Home समाचार प्रधानमंत्री मोदी आज करेंगे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर वैश्विक शिखर सम्मेलन RAISE 2020...

प्रधानमंत्री मोदी आज करेंगे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर वैश्विक शिखर सम्मेलन RAISE 2020 का उद्घाटन

176
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज, 5 अक्तूबर को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर वैश्विक शिखर सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे। सामाजिक सशक्तिकरण के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर (एआई) पर इस वर्चुअल सम्मेलन का आयोजन इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय और नीति आयोग 5 से 9 अक्टूबर, 2020 के बीच कर रहे हैं।

Responsible AI for Social Empowerment- RAISE 2020 एक ऐसा वैश्विक मंच होगा जहां सामाजिक बदलाव समेत स्वस्थ्य, कृषि, शिक्षा और स्मार्ट मोबिलिटी जैसे क्षेत्रों में एआई के इस्तेमाल की संभावनाओं पर दुनियाभर के विशेषज्ञ विचार-विमर्श करेंगे।

RAISE 2020 शिखर सम्मेलन में महामारी से निपटने की तैयारियों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का समान लाभ उपलब्ध कराना, नवाचारों के डिजिटीकरण को प्रोत्‍साहन, सफल नवाचार के लिए समावेशी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और भागीदारी जैसे विषयों पर विचार-विमर्श होगा।

स्टार्टअप के लिए दुनिया के तीसरे सबसे बेहतर इकोसिस्टम, आईआईटी समेत विश्व स्तरीय विज्ञान एवं तकनीकी संस्थानों, विशाल डिजिटल बुनियादी ढांचा और हर वर्ष लाखों की संख्या में तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने वाले स्नातकों की बदौलत भारत आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को विकसित करने में विश्व की अगुवाई करने में पूरी तरह से सक्षम है। विशेषज्ञों का मानना है कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस भारत की अर्थव्यवस्था के लिए 2035 तक 957 बिलियन अमेरिकी डॉलर आकर्षित कर सकता है।

‘सबका साथ-सबका विकास’ की भावना और लक्ष्य के साथ प्रधानमंत्री मोदी की योजना समग्र विकास के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को बढ़ावा देना और सभी के लिए उपयोगी बनाना है। प्रधानमंत्री के विचारों से प्रेरित भारत जल्द ही अंतरराष्ट्रीय समुदाय के बीच न सिर्फ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के क्षेत्र में नेतृत्व करेगा बल्कि यह दुनिया को यह भी दिखाएगा कि सामाजिक सशक्तिकरण में जवाबदेह ढंग से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल कैसे किया जा सकता है।

RAISE 2020 अपनी तरह का पहला वैश्विक आयोजन है, जिसका मकसद जवाबदेह एआई के द्वारा सशक्तिकरण, सामाजिक परिवर्तन, सभी को शामिल करने, के भारत के दृष्टिकोण का रोड मैप पेश करना है।

 

Leave a Reply