Home समाचार परिवारवादी पार्टियां लोकतंत्र के लिए सबसे बड़ा खतरा, यह चुनाव भविष्य का...

परिवारवादी पार्टियां लोकतंत्र के लिए सबसे बड़ा खतरा, यह चुनाव भविष्य का संकेत- प्रधानमंत्री मोदी

296
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने परिवारवादी पार्टियों को लोकतंत्र के लिए सबसे बड़ा खतरा बताया है। बिहार में एनडीए की सफलता को ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ के मंत्र की जीत बताते हुए उन्होंने कहा कि राज्य की जनता ने एक बार फिर सिद्ध कर दिया कि वे पारखी भी हैं और जागरूक भी।बिहार चुनाव में भाजपा को मिली प्रचंड जीत के उपलक्ष्य पर भाजपा मुख्यालय में आयोजित धन्यवाद कार्यक्रम में किसी दल का नाम लिए बगैर उन्होंने कहा कि भारत के लोकतंत्र में डगर-डगर पर, परिपक्वता के दर्शन होते हैं। भारत की युवा पीढ़ी, लोकतंत्र के प्रति सच्ची निष्ठा और श्रद्धा रखती है। मजबूत लोकतंत्र में ही उसे अवसर नजर आते हैं और अपने अधिकारों की रक्षा के प्रति वो ज्यादा आश्वस्त रहता है। लेकिन दुर्भाग्य से कश्मीर से कन्याकुमारी तक परिवारवादी पार्टियों का जाल लोकतंत्र के लिए खतरा बनता जा रहा है। ये देश का युवा भली-भांति जानता है। परिवारों की पार्टियां या परिवारवादी पार्टियां, लोकतंत्र के लिए सबसे बड़ा खतरा हैं। दुर्भाग्य से एक राष्ट्रवादी पार्टी भी पिछले कई दशकों से परिवार पार्टी ही बनकर रह गई है। ऐसे में भारतीय जनता पार्टी का दायित्व और बढ़ जाता है। हमें अपनी पार्टी में भीतर के लोकतंत्र को मजबूत बनाएं रखना है। हमें अपनी पार्टी को जीवंत लोकतंत्र का जीता-जागता उदाहरण बनाना है। पार्टी हर कार्यकर्ता और हर नागरिक के लिए अवसरों का एक बेहतरीन मंच बने। जहां प्रतिभा के साथ न्याय हो और परिश्रम को पुरस्कार मिले। मैं देश के युवाओं को, जिनके दिल में राष्ट्रहित सर्वोपरि है, जिनमें लोकतंत्र के लिए प्रतिबद्धता है, ऐसे युवाओं को निमंत्रित करता हूं। देश के युवाओं से मेरा आह्वान है, वो आगे आएं और बीजेपी के माध्यम से देश की सेवा में जुट जाएं। अपने सपनों को साकार करने के लिए, अपने संकल्पों को सिद्ध करने के लिए, कमल को हाथ में लेकर चल पड़ें।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कल जो चुनाव नतीजे आए, उसका निहितार्थ बहुत गहरा है, उसके मायने बहुत बड़े हैं। लोकसभा चुनाव में जो नतीजे आए थे, ये उसका और व्यापक विस्तार है। भारतीय जनता पार्टी पूर्व में जीती, मणिपुर में जीती। भारतीय जनता पार्टी पश्चिम में जीती, गुजरात में जीती। भाजपा को उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में विजय प्राप्त हुई और भाजपा को दक्षिण में कर्नाटका-तेलंगाना में सफलता मिली। भाजपा ही एकमात्र ऐसी राष्ट्रीय स्तर की पार्टी है जिसका परचम लोगों ने पूरे देश में फहराया है।कभी हम दो सीट पर थे, दो कमरों से पार्टी चला करती थी, आज पूरे देश में हैं।

उन्होंने कहा कि कल के नतीजों में देश की जनता ने फिर ये तय कर दिया है कि 21वी सदी में देश की राजनीति का मुख्य आधार- सिर्फ और सिर्फ विकास ही होगा। हमारे यहां ये भी कई बार कहा जाता है कि बैंक खाते, गैस कनेक्शन, घर, स्वरोजगार के लिए सुविधाएं, अच्छी सड़कें, अच्छे रेलवे स्टेशन, बेहतर हवाई अड्डे, नदियों पर बनते आधुनिक पुल, इंटरनेट कनेक्टिविटी जैसे मुद्दे कोई अहमियत नहीं रखते। जनता ऐसे लोगों को बार-बार ये कह रही है कि असली मुद्दे यही हैं। देश का विकास, राज्य का विकास, आज सबसे बड़ी कसौटी है और आने वाले समय में भी यही चुनाव का आधार रहने वाला है। जो लोग ये नहीं समझ रहे, इस बार भी उनकी जगह-जगह जमानत जब्त हुई है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज भाजपा ही देश की एकमात्र राष्ट्रीय पार्टी है, जिसमें गरीब, दलित, पीड़ित, शोषित, वंचित, अपना प्रतिनिधित्व देखते हैं, अपना भविष्य देखते हैं। आज भाजपा ही देश की एकमात्र राष्ट्रीय पार्टी है, जो समाज के हर वर्ग की आवश्यकताओं को समझती है, उनके लिए काम कर रही है। आज भाजपा ही एकमात्र पार्टी है जो राष्ट्रीय आकांक्षाओं के साथ ही हर क्षेत्र के गौरव को भी उतने ही गर्व के साथ अपने साथ लेकर चलती है। और इसलिए, आज देश के नौजवानों को सबसे ज्यादा भरोसा किसी पर है तो वो भाजपा है। दलितों-पीड़ितों-शोषितों की अगर कोई आवाज है, तो वो भाजपा है। देश के मध्यम वर्ग के सपनों को पूरा करने के लिए कोई दिन-रात प्रयास कर रहा है, तो वो भाजपा है। महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए, उनकी गरिमा-गौरव सुनिश्चित करने के लिए जिस पार्टी पर भरोसा किया जा रहा है, तो वो भाजपा है। आर्थिक सुधार हों, कृषि सुधार हों या फिर देश की सुरक्षा, शिक्षा की बात हो, नई व्यवस्थाओं की बात हो या फिर किसानों-श्रमिकों का हित, ये भाजपा ही है जिस पर देश आज सबसे ज्यादा भरोसा कर रहा है। ये भरोसा भाजपा के लिए, मेरे लिए, आपके प्रधानसेवक के लिए बहुत बड़ी पूंजी है।

उन्होंने कहा कि अगर आज आप मुझे बिहार के चुनाव नतीजों के बारे में पूछेंगे तो मेरा जवाब भी जनता के जनादेश की तरह एकदम साफ है- बिहार में सबका साथ-सबका विकास, सबका विश्वास के मंत्र की जीत हुई है। बिहार में विकास के कार्यों की जीत हुई है। बिहार में सच जीता है, विश्वास जीता है ! बिहार का युवा जीता है, माताएं-बहनें-बेटियां जीती हैं ! बिहार का गरीब जीता है, किसान जीता है! मैं कल से टीवी पर देख रहा हूं, अखबारों में चर्चा है Silent Voters को लेकर। बीजेपी के पास Silent Voters का एक ऐसा वर्ग है जो उसे बार-बार वोट दे रहा है, निरंतर वोट दे रहा है। ये Silent Voters हैं, देश की महिलाएं, देश की नारीशक्ति। ग्रामीण इलाकों से लेकर शहरी इलाकों तक, महिला वोटर ही भाजपा की Silent Voters हैं। आखिर ऐसा क्यों है? क्योंकि ये भाजपा ही है, जिसके शासन में महिलाओं को सम्मान भी मिलता है और सुरक्षा भी। बैंक अकाउंट से लेकर बैंक लोन तक, गर्भावस्था के दौरान मुफ्त जांच से लेकर 6 महीने के अवकाश तक, रसोई को धुएं से मुक्त करना हो या फिर शौचालयों-एक रुपए में सैनिटरी पैड की सुविधा, हर घर बिजली पहुंचाना हो या फिर हर घर जल के लिए अभियान, ये बीजेपी ही है जो भारत की महिलाओं के जीवन स्तर को सुधारने के लिए, उम्र के हर पड़ाव को देखते हुए विशेष प्रयास कर रही है।इसलिए भाजपा पर ये Silent Voters हर बार अपना स्नेह दिखाती हैं, अपना आशीर्वाद देती हैं।

Leave a Reply