Home समाचार आधुनिक निर्माण बदल रहे देश की राजधानी की तस्वीर, दिल्ली को मिला...

आधुनिक निर्माण बदल रहे देश की राजधानी की तस्वीर, दिल्ली को मिला इंफ्रास्ट्रक्चर का बहुत सुंदर उपहार: पीएम मोदी

209
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को प्रगति मैदान में एकीकृत ट्रांजिट कॉरिडोर परियोजना की मुख्य सुरंग समेत पांच टनल का उद्घाटन किया। मोदी सरकार की पहल पर प्रगति मैदान एकीकृत ट्रांजिट कॉरिडोर के तहत 923 करोड़ की लागत से एक विश्वस्तरीय टनल और 5 अंडरपास बनकर तैयार हैं। इससे अब 30 मिनटों की दूरी पांच मिनटों में पूरी की जा सकती है।

पीएम मोदी ने इस मौके पर दिल्ली-एनसीआर के लोगों को बधाई देते हुए कहा, “दिल्ली को केंद्र सरकार की तरफ से आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर का बहुत सुंदर उपहार मिला है। इतने कम समय में इस इंटीग्रेटेड ट्रांजिट कॉरिडोर को तैयार करना आसान नहीं रहा है। जिन सड़कों के इर्द-गिर्द ये कॉरिडोर बना है वो दिल्ली की सबसे व्यस्ततम सड़कों में से एक है। हर रोज लाखों गाड़ियां इनसे गुजरती हैं। ये जो टनल बनी है, उसके ऊपर से तो सात रेलवे लाइंस होकर गुजर रही हैं। लेकिन हमारे इंजीनियरों, हमारे श्रमिक भाई-बहनों का कमाल है कि उन्होंने इस प्रोजेक्ट को तेजी से पूरा करके दिखाया है। मैं इस प्रोजेक्ट से जुड़े सभी लोगों का आभार व्यक्त करता हूं।”

पीएम मोदी इस मौके पर लोगों को स्वच्छता का संदेश भी देते नजर आए। इस इलाके में इंडिया गेट, चीड़िया घर, पुराना किला, प्रगति मैदान, दिल्ली हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट जैसे प्रमुख इंस्टीट्यूशनल लैंडमार्क्स होने से यहां सामान्य से अधिक ट्रैफिक रहता है। जिसके कारण आए दिन ट्रैफिक जाम की समस्या बनी रहती थी। लेकिन अब इस समस्या का हमेशा के लिए निदान हो गया है। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इंटीग्रेटेड ट्रांज़िट कॉरिडोर, प्रगति मैदान प्रदर्शनी स्थल को 21वीं सदी की आवश्यकताओं के अनुसार ट्रांसफॉर्म करने के अभियान का हिस्सा है। उन्होंने कहा, “देश की राजधानी में विश्व स्तरीय कार्यक्रमों के लिए State of the Art सुविधाएं हों, एक्जीबिशन हॉल हों इसके लिए भारत सरकार निरंतर काम कर रही है। केंद्र सरकार द्वारा कराए जा रहे ये आधुनिक निर्माण, देश की राजधानी की तस्वीर बदल रहे हैं, उसे और आधुनिक बना रहे हैं।”

इस परियोजना के पूर्ण हो जाने से मथुरा रोड तथा भैरव मार्ग सिग्नल फ्री हो जाएंगे। परियोजना का मुख्य आकर्षण है 1.3 किलोमीटर लंबी 6 लेन टनल है जो पुराना किला रो़ड से शुरू होकर रिंग रोड तक जाती है। इस टनल की चौड़ाई 28 मीटर से लेकर 42 मीटर तक है। यह भारत की सबसे चौड़ी शहरी टनल होने के साथ ही आत्मनिर्भर भारत का एक नायाब नमूना है।इसका निर्माण और डिजाइन पूर्णत स्वदेशी इंजीनियर्स के द्वारा किया गया है। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज़ादी के अमृतकाल में देश के मेट्रो शहरों के दायरे का विस्तार करना, टीयर-2, टीयर-3 शहरों में बेहतर प्लानिंग के साथ काम करना आवश्यक है। आने वाले 25 साल में भारत के तेज़ विकास के लिए हमें शहरों को Green, Clean और Friendly बनाना है। पहली बार Urban Planning को कोई सरकार इतने बड़े स्तर पर महत्व दे रही है।शहरी गरीबों से लेकर शहरी मिडिल क्लास तक, हर किसी के लिए बेहतर सुविधाएं देने पर काम किया जा रहा है।

परियोजना की तारीफ करते हुए पीएम मोदी ने टनल के अंदर के आर्टवर्क की दिल खोल कर सराहना कि और कहा कि यह एक भारत श्रेष्ठ भारत का उत्तम एजुकेशन सेंटर है। इस मौके पर सुझाव देते हुए पीएम मोदी ने कहा, “मेरा सुझाव है संडे को 4-6 घंटे किसी भी व्हीकल को वहां एंट्री न दी जाए और हो सके तो स्कूल के बच्चों को पैदल ये आर्ट गैलरी दिखाई जाए, बहुत बड़ी सेवा होगी। और मैं तो कहूंगा विदेश मंत्रालय को कि सबसे पहले यहां जो एंबेसेडर्स हैं, उनके मिशन हैं सारे, सारे मिशन को लोगों को ले जाइए और उस टनल में पदयात्रा कराइए।”

Leave a Reply