअर सिंचन क्षमता बढ़ेगी। पिछली सरकारों की लापरवाही के चलते इस परियोजना को पूरा होने में 50 साल का समय लग गया। पीएम मोदी ने बलरामपुर में सरयू नहर परियोजना के उद्घाटन कार्यक्रम में जनसभा को संबोधित करते हुए विपक्ष की चुटकी ली कि आज जब मैं दिल्ली से यहां के लिए चला तो इंतजार कर रहा था कि कोई कह दे कि यह परियोजना तो हमने शुरू की थी। कुछ लोग केवल लालफीता काटने के लिए ही सोचते रहते हैं।7. श्री काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर का लोकार्पण : भारतीय अगर ठान लें तो कुछ भी असंभव नहीं- पीएम
13 दिसंबर : पीएम ने भव्य-दिव्य समारोह में श्री काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर का लोकार्पण करते हुए कहा कि यह परिसर भारत के सामर्थ्य का साक्षी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी में नए स्वरूप में निर्मित काशी विश्वनाथ धाम परिसर को भारत की सांस्कृतिक विरासत का प्रतीक बताया। उन्होंने कहा कि काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण, भारत को एक निर्णायक दिशा देगा, एक उज्ज्वल भविष्य की तरफ ले जाएगा। पीएम ने इस परिसर के निर्माण को प्रबल इच्छाशक्ति का प्रतीक बताते हुए कहा कि काशी ने जब भी करवट ली है, तब देश का भाग्य बदला है। ये परिसर हमारे सामर्थ्य और कर्तव्य का साक्षी है। हम भारतीय अगर ठान लें तो कुछ भी असंभव नहीं है। उल्लेखनीय है कि 339 करोड़ रुपये की लागत से रिकॉर्ड 33 महीनों में बन कर तैयार हुए भव्य परिसर में श्रद्धालुओं के लिए विश्वस्तरीय सुविधाओं से युक्त 23 भवनों का निर्माण किया गया है। साथ ही मंदिर परिसर के धार्मिक महत्व को बरकरार रखते हुए कई प्राचीन मंदिरों का जीर्णोद्धार भी किया गया है।

8. शाहजहांपुर में गंगा एक्सप्रेस-वे : पहले परियोजनाएं कागज पर शुरू होती थीं, ताकि अपनी तिजोरी भर सकें- पीएम
18 दिसंबर : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में गंगा एक्सप्रेस-वे की आधारशिला रखी। इस अवसर पर पीएम मोदी ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि पहले ऐसी परियोजनाएं कागज पर इसलिए शुरु होती थीं, ताकि वो लोग अपनी तिजोरी भर सकें। आज ऐसी परियोजनाओं पर इसलिए काम हो रहा है, ताकि यूपी के लोगों का पैसा बचे। आज डबल इंजन की सरकार में यूपी का बढ़ता हुआ सामर्थ्य हम सभी देख रहे हैं। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे हो या फिर दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे, कुशीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट हो,या फिर डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर के महत्वपूर्ण फेज जैसे अनेक प्रोजेक्ट जनसेवा के लिए समर्पित हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि यहां काम पूरा होने के बाद यह उत्तर प्रदेश का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे बन जाएगा। यह राज्य के पश्चिमी और पूर्वी क्षेत्रों को जोड़ेगा। गंगा एक्सप्रेसवे 594 किलोमीटर लंबा एक्सप्रेसवे है। इसे 36,200 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से बनाया जाएगा। यह मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर, अमरोहा, संभल, बदायूं, शाहजहांपुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ़ और प्रयागराज जिलों से होकर गुजरेगी।

9. प्रयागराज में दो लाख महिलाओं और मातृशक्ति के महाकुंभ में पीएम मोदी
21 दिसंबर: प्रयागराज में दो लाख से ज्यादा महिलाओं और मातृशक्ति के महाकुंभ में प्रधानमंत्री मोदी ने सामर्थ्य की प्रतीक माताओं-बहनों को सबसे पहले नमन किया। इसके बाद उन्होंने भाषण की शुरुआत इलाहाबादी बोली में कर लोगों का दिल जीत लिया। मोदी ने ठेठ अंदाज में कहा कि, संगम पर ये धरती के हम शीश झुकाय के प्रणाम कर थई। ई धरा पर ज्ञान, धर्म और न्याय क त्रिवेणी बहत हौ। मां गंगा, यमुना, सरस्वती के पावन तट पर बसे प्रयागराज के धरती पर आय के हमेशइ एक अलग ऊर्जा क एहसास होत अहै। ऐसी पावन भूमि को हाथ जोड़कर प्रणाम करता हूं। मोदी के इस संबोधन पर हर तरफ भारत माता और वंदे मातरम के जयकारे लगते रहे। इससे पहले पीएम मोदी ने स्वयं सहायता समूहों की 75 महिलाओं से मुलाकात की और उनसे आत्मीय संवाद किया।
10. काशी को 1500 करोड़ की परियोजनाओं की सौगात : गाय कुछ लोगों के लिए गुनाह, हमारे लिए गाय माता- पीएम
23 दिसंबर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी में 870.16 करोड़ से अधिक लागत वाली 22 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण किया और 1225.51 करोड़ की पांच परियोजनाओं की आधारशिला भी रखी। पीएम मोदी ने कहा कि आज का दिन वाराणसी के किसानों और पशुपालकों के लिए बड़ा दिन है। पीएम ने यहां 2100 करोड़ की 27 परियोजनाओं को वाराणसी के लोगों को समर्पित किया। मोदी ने कहा कि हमारे यहां गाय और गोबर धन की बात करने को कुछ लोगों ने गुनाह बना दिया है। गाय कुछ लोगों के लिए गुनाह हो सकती है, हमारे लिए गाय माता है। गाय का मजाक उड़ाने वाले लोग ये भूल जाते हैं कि देश के 8 करोड़ लोगों की आजीविका इसी पशुधन से चलती है। भारत हर साल साढ़े आठ लाख करोड़ के दूध का उत्पादन करता है।

11. कानपुर को मेट्रो की सौगात : युवाओं को सलाह, आप comfort मत चुनना, challenge जरूर चुनना
28 दिसंबर : प्रधानमंत्री मोदी ने कानपुर को मेट्रो ट्रेन की सौगात दी। वे सबसे पहले आईआईटी के दीक्षांत समारोह में शामिल हुए। इसके बाद आईआईटी मेट्रो स्टेशन पहुंचे और यहां लगी बीपीसीएल की परियोजना का मॉडल देखा। उन्होंने आईआईटी कानपुर में आयोजित दीक्षांत समारोह में छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि ये दौर, ये 21वीं सदी, पूरी तरह Technology Driven है। इस दशक में भी टेक्नोलॉजी अलग-अलग क्षेत्रों में अपना दबदबा और बढ़ाने वाली है। आज से शुरू हुई यात्रा में आपको सहूलियत के लिए शॉर्टकट भी बहुत लोग बताएंगे। लेकिन मेरी सलाह यही होगी कि आप comfort मत चुनना, challenge जरूर चुनना। क्योंकि, आप चाहें या न चाहें, जीवन में चुनौतियां आनी ही हैं। जो लोग उनसे भागते हैं वो उनका शिकार बन जाते हैं।

12. मेरठ में खेल विश्वविद्यालय : पहले माफिया खेल खेलते थे, अब योगी सरकार जेल-जेल खेल रही है- पीएम
2 जनवरी : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश को एक खेल विश्वविद्यालय की सौगात दी। उन्होंने मेरठ में मेजर ध्यान चंद स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी की आधारशिला रखी। पीएमओ ने कहा कि विश्वविद्यालय में शूटिंग, स्क्वैश, जिम्नास्टिक, वेटलिफ्टिंग, तीरंदाजी, कैनोईंग और कयाकिंग सहित कई अन्य खेलों की भी सुविधाएं भी होंगी। सरकारों की भूमिका अभिभावक की तरह होती है। योग्यता होने पर बढ़ावा भी दे और गलती होने पर यह कहकर न टाल दें कि लड़कों से गलती हो जाती है। आज योगी जी की सरकार युवाओं की रिकॉर्ड सरकारी नियुक्त कर रही है। पीएम ने कहा कि पिछली सरकारों में अपराधी अपना खेल खेलते थे, माफिया अपना खेल खेलते थे। पहले माफिया अपना टूर्नामेंट खेलते थे। बेटियों पर फब्तियां कसने वाले खुलेआम घूमते थे। पहले की सरकार अपने खेल में लगी रहती थी। उनके खेल का ही नतीजा था कि लोग अपना पुश्तैनी घर छोड़ने पर मजबूर हो गए थे। अब योगी जी की सरकार ऐसे अपराधियों के साथ जेल जेल खेल रही है।

लखनऊ में डीजीपी-आईजी सम्मेलन, नक्सली हिंसा, आतंकी मोड्यूल के खिलाफ मंथन
यह रैली नहीं, मगर देश के लिए एक महत्वपूर्ण सम्मेलन था…पुलिस महानिदेशकों के सम्मेलन में शनिवार को यहां नक्सली हिंसा, आतंकी मोड्यूल के खिलाफ कार्रवाई और साइबर सुरक्षा जैसे मुद्दों पर प्रमुखता से चर्चा हुई, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हिस्सा लिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा गृह मंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे। सम्मेलन में साइबर अपराध, डेटा गवर्नेंस, आतंकवाद विरोधी चुनौतियों सहित अन्य मुद्दों पर चर्चा हुई। इस मौके पर राज्यों के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल और केंद्रीय पुलिस संगठनों के प्रमुख भी शामिल रहे। ऐसा पहली बार हो रहा है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 3 दिनों तक उत्तर प्रदेश में ही रुके। यूपी में होने वाले विधानसभा चुनाव भी इसकी एक बड़ी वजह माना गया।

 

 

Leave a Reply