Home पोल खोल देश जब तिरंगे के रंग में रंगकर आजादी का अमृत महोत्सव मना...

देश जब तिरंगे के रंग में रंगकर आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है, तब कुछ हताश-निराश कांग्रेसी काले कपड़े पहनकर काला जादू करने के लिए प्रयासरत, जनता इन पर कभी विश्वास नहीं करेगी

675
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि आजादी के इस अमृत महोत्सव में जब देश तिरंगे के रंग में रंगा हुआ है, तब कुछ ऐसा भी हुआ है, जिसकी तरफ मैं देश का ध्यान दिलाना चाहता हूं। अभी हमने गत पांच अगस्त को देखा कि कैसे कुछ लोगों ने काले जादू को फैलाने का प्रयास किया गया। ये लोग सोचते हैं कि काले कपड़े पहनकर, उनकी निराशा-हताशा का काल समाप्त हो जाएगा। लेकिन उन्हें पता नहीं है कि वो कितनी ही झाड़-फूंक कर लें, कितना ही काला जादू कर लें, अंधविश्वास कर लें, जनता का विश्वास अब उन पर दोबारा कभी नहीं बन पाएगा। पीएम मोदी ने कहा कि इस काले जादू के फेर में, आजादी के अमृत महोत्सव का अपमान ना करें, तिरंगे का अपमान ना करें।काले जादू के फेर में रहने वाले लोगों की मानसिकता समझना भी जरूरी- पीएम मोदी
पीएम मोदी ने पानीपत में इथेनॉल प्लांट के लोकार्पण के मौके पर कहा कि काले जादू के फेर में रहने वाले ऐसे लोगों की मानसिकता देश को भी समझना जरूरी है। जैसे कोई मरीज, अपनी लंबी बीमारी के इलाज से थक जाता है, निराश हो जाता है, अच्छे डॉक्टर से सलाह लेने के बावजूद जब उसे लाभ नहीं होता, तो वो अंधविश्वास की तरफ बढ़ने लगता है। वो झाड़-फूंक कराने लगता है, टोने-टोटके पर, काले जादू पर विश्वास करने लगता है। ऐसे ही हमारे देश में भी कुछ लोग हैं जो नकारात्मकता के भंवर में फंसे हुए हैं, निराशा में डूबे हुए हैं। सरकार के खिलाफ झूठ पर झूठ बोलने के बाद भी जनता जनार्दन ऐसे लोगों पर भरोसा करने को तैयार नहीं हैं। ऐसी हताशा में ये लोग भी अब काले जादू की तरफ मुड़ते नजर आ रहे हैं।

हताश विपक्ष का काला जादू pic.twitter.com/hR7TaGbGTh

— Social Tamasha (@SocialTamasha) August 10, 2022

राम मंदिर के भूमि पूजन और धारा 370 के खात्मे के दिन कांग्रेसियों ने पहने काले कपड़े
आपको याद ही होगा कि भारत के लिए 05 अगस्त का दिन काफी महत्वपूर्ण है। जहां 5 अगस्त, 2019 को मोदी सरकार ने करीब 70 साल से देश के लिए कलंक बने संविधान के अनुच्छेद-370 को मिटा दिया, वहीं 05 अगस्त, 2020 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए भूमि पूजन किया था। लेकिन यह देश विरोधी और हिन्दू विरोधी ताकतों तथा सेक्युलर गैंग को पसंद नहीं आया था। वे आज भी दिल से इसे स्वीकार नहीं कर पाए हैं। इसलिए उनका दर्द विभिन्न रूपों में छलकता रहता है। पांच अगस्त के दिन ही इसकी झलक देशभर में कांग्रेस के काले कपड़ों में प्रदर्शन के दौरान देखने को मिली। राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा ने भी काले कपड़ों में पूरी ‘नौटंकी’ की।

राहुल-प्रियंका के काले कपड़े हताशा-निराशा के प्रतीक, सोशल मीडिया पर बन रहे मीम्स
इस समय जबकि पूरा देश आजादी के अमृत महोत्सव के तहत तिरंगे के गौरवांवित रंगों में डूबा है, तब कांग्रेसी काले कपड़ों में विरोध कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर निराशा में डूबी कांग्रेस के इस काले जादू को खूब ट्रोल किया जा रहा है। राहुल गांधी, प्रियंका वाड्रा और अन्य कांग्रेस नेताओं के मीम्स बन रहे हैं। ट्वीटर पर आरएस मिश्रा ने काले कपड़ों में प्रियंका गांधी की तस्वीर के साथ लिखा है- काला जादू, वशीकरण, सौतन से छुटकारा पाने के लिए संपर्क करें…

एक ट्विटर यूजर ने सवाल किया, “क्या यह महज़ संयोग है या कांग्रेस का तुष्टिकरण परवान चढ़ चुका है ? 5 अगस्त मतलब..कश्मीर में धारा-370 ख़त्म होने,तीन-तलाक समाप्त करने और अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के शिलान्यास की वर्षगांठ पर ‘काले कपड़े’ पहनकर महंगाई प्रदर्शन करना संयोग मात्र है ? या 5 अगस्त को काला दिन ?

एक अन्य ट्विटर यूजर ने सवाल किया, “कांग्रेसी नेताओं का कश्मीर में धारा 370 ख़त्म होने और अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के शिलान्यास की वर्षगांठ पर ‘काले कपड़े’ पहनकर प्रदर्शन करना आपको क्या लगता है राम मंदिर का विरोध या राजनीति”

अतुल तिवारी नाम के एक ट्विटर यूजर ने लिखा, “5 अगस्त को काला दिवस मनाने के लिए बहुत सोच के चुना गया है। कश्मीर में धारा 370 ख़त्म होने और अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के शिलान्यास की वर्षगांठ पर ‘काले कपड़े’ पहनकर प्रदर्शन करना महज़ संयोग है ?”

 

 

Leave a Reply