Home नरेंद्र मोदी विशेष पीएम मोदी ने किया पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा पंडाल का उद्घाटन,...

पीएम मोदी ने किया पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा पंडाल का उद्घाटन, बोले यह भारत की एकता और पूर्णता का पर्व है

303
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा पंडाल का उद्घाटन किया और इस अवसर पर आयोजित ‘पूजोर शुभेच्छा’ कार्यक्रम को वीडिया कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “जब आस्था अपरम्पार हो, मां दुर्गा का आशीर्वाद हो, तो स्थान, स्थिति, परिस्थिति से आगे बढ़कर पूरा देश ही बंगाल हो जाता है, बंगालमय हो जाता है। ऐसी कोई जगह नहीं, जहां इन दिनों ‘ग्राम बांग्ला और शोहोर बांग्ला’ के रंग और मां दुर्गा के नवरूप की झलक न दिखाई देती हो। दुर्गा पूजा का पर्व भारत की एकता का पर्व भी है, भारत की पूर्णता का पर्व भी है। बंगाल की दुर्गा पूजा भारत की इस पूर्णता को एक नई चमक देती है, नए रंग देती है, नया श्रृंगार देती है। ये बंगाल की जागृत चेतना का, बंगाल की आध्यात्मिकता का, बंगाल की ऐतिहासिकता का प्रभाव है। पवित्र षष्ठी के इस पुण्य अवसर पर मैं बंगाल की पवित्र पुण्य भूमि को नमन करता हूं।”

प्रधानमंत्री ने बंगाल की धरती की महान विभूतियों का विशेष रूप से उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर, बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय, शरद चंद्र चट्टोपाध्याय, ईश्वरचन्द्र विद्यासागर, नेताजी सुभाष चंद्र बोस, रामकृष्ण परमहंस, स्वामी विवेकानंद, चैतन्य महाप्रभु, श्री अरबिंदो जैसे महान व्यक्तित्वों ने जब जैसी आवश्यकता पड़ी मां भारती की सेवा की है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मां दुर्गा की पूजा तो साक्षात शक्ति की साधना है। हमारी मां दुर्गा ‘दारिद्र्य दु:ख भय हारिणि’ कही जाती हैं, ‘दुर्गति-नाशिनी’ कही जाती हैं। अर्थात, वो दुखों को, दरिद्रता को, दुर्गति को दूर करती हैं। इसलिए, दुर्गा पूजा तभी पूरी होती है जब हम किसी के दुख को दूर करते हैं, किसी गरीब की मदद करते हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि नारीशक्ति हमेशा से सभी चुनौतियों को परास्त करने की ताकत रखती है। ऐसे में यह सभी का दायित्व है कि संगठित रूप से सभी उनके साथ खड़े हों। भारतीय जनता पार्टी के विचार यही हैं, संस्कार यही हैं, और संकल्प भी यही है। इसलिए, देश में आज महिलाओं के सशक्तिकरण का भी अभियान तेज गति से जारी है। श्री मोदी ने कहा, “चाहे जनधन योजना के तहत 22 करोड़ महिलाओं के बैंक खाते खोलना हो या फिर मुद्रा योजना के तहत करोड़ों महिलाओं को आसान ऋण देना, चाहे ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान हो या फिर तीन तलाक के खिलाफ कानून, चाहे गर्भावस्था के दौरान मुफ्त चेक-अप की सुविधा हो या फिर पोषण अभियान, चाहे स्वच्छ भारत के तहत घरों में शौचालय का निर्माण हो या फिर रसोई में धुएं से आजादी, चाहे नाइट शिफ्ट में काम करने का अधिकार हो या फिर मैटर्निटी लीव को 12 हफ्ते से बढ़ाकर 26 हफ्ते करना, चाहे गहरी खदानों में भी काम करने की स्वीकृति हो या फिर सेना में परमानेंट कमीशन, देश की नारीशक्ति को सशक्त करने के लिए निरंतर काम किया जा रहा है।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा को लेकर भी सरकार सजग है। रेप की सजा से जुड़े कानूनों को बहुत सख्त किया गया है, दुराचार करने वालों को मृत्युदंड तक का प्रावधान हुआ है। भारत ने जो नया संकल्प लिया है- आत्मनिर्भर भारत के जिस अभियान पर हम निकले हैं, उसमें भी नारी शक्ति की बहुत बड़ी भूमिका है। पीएम मोदी ने कहा कि बंगाल के तेज विकास के लिए और यहां के लोगों को मूलभूत सुविधाएं पहुंचाने के लिए निरंतर काम हो रहा है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बंगाल में करीब 30 लाख गरीबों के लिए घर बनाए जा चुके हैं। उज्ज्वला योजना के तहत करीब 90 लाख गरीब महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए गए हैं। प्रधानमंत्री जन धन योजना के जरिए बंगाल के लगभग चार करोड़ गरीबों के बैंक खाते खोले गए हैं। ‘जल जीवन मिशन’ योजना के जरिए बंगाल के लगभग 4 लाख घरों में पाइप से साफ पानी पहुंचाने का काम हुआ है।

पीएम मोदी ने कहा कि बंगाल के इनफ्रास्ट्रक्चर के लिए और कनेक्टिविटी सुधारने के लिए भी लगातार काम हो रहा है। कोलकाता में ईस्ट-वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर परियोजना के लिए भी साढ़े 8 हजार करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं। नेपाल, भारत और बांग्लादेश के बीच संपर्क बढ़ाने के लिए सैकड़ों करोड़ रुपये की लागत से सड़क परियोजना पर कार्य चल रहा है। उन्होंने कहा कि नेशनल हाईवेज हों, वॉटरवेज हों या फिर गांव-गांव तक ब्रॉडबैंड की कनेक्टिविटी, हमारी कोशिश है कि बंगाल के आम जन के जीवन से मुश्किलें कम हों, उनका जीवन आसान बने। उन्होंने कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार ने पूर्वोदय का मंत्र अपनाया है, पूर्वी भारत के विकास के लिए निरंतर फैसले लिए हैं। पूर्वोदय के इस मिशन में पश्चिम बंगाल को महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है। मुझे भरोसा है कि पूर्वोदय का केंद्र बनकर पश्चिम बंगाल जल्द ही एक नई दिशा की तरफ बढ़ेगा। 

 

Leave a Reply