Home समाचार मोदी सरकार के लिए मानव सेवा सर्वोपरि: हाईवे पर हादसे में ‘घायलों...

मोदी सरकार के लिए मानव सेवा सर्वोपरि: हाईवे पर हादसे में ‘घायलों को वक्त पर अस्पताल पहुंचाओ पांच हजार पाओ’

444
SHARE

हाईवे पर हादसे होते हैं लेकिन वक्त पर मदद नहीं मिलने की वजह से कई लोगों की जान चली जाती है। अब तक की सरकारों ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया था। लेकिन मोदी सरकार ने जनहित में बड़ा फैसला लेते हुए, ऐसे लोगों को इनाम देने का ऐलान किया है। जो सड़क हादसे में घायल लोगों की मदद के लिए आगे आते हैं। वक्त पर घायलों को अस्पताल पहुंचाने वालों का हौसला बढ़ाने के लिए मोदी सरकार ने अस्पताल पहुंचाओ पांच हजार पाओ की तर्ज पर दिशानिर्देश जारी किए हैं।

घायलों को वक्त पर अस्पताल पहुंचाओ इनाम पाओ

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने इनाम के लिए एक छोटी सी शर्त भी रखी है कि हादसे में गंभीर रूप से घायलों को एक घंटे के भीतर अस्पताल पहुंचाना होगा। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने बताया है कि ये योजना 15 अक्टूबर, 2021 से 31 मार्च, 2026 तक प्रभावी होगी। मंत्रालय ने कहा कि इस योजना से इमरजेंसी के हालात में सड़क दुर्घटना पीडि़तों की मदद करने के लिए आम लोगों को प्रेरित किया जा सकेगा।

नकद पुरस्कार के साथ मिलेगा प्रमाण पत्र

मोदी सरकार की इस योजना में नकद पुरस्कार के साथ एक प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा, मंत्रालय ने कहा कि इस पुरस्कार के अलावा राष्ट्रीय स्तर पर 10 सबसे नेक मददगारों को एक-एक लाख रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा। कई रिपोर्ट्स में सड़क हादसों को कोरोना महामारी से भी खतरनाक बताया गया है। एक रिसर्च के मुताबिक देश में रोजाना ऐसे हादसों में 415 लोगों की मौत हो जाती है। देश में हर साल साढ़े चार करोड़ सड़क हादसों में डेढ़ लाख लोगों की मौत हो जाती है और साढ़े चार लाख लोग घायल हो जाते हैं।

WHO ने वर्ष 2030 तक सड़क हादसों में मरने और घायल होने वालों की तादाद घटा कर आधी करने का टारगेट रखा है। मोदी सरकार की कोशिश उससे पांच साल पहले यानी 2025 तक ही इस लक्ष्य तक पहुंचने का है ।

हाईवे पर हादसों का सफर क्यों

  • करीब 67 फीसदी हादसे ओवरस्पीडिंग की वजह से होते हैं
  • बिना वैध लाइसेंस गाड़ी चलाने की वजह से 15 फीसदी हादसे
  • करीब 10 फीसदी हादसे ओवरलोडिंग की वजह से होते हैं
  • 15.5 फीसदी मामले हिट एंड रन के तौर पर दर्ज किए जाते हैं
  • करीब 26 फीसदी हादसों के पीछे लापरवाही-ओवरटेकिंग वजह

पीएम मोदी के लिए मानव सेवा सर्वोपरि

सड़क पर सावधानी और दूसरों की मदद से हादसों की तादाद कम की जा सकती है। हादसों के बाद भी वक्त रहते घायलों को अस्पताल पहुंचा कर उनकी जान बचाई जा सकती है। सड़कों पर सफर करते हुए मानव सेवा को सर्वोपरि मानने की मिसाल खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पेश कर चुके हैं । पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार के दौरान बारासात में सड़क पर दो एंबुलेंस को देख कर पीएम मोदी के काफिले ने प्रोटोकॉल तोड़कर उन्हें रास्ता दिया था। सोशल मीडिया पर इसकी जमकर सराहना भी हुई थी।

Leave a Reply