Home समाचार पीएम मोदी दुनिया के सबसे प्रभावशाली नेता, विश्व मंच पर भारत को...

पीएम मोदी दुनिया के सबसे प्रभावशाली नेता, विश्व मंच पर भारत को सुन रही है पूरी दुनियाः आस्ट्रेलिया के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी एबॉट

168
SHARE

आस्ट्रेलिया के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी एबॉट ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जमकर तारीफ की है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी दुनिया के सबसे प्रभावशाली नेता हैं और उनके नेतृत्व में भारत सुपर पावर बनने की ओर अग्रसर है। टोनी एबॉट ने कहा कि मेरी यह प्रबल मान्यता है कि आने वाले दशकों में कहीं फ्री वर्ल्ड होगा तो वह भारत की अगुवाई में बनेगा और फ्री वर्ल्ड का कोई नेता होगा तो वह दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश यानी भारत का नेता होगा। उन्होंने कहा कि गोल्डमैन सैक्स के ग्लोबल हेड ने घोषणा की है कि आर्थिक तरक्की के मद्देनजर भविष्य में भारतीय दशक ही नहीं भारतीय सदी होगी। उन्होंने कहा कि इस तरह देखें तो 19वीं सदी ब्रिटिश की और 20वीं सदी अमेरिका की थी तो 21वीं सदी भारत के नाम होगी। उन्होंने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था चीन को पछाड़कर आगे निकल जाएगी क्योंकि उसकी सबसे बड़ी थाती उसका लोकतंत्र है। इसके साथ ही उसके पास स्वतंत्र मीडिया और स्वतंत्र न्यायपालिका है जो गैरलोकतांत्रिक कदमों को रोकने में सक्षम है, जो कि चीन के पास नहीं है। टोनी एबॉट ने कुछ समय पहले कहा था कि अगर कोई ऐसा देश है, जो अपनी सैन्य ताकत और उसके आकार और आर्थिक क्षमता को दिखा कर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्य होने का दावा कर सकता है तो वह निश्चित रूप से नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत है।

पीएम मोदी और भारत की शान में कसीदे पढ़ते हुए टोनी एबॉट ने हाल ही में द आस्ट्रेलिन अखबार में 6 सितंबर 2022 को एक लेख ‘द डेमोक्रेटिक सुपरपावर वी नीड- इंडिया’ (The Democratic Superpower We Need) लिखा है, जिसकी काफी चर्चा हो रही है। उन्होंने अपने लेख में कहा कि भारत ने इतिहास में विभाजन और युद्ध जैसी कई विभीषिकाएं झेली हैं, लेकिन फिर भी आज भारत विश्व में अकेली ऐसी बड़ी अर्थव्यवस्था है जो सबसे तेजी से आगे बढ़ रही है। लेख में उन्होंने इस बात का जिक्र किया है कि भारत के आगे बढ़ने में कई महत्वपूर्ण बातें हैं जिसमें यह भी है कि वह पड़ोसी देशों में भय उत्पन्न नहीं करता, डराकर नहीं रखता। जैसे कि श्रीलंका…मुश्किल वक्त में भारत ने उसकी मदद ही है। वहीं चीन की साम्राज्यवादी सोच की वजह से उसके पड़ोसी भी उससे डरते हैं। उन्होंने चीन की आलोचना करते हुए कहा कि चीन ने हांगकांग, ताइवान और वियतनाम जैसे देशों को परेशान कर रखा है।

एक इंटरव्यू में टोनी एबॉट ने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत में कई महत्वपूर्ण बदलाव आए हैं। वह एक तरफ जहां देश को हर तरह से समृद्ध बना रहे हैं वहीं दुनिया के देशों के साथ संबंध बढ़ा रहे हैं। जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे जब दोबारा सत्ता में आए तो उन्हें नरेंद्र मोदी के रूप में एक महत्वपूर्ण दोस्त मिला। आबे ने भी कई बदलाव लाकर अपने देश को आगे बढ़ाया वहीं मोदी के नेतृत्व में भारत तरक्की के रास्ते पर अग्रसर है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सत्ता में आने के बाद 2014 से भारत के विकास को आप किस तरह देखते हैं इस पर टोनी एबॉट ने कहा कि व्यापक परिवर्तन हुआ है। मैं इससे काफी प्रभावित हूं कि 2014 के बाद भारत में जिस तरह इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास हुआ है वह काफी महत्वपूर्ण है। भारत आज उसी तरह से विकास कर रहा है जिस तरह से चीन ने 80 और 90 के दशक में की थी। भारत के 50 शहरों को मेट्रो सिटी बनाया जा रहा है और इससे देश में इंफ्रास्ट्रक्चर ग्रोथ बढ़ेगा। भारत की अर्थव्यवस्था आज उड़ान भरने को है।

भारत में मीडिया और अभिव्यक्ति की आजादी पर टोनी एबॉट ने कहा कि भारतीय मीडिया में बड़े पैमाने पर विविधता है। उन्होंने कहा कि भारत में सरकार पर किसी एक पार्टी का अधिकार नहीं है, वहां सरकारें बदलती रहती है। सत्ताधारी पार्टी की बात करें तो उसे निचले सदन में बहुमत है लेकिन उच्च सदन में बहुमत नहीं है। राज्यों में कई जगह दूसरे दलों की सरकारें हैं।

एबॉट से पूछा गया कि भारतीय जनता पार्टी को हिंदू नेशनलिस्ट पार्टी कहा जाता है तो इस पर उन्होंने कहा कि पश्चिमी देशों में नेशनलिज्म को दूसरे अर्थों में लिया जाता है लेकिन अगर मैं आस्ट्रेलिया के संदर्भ में कहूं तो उसे नेशनलिस्ट नहीं कहूंगा बल्कि पैट्रियोटिक (देशभक्त) पार्टी कहूंगा।

जब एबॉट से पूछा गया कि अर्थशास्त्री भारत के लोकतंत्र को त्रुटिपूर्ण कहते हैं और स्वीडिश इंस्टीट्यूट ने भारत के लोकतंत्र को चुनावी रूप से निरंकुश करार दिया है। इस पर एबॉट ने कहा कि ये एजेंसी पूर्वाग्रह से ग्रसित हैं। हमें उनकी बातों को सर्तकता से लेने की जरूरत है।उल्लेखनीय है कि टोनी एबॉट ऑस्ट्रेलिया के पूर्व प्रधानमंत्री हैं, उन्होंने 2013 से 2015 तक आस्ट्रेलिया की कमान संभाली। उनको ऑस्ट्रेलिया की राजनीति में मजबूत फैसले लेने वाला राजनेता माना जाता है।

 

 

Leave a Reply