Home समाचार विरोध करने का अलग तरीका : गहलोत सरकार की निर्लज्जता से घुट...

विरोध करने का अलग तरीका : गहलोत सरकार की निर्लज्जता से घुट रहा है दम, दौड़कर बताना चाहता हूं कि प्रदेश का युवा कितना पीड़ित है, 12 घंटे लगातार दौड़े विधायक

200
SHARE

राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार का विरोध दिनों-दिन बढ़ता ही चला जा रहा है। निरंकुश नकल माफिया के चलते राज्य के हजारों बेरोजगारों को नौकरी नहीं मिल पा रही है। अपराध और बलात्कार की घटनाएं बढ़ने, राज्य की जनता के काम न होने, विकास परियोजनाओं के ठप पड़ने के चलते अपने-पराए सभी सरकार का विरोध कर रहे हैं। विरोध करने का एक अलग तरीका गहलोत सरकार को समर्थन दे रहे बहरोड़ से निर्दलीय विधायक बलजीत यादव ने अपनाकर सरकार को ही कटघरे में खड़ा कर दिया है। नकल माफिया और गुरुकुल यूनिवर्सिटी फर्जीवाड़े की बात करते हुए यादव ने काले कपड़े पहनकर जयपुर के सेंट्रल पार्क के ट्रैक पर 12 घंटे तक दौड़ लगाई।

विधानसभा चुनाव अगले साल, पर गहलोत सरकार के खिलाफ रोष अभी से तेज
राजस्थान में अगले साल विधानसभा चुनाव है, लेकिन गहलोत सरकार में खींचतान अभी से नजर आने लगी है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ग्रुप एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाते रहते हैं। गहलोत के मंत्री भी विधानसभा से लेकर पब्लिक प्लेटफार्म पर टकराते रहते हैं। अब गहलोत के साथ उनके पुत्र वैभव गहलोत पर भी आरोप लग रहे हैं। पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने खुलेआम कहा है कि सिटिंग चीफ मिनिस्टर होने के चलते जोधपुर से सिंगल नाम आया था। आलाकमान वैभव गहलोत को टिकट देना ही नहीं चाहता था। वैभव को जोधपुर से चुनाव लड़ाने के बिल्कुल पक्ष में नहीं था। सोनिया-राहुल गांधी से बात कर उन्होंने टिकट दिलवाई।

कांग्रेस विधायक दिव्या ने अपने ही मंत्री महेश जोशी को रबर स्टैंप बताया
कांग्रेस विधायक दिव्या मदेरणा ने विधानसभा में गहलोत सरकार के जलदाय मंत्री महेश जोशी  को घेर चुकी हैं। दिव्या ने कहा कि मुझे दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि जलदाय मंत्री केवल रबर स्टैंप हैं। मंत्रीजी को क्या कहें, वे शहर से आते हैं। गांव के व्यक्ति की समस्या महसूस करना तो दूर समस्या समझते भी हैं या नहीं इस पर भी सवाल है। प्रमुख सचिव ही विभाग को चला रहे हैं। दिलचस्प तथ्य यह है कि कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास  ने दिव्या मदेरणा के बयान का समर्थन किया। कैबिनेट मंत्री खाचरियावास ने कहा कि कोई भी विधायक जब सदन में बोलता है तो उसकी बात को गंभीरता से लेना हमारी जिम्मेदारी है। दिव्या मदेरणा ने जो मुद्दे उठाएं हैं, वो मुद्दे जनता और कार्यकर्ता की आवाज हैं।

सरकार समर्थित विधायक बलजीत यादव ने विरोध में 108 किलोमीटर दौड़ लगाई
अब गहलोत सरकार को समर्थन दे रहे बहरोड़ से निर्दलीय विधायक बलजीत यादव सरकार के विरोध में आ गए हैं। उन्होंने विरोध का तरीका भी अजब-गजब निकाला। विधायक यादव ने विरोध जताने के लिए जयपुर के सेंट्रल पार्क के 24 चक्कर लगाने के साथ कुल 108 किलोमीटर की दौड़ लगाई। इनकी हेल्थ को देखते हुए सेंट्र्ल पार्क के हर गेट पर एंबुलेंस तैनात करनी पड़ी। वो 37 डिग्री तापमान में भी दिनभर दौड़ते रहे। सरकार मे मंत्री मनाने आए, लेकिन वो दौड़ते रहे। शाम को बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया सेंट्रल पार्क पहुंचे। तभी विधायक ने अपनी दौड़ खत्म की।

रोकने पहुंचे जलदाय मंत्री जोशी ट्रैक पर बैठे, पर विधायक नहीं माने
विरोध के इस अनोखे तरीके को देखते हुए बड़ी संख्या में विधायक समर्थक भी सेंट्रल पार्क पहुंच गए थे। सरकार को जब उनके फैसले की जानकारी मिली तो जलदाय मंत्री महेश जोशी उन्हें मनाने के लिए सेंट्रल पार्क पहुंचे और वहां ट्रैक पर बैठ गए, लेकिन यादव ने किसी की नहीं सुनी। सेंट्रल पार्क में दौड़ने से पूर्व बलजीत यादव ने फेसबुक पर लाइव आते हुए कहा- मैं सरकार के खिलाफ रोष प्रकट कर रहा हूं। दम घुटता है जब लोग इस तरह से निर्लज्जता दिखा रहे हैं। इसके प्रति रोष तो प्रकट कर ही सकता हूं, इसलिए स्वयं को कष्ट देकर सरकार को बताना चाहता हूं कि प्रदेश का युवा कितना पीड़ित है।

सरकार आंखों देखी मक्खी निगल रही है, फर्जीवाड़ा माना पर कार्रवाई नहीं
प्रदेश सरकार नौकरी दे नहीं रही है तो ये युवा बेरोजगार कहां जाएंगे? राजस्थान के युवा की नौकरी पर डाका क्यों डाला जा रहा है? लाइव रहने के दौरान ही यादव रो पड़े। रोते हुए वे बोले- जनता लाचार है। मैं इन गुंडों से नहीं लड़ सकता, इसलिए मुझे अपना गुस्सा जाहिर करना है। उन्होंने कहा- कुलपति बिना बिल्डिंग के बने रिपोर्ट बनाकर सरकार को बता रहे हैं कि बिल्डिंग बन चुकी है, जबकि धरातल पर खाली जमीन है। सरकार आंखों देखी मक्खी कैसे निगल रही है। सरकार उस यूनिवर्सिटी को मान्यता भी दे रही है। पता चलने पर बिल वापस ले लिया गया। सरकार ने माना भी कि बड़ा फर्जीवाड़ा हुआ है, लेकिन उसके बाद भी किसी भी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं की गई। उन सभी लोगों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करनी होगी।

 

Leave a Reply