Home समाचार भारत से ज्यादा सुरक्षित देश है पाकिस्तान! हंगर इंडेक्स के बाद अमेरिका...

भारत से ज्यादा सुरक्षित देश है पाकिस्तान! हंगर इंडेक्स के बाद अमेरिका व पश्चिम देशों का एजेंडा एक बार फिर उजागर, अब गैलप के सर्वे पर कैसे भरोसा करे देश?

192
SHARE

अमेरिका और पश्चिमों देशों का भारत के खिलाफ एजेंडा एक बार फिर उजागर हो गया है। पीएम नरेंद्र मोदी और भारत की छवि धूमिल करने के लिए इसी महीने हंगर इंडेक्स जारी किया गया था जिसमें भारत की स्थिति बहुत ही खराब दिखाई गई थी। इस सूची में भारत को अपने पड़ोसी देश पाकिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश, नेपाल व म्यांमार से भी खराब स्थिति में बताया गया। ग्‍लोबल हंगर इंडेक्‍स दो यूरोपियन एनजीओ Concern Worldwide और Welthungerhilfe ने मिलकर जारी किया था। इससे पता चलता है कि अमेरिका और यूरोपीय देश पीएम मोदी और भारत के खिलाफ किन-किन तरीकों से साजिश रच रही हैं। जो देश भारत से अनाज मांगकर अपने लोगों का पेट भर रहे हैं वे भी इस सूची में भारत से अच्छे बताए गए हैं। एक तरफ IMF कह रहा है कि भारत 2028 तक दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा वहीं हंगर इंडेक्स में भारत पिछड़ता जा रहा है। अब अमेरिकी कंपनी गैलप ने दुनिया के सबसे सुरक्षित देशों का सर्वे किया गया है और एक सूची जारी की है। गैलप के सर्वे के मुताबिक पाकिस्तान भारत से ज्यादा सुरक्षित देश है। पता नहीं इस सर्वे को कैसे बनाया गया है। जहां पाकिस्तान खुद आतंकवाद की गोद में पल रहा है वह भारत से ज्यादा सुरक्षित देश कैसे हो सकता है। आश्चर्य की बात है कि गैलप लॉ एंड ऑर्डर इंडेक्स के इस सर्वे में 121 देशों की सूची में भारत 60वें नंबर पर है। वहीं पाकिस्तान इस सूची में 42वें नंबर पर है।

फर्जी इंडेक्स के जरिये चलाया जाता है भारत के खिलाफ एजेंडा

गैलप लॉ एंड ऑर्डर इंडेक्स, ग्लोबल हैप्पीनेस इंडेक्स, ग्लोबल हंगर इंडेक्स, ग्लोबल फ्रीडम इंडेक्स, ये सभी फर्जी इंडेक्स बनाए जाते हैं जिसके जरिये अमेरिका और पश्चिमी देश अपने हित साधते हैं। चूंकि पीएम मोदी के नेतृत्व में मजबूत अर्थव्यवस्था बनकर उभर रहा है इसीलिए ये देश भारत की तरक्की को पचा नहीं पा रहे हैं। इसीलिए इन इंडेक्स और सर्वे के जरिये भारत के खिलाफ एजेंडा चलाया जाता है जिससे देश की छवि धूमिल की जा सके। पीएम मोदी के आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत रक्षा से लेकर कई क्षेत्रों में भारत स्वदेशी उत्पादन को बढ़ावा दे रहा है और इससे पश्चिम के देशों से जो सामान आयात किया जाता था उस पर अब लगाम लग गई है। बल्कि भारत अब कई देशों को निर्यात भी कर रहा है। यही वजह है कि यूरोपीय देश भारत और पीएम मोदी की नाकारात्मक छवि बनाने में जुटे हुए हैं। यह इंडेक्स इस रणनीति के तहत भी बनाए जाते हैं जिससे भारत के विपक्षी दल, लेफ्ट लिबरल इकोसिस्टम, खान मार्केट गैंग को मोदी सरकार पर हमला करने का एक टूल भी मिल जाए।

फर्जी इंडेक्स का कमाल, भारत से ज्यादा सुरक्षित देश है पाकिस्तान!

गैलप लॉ एंड ऑर्डर इंडेक्स के इस सर्वे में देशों को अंकों के आधार पर रैंकिंग दिया गया है। जिसमें 1 से 100 तक का स्कोर रखा गया था। जिन देशों ने 80 अंक से ज्यादा स्कोर किया है उन्हें दुनिया का सबसे ज्यादा सुरक्षित देश माना गया है। सिंगापुर 96 अंकों के साथ टॉप पर है वहीं अफगानिस्तान 51 अंकों के साथ सबसे नीचे है। सिंगापुर के बाद टॉप 5 में ताजिकिस्तान, नॉर्वे, स्विटजरलैंड और इंडोनेशिया हैं। जबकि दक्षिण अमेरिका में वेनेजुएला और अफ्रीका में सिएरा लियोन, कांगो और गैबॉन निचले पांच देशों में शामिल हैं। इस सर्वे में पाकिस्तान को भारत से ज्यादा सुरक्षित देश बताया गया है। गैलप लॉ एंड ऑर्डर इंडेक्स के इस सर्वे में 121 देशों की सूची में भारत 60वें नंबर पर है। इस सर्वे में देशों को 1 से लेकर 100 का स्कोर दिया गया है, जो देश 80 से ज्यादा का स्कोर किए हैं, उन्हें दुनिया का सबसे सुरक्षित देश माना गया है। अब इस सर्वे पर सवाल भी उठ रहे हैं।

पाकिस्तान का स्कोर भारत से ज्यादा कैसे?

पाकिस्तान को इस सूची में 82 के स्कोर के साथ 42वें नंबर पर रखा गया है। लाओस, सर्बिया, ईरान और न्यूजीलैंड के भी पाकिस्तान के बराबर ही नंबर और रैंकिंग है। वहीं, भारत 80 के स्कोर के साथ 60वें नंबर पर है। पाकिस्तान से ठीक ऊपर अमेरिका, इटली और जर्मनी जैसे अति सुरक्षित होने का दावा करने वाले देश हैं। इन तीनों देशों के 83 स्कोर हैं। जबकि, ऑस्ट्रेलिया ने 84 और कनाडा ने 87 का स्कोर किया है। इससे बड़ी विडंबना क्या होगी कि ब्रिटेन को 79 के स्कोर के साथ पाकिस्तान और भारत से भी नीचे रखा गया है। इस लिस्ट में रूस को 77 नबंर दिया गया है, जो विकसित देशों की लिस्ट में सबसे नीचे है।

सर्वे करने वाली टीम को पाकिस्तान में कौन सी सुरक्षा दिखी

इस सर्वे में भारत को पाकिस्तान से भी नीचे रखा गया है। भारत की बराबरी के देशों में इराक और श्रीलंका शामिल हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि सर्वे करने वाली टीम को पाकिस्तान में कौन सी सुरक्षा दिखी। क्या उन्हें पाकिस्तान में चरम पर आतंकवादी और उग्रवादी गतिविधियां नहीं दिखीं। खुद पाकिस्तानी मंत्री ने देश की संसद में यह स्वीकार किया है कि खैबर पख्तूनख्वा और बलूचिस्तान में बढ़ रही हिंसा और कुछ नहीं बल्कि आतंकवाद है। जन्नत कही जाने वाली स्वात घाटी में टीटीपी आतंकवादियों का बोलबाला काफी बढ़ा है। ऐसे में पाकिस्तान को किस आधार पर भारत से सुरक्षित देश घोषित किया जा सकता है।

हर देश में केवल 1000 लोगों से बात की गई 

सर्वेक्षण में पाया गया कि दुनिया भर में 10 में से सात लोग रात में अकेले चलने में सुरक्षित महसूस करते हैं जहां वे रहते हैं। उन्हें अपनी स्थानीय पुलिस पर भरोसा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कुल मिलाकर, सुरक्षा मेट्रिक्स 2020 और 2021 के बीच स्थिर रहे हैं। वार्षिक गैलप सर्वेक्षण ने 122 से अधिक देशों और क्षेत्रों में 2021 और 2022 की शुरुआत में 15 वर्ष से अधिक उम्र के लगभग 1,27,000 लोगों का इंटरव्यू किया गया। प्रत्येक देश में, लगभग 1000 लोगों ने टेलीफोन या आमने-सामने बैठकर सर्वे में शामिल सवालों का जवाब दिया।

सर्वे के लिए गैलप ने 1,27,000 लोगों का इंटरव्यू

गैलप ने 122 से अधिक देशों और क्षेत्रों में 2021 और 2022 की शुरुआत में 15 साल से अधिक उम्र के लगभग 1,27,000 लोगों का इंटरव्यू किया गया था। सभी देशों से करीब 1000 लोगों ने टेलीफोनिक या आमने-सामने बैठकर सर्वे में पूछे गए सवालों का जवाब दिया।

सर्वे में पूछे गए सवाल :-

आप जिस शहर या क्षेत्र में रहते हैं, क्या आपको स्थानीय पुलिस बल पर भरोसा है?

क्या आप रात में उस शहर या क्षेत्र में जहां आप रहते हैं, अकेले चलना सुरक्षित महसूस करते हैं ?

क्या पिछले 12 महीनों के भीतर आपके पास या घर के किसी अन्य सदस्य से पैसे या संपत्ति की चोरी हुई है?

क्या पिछले 12 महीनों के भीतर आपके साथ मारपीट या लूटपाट की गई है?

Leave a Reply