Home समाचार प्रधानमंत्री मोदी-बोरिस जॉनसन के बीच हुई वर्चुअल समिट, रोडमैप 2030 को दी...

प्रधानमंत्री मोदी-बोरिस जॉनसन के बीच हुई वर्चुअल समिट, रोडमैप 2030 को दी मंजूरी

553
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन के बीच मंगलवार को एक वर्चुअल समिट हुई। समिट में दोनों देशों के संबंधों को व्यापक रणनीतिक साझेदारी की ओर ले जाने के लिए महत्वाकांक्षी ‘रोडमैप 2030’ को मंजूरी दी गई। यह रोडमैप अगले दस वर्षों में दोनों देशों के लोगों के बीच पारस्‍परिक संपर्कों, व्यापार एवं अर्थव्यवस्था, रक्षा व सुरक्षा, जलवायु कार्रवाई और स्वास्थ्य जैसे महत्‍वपूर्ण क्षेत्रों में सहयोग और मजबूत करेगा।

दोनों नेताओं ने कोरोना की मौजूदा स्थिति के साथ टीकों पर सफल साझेदारी सहित महामारी के खिलाफ लड़ाई में आपसी सहयोग पर चर्चा की। प्रधानमंत्री मोदी ने भारत में कोविड-19 की दूसरी लहर के मद्देनजर ब्रिटेन से मिली चिकित्सा सहायता के लिए प्रधानमंत्री जॉनसन का धन्यवाद किया। प्रधानमंत्री जॉनसन ने पिछले साल ब्रिटेन और अन्य देशों को दी गई सहायता में भारत की अहम भूमिका की सराहना की जिसमें फार्मास्यूटिकल्स और टीकों की आपूर्ति के जरिए दी गई सहायता भी शामिल है।

प्रधानमंत्री मोदी और जॉनसन ने वर्ष 2030 तक द्विपक्षीय व्‍यापार दोगुने से भी अधिक करने के महत्‍वाकांक्षी लक्ष्‍य के साथ संवर्धित व्‍यापार साझेदारी का शुभारम्‍भ किया। इसके तहत भारत और ब्रिटेन एक व्‍यापक और संतुलित मुक्त व्‍यापार समझौते की कार्य योजना बनाने पर भी सहमत हुए। व्‍यापार साझेदारी बढ़ने से दोनों देशों में प्रत्‍यक्ष और अप्रत्‍यक्ष रोजगार के अनेक अवसर सृजित होंगे।

इस वर्चुअल बैठक में दोनों देश नई और उभरती प्रौद्योगिकी के साथ आपूर्ति श्रृंखला व्‍यापक करने में सहयोग पर सहमत हुए। आतंकवाद से निपटने, समुद्री और साइबर क्षेत्र सहित रक्षा और सुरक्षा संबंध मजबूत करने भी सहमति बनी। दोनों प्रधानमंत्रियों ने हिंद- प्रशांत और जी-सात समूह में सहयोग सहित परस्‍पर हित के क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर भी विचार-विमर्श किया।

ब्रिटेन अनुसंधान और नवाचार संबंधी सहयोग के क्षेत्र में भारत का दूसरा सबसे बड़ा साझेदार है। वर्चुअल शिखर सम्मेलन में एक नई भारत-ब्रिटेन ‘वैश्विक नवाचार साझेदारी’ की घोषणा की गई। भारत और ब्रिटेन ने ‘प्रवासन एवं आवाजाही पर एक व्यापक साझेदारी’ का शुभारंभ किया है जिससे दोनों देशों के बीच विद्यार्थियों और प्रोफेशनलों की आवाजाही के लिए और भी अधिक अवसर सुलभ होंगे।

प्रधानमंत्री मोदी ने हालात बेहतर हो जाने के बाद भारत में प्रधानमंत्री जॉनसन की सुविधा के अनुसार उनका आगमन होने पर उनका स्वागत करने की इच्छा व्यक्त की। प्रधानमंत्री जॉनसन ने भी जी-7 शिखर सम्मेलन में शिरकत करने के लिए ब्रिटेन आगमन के लिए प्रधानमंत्री मोदी को दिया गया अपना निमंत्रण दोहराया।

फाइल फोटो

 

Leave a Reply