Home समाचार PM मोदी ने 27 हजार दिव्यांगजनों को वितरित किए सहायक उपकरण, कहा-130...

PM मोदी ने 27 हजार दिव्यांगजनों को वितरित किए सहायक उपकरण, कहा-130 करोड़ भारतीयों की सेवा करना सर्वोच्च प्राथमिकता

1289
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में सामाजिक अधिकारिता शिविर समारोह के अंतर्गत 26,791 दिव्यांगों और बुजुर्गों के बीच करीब 56 हजार सहायक उपकरण वितरित किए। 

इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि वरिष्ठजन, दिव्यांगजन, आदिवासी, दलित-पीड़ित समेत सभी 130 करोड़ भारतीयों के हितों की रक्षा और सेवा करना ही उनकी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि समाज के हर व्यक्ति के विकास के लिए और उनके जीवन को आसान बनाने के लिए उनकी सरकार काम कर रही है।

पीएम मोदी ने कहा कि दिव्यांगजनों की तकलीफों को समझते हुए उनकी सरकार ने संवेदनशीलता से काम किया है। बीते 5 साल में केंद्र सरकार ने देश के अलग-अलग इलाकों में करीब 9,000 कैंप लगवाए हैं। उन्होंने कहा,”पिछली सरकार के पांच साल में जहां दिव्यांगजनों को 380 करोड़ रुपए से भी कम के उपकरण बांटे गए, वहीं हमारी सरकार ने 900 करोड़ रुपए से ज्यादा के उपकरण बांटे हैं। यानि करीब-करीब ढाई गुना।”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दिव्यांगों की नियुक्ति के लिए विशेष अभियान चलाए गए हैं। सरकारी नौकरियों में दिव्यांगों के लिए आरक्षण 3% से बढ़ाकर 4% कर दिया है। इसके साथ ही उच्च शिक्षा संस्थानों में दाखिले के लिए भी उनका आरक्षण 3% से बढ़ाकर 5% कर दिया गया है। 

उन्होंने कहा कि एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने पर अलग-अलग भाषा होने पर भी दिव्यांगों को दिक्कतें होती थीं। उनकी सरकार ने इंडियन साइन लैंग्वेज रिसर्च एंड ट्रेनिंग सेंटर की स्थापना की। उनकी सरकार ने पहली बार दिव्यांगजनों के अधिकारों को स्पष्ट करने वाला कानून लागू किया। इस कानून का एक बहुत बड़ा लाभ ये हुआ है कि पहले दिव्यांगों की जो सात अलग-अलग तरह की कैटेगरी होती थी, उसे बढ़ाकर 21 कर दिया गया। दिव्यांगों पर अगर कोई अत्याचार करता है, उन्हें परेशान करता है, तो इससे जुड़े नियमों को सख्त किया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सीनियर सिटिजन्स की परेशानियों को कम करने के लिए सरकार ने अनेक कदम उठाए हैं। गरीब वरिष्ठ नागरिकों को भी जरूरी सहायक उपकरण मिलें, इसके लिए 3 साल पहले ‘राष्ट्रीय वयोश्री योजना’ शुरू की थी। 60 वर्ष की आयु के बाद बुजुर्गों को एक निश्चित राशि पर एक निश्चित ब्याज मिले, उनका निवेश सुरक्षित रहे इसके लिए सरकार ने प्रधानमंत्री वय योजना भी शुरू की थी। इसका मकसद यही था कि अगर बाजार में ब्याज दरें कम हो जाएं तो उसका प्रभाव उन पर कम से कम पड़े।

पीएम मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के तहत 1 रुपया प्रति माह और प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना के तहत एक दिन का 90 पैसा, इतने कम प्रीमियम में उनका जीवन बीमा हो रहा है। अभी तक 24 करोड़ से ज्यादा हमारे साथी इन दोनों योजनाओं से जुड़ चुके है और मुश्किल समय में उन्हें 4 हजार करोड़ रुपये से अधिक का क्लेम भी इन परिवारों तक पहुंच चुका है।

सामाजिक अधिकारिता शिविर के अवसर पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटले, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत, कृष्ण पाल गुज्जर, रामदास उठावले और यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या समेत भारी संख्या में लोग मौजूद थे। 

 

Leave a Reply