Home समाचार कोरोना के कारण से हम पारंपरिक फैमिली फोटो नहीं ले सके, लेकिन...

कोरोना के कारण से हम पारंपरिक फैमिली फोटो नहीं ले सके, लेकिन हमारे बीच की दूरियां घट रही हैं- प्रधानमंत्री मोदी

235
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज, 12 नवंबर को वियतनाम के प्रधानमंत्री गुयेन जुआन फुक के साथ 17वें आसियान भारत शिखर सम्‍मेलन की अध्यक्षता की। कोरोना संकट के कारण आसियान के सभी दस सदस्‍य देशों के नेता वर्चुअल तरीके से इस सम्‍मेलन में शामिल हुए। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हर साल की तरह हम हाथ-से-हाथ जोड़ कर अपनी पारम्परिक फैमिली फोटो नहीं ले पाए, किन्तु फिर भी मुझे खुशी है कि इस वर्चुअल माध्यम से हम मिल रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत और आसियान की रणनीतिक साझेदारी हमारी साझा ऐतिहासिक, भौगोलिक और सांस्कृतिक धरोहर पर आधारित है। आसियान समूह शुरू से हमारी एक्ट ईस्ट पॉलिसी का मूल केंद्र रहा है।

उन्होंने कहा कि भारत की इंडो पेसिफिक ओसियन इनिशिएटिव और आसियान के आउटलुक ऑन इंडो पेसिफिक के बीच कई समानताएं हैं। हम मानते हैं कि इलाके की सुरक्षा और विकास के लिए एकजुट और उत्तरदायी आसियान आवश्यक है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत और आसियान के बीच हर तरह की कनेक्टिविटी बढ़ाना जरूरी है। पिछले कुछ साल में हम आर्थिक, सामाजिक और डिजिटली करीब आते गए हैं। मुझे यकीन है कि आज की बातचीत हमारे बीच की दूरी को और कम करने में मददगार होगी। भारत और आसियान के बीच हर प्रकार की कनेक्टिविटी को बढ़ाना- फिजिकल, आर्थिक, सामाजिक, डिजिटल, फाइनैंशियल, मैरीटाइम- हमारे लिए एक प्रमुख प्राथमिकता है।

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ सालों में हम इन सभी क्षेत्रों में करीब आते गए हैं। मुझे विश्वास है कि आज की हमारी बातचीत, चाहे ये वर्चुअल माध्यम से ही हो रही हो, हमारे बीच की दूरी को और कम करने के लिए लाभदायक होगी।

आसियान के 10 सदस्य देश ब्रुनेई, कम्बोडिया, इंडोनेशिया, लाओ पीडीआर, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाइलैंड और वियतनाम हैं।

Leave a Reply