Home समाचार केजरीवाल ने सूरत के व्यापारी महेश सवानी का पार्टी में किया स्वागत,...

केजरीवाल ने सूरत के व्यापारी महेश सवानी का पार्टी में किया स्वागत, अपहरण और जबरन वसूली के आरोप में किया गया था गिरफ्तार

488
SHARE

आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जिस सुचिता और स्वच्छ राजनीतिक की बात कर नई उम्मीद जगाई थी, उससे अब लोगों का मोहभंग हो चुका है। दिल्ली में सरकार बनाने के बाद केजरीवाल की असलियत जब सामने आई तो पार्टी के समर्पित और निष्ठावान नेता व कार्यकर्ता पार्टी से अलग होते चले गए। इसलिए अब पार्टी में हिन्दू विरोधियों और अराजक तत्वों को शामिल किया जा रहा है। इसकी पुष्टि फिर गुजरात में हुई है। जहां पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष खुलकर हिन्दू विरोधी बातें करता हैं, वहीं दूसरी तरफ अपहरण और जबरन वसूली के आरोपी को पार्टी में स्वागत किया गया।  

आम आदमी पार्टी नेता और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने रविवार यानि 27 जून, 2021 को सूरत के व्यापारी महेश सवानी का अपनी पार्टी में स्वागत किया। इसके बाद अरविंद केजरीवाल ने सवानी के स्वागत में ट्वीट किया, “महेश भाई, आम आदमी पार्टी में आपका स्वागत है। हम सब मिलकर गुजरात के विकास के लिए काम करेंगे।” सवानी के पार्टी से जुड़ते ही उनसे जुड़े मामलों की दोबारा चर्चा होने लगी। आम आदमी पार्टी को घेरते हुए बताया जाने लगा कि साल 2020 में सवानी को अपहरण और जबरन वसूली के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। केजरीवाल अब ऐसे लोगों के साथ मिलकर गुजरात का विकास करेंगे।

कई शैक्षणिक संस्थान के मालिक और कथित तौर पर सामाजिक कार्यकर्ता महेश सवानी पर 65 साल के गौतम पटेल की किडनैपिंग और उनसे 19 करोड़ रुपये मांगने का आरोप है। पटेल और उनके बिजनेस पार्टनर ने सवानी से अपने इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट के लिए उधारी ली थी। इसके बाद पटेल को उन्हें 3 करोड़ देने थे। लेकिन किसी कारणवश भुगतान न होने पर उन्होंने एक जमीन में 60 प्रतिशत हिस्सेदारी देने की बात की। हालांकि, सवानी इस ऑफर से अपनी रकम नहीं वसूल पाए।

अपनी पूरी रकम हासिल करने लिए सवानी ने पटेल के अपहरण की योजना बनाई। जब पटेल अपने बेटे की शादी के लिए भारत आए तो उन्हें किडनैप कर लिया गया। पटेल की किडनैपिंग उनके घर पर पहले से लगे सीसीटीवी फुटेज में कैद हो गई। गौतम पटेल की पत्नी ने अपने पति के अपहरण के बारे में पुलिस को कंट्रोल रूम में फोन कर जानकारी दी थी, जिसके बाद उमरा पुलिस पीसीआर वैन पार्ले पॉइंट की केशव पार्क सोसाइटी में बिल्डर के बंगले पर पहुंची, जहां से चार अपहरणकर्ताओं को कब्जे में लिया था। इसके बाद इस मामले ने तूल पकड़ा और सवानी गिरफ्तार भी हुए।
गौरतलब है कि इससे पहले गुजरात में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष गोपाल इटालिया के कुछ पुराने वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे। इसमें वे हिंदू परंपराओं को अपमानित करते दिखे थे। वायरल वीडियो में AAP नेता ने कहा, “मैं जो कहता हूं अगर वो आपको सही नहीं लगे तो मुझे ब्लॉक कर दो क्योंकि मुझे आपकी जरूरत नहीं। लोग सत्यनारायण कथा और भागवत कथा जैसी अवैज्ञानिक और फालतू की चीजों पर पैसा और समय बर्बाद कर देते हैं। इसके बाद भी लोगों को यह नहीं पता चलता कि उन्हें ऐसा करके क्या हासिल हुआ। वे दूसरों का समय भी बर्बाद कर देते हैं। अगर हम 5 पैसे भी ऐसी फालतू चीजों पर खर्च कर देते हैं तो हमें मनुष्य की तरह जीने का अधिकार भी नहीं है।”

हिन्दू मान्यताओं का अपमान करते हुए इटालिया ने कहा था कि जो इन सत्संग और कथा में शामिल होते हैं वो हिजड़ों के जैसे तालियां बजाते हैं। उन्होंने कहा, “मुझे ऐसे लोगों पर शर्म आती है। जो मैं कहता हूं वह आपको अगर अच्छा न लगे तो मुझे ब्लॉक कर दीजिए। लेकिन हमें उनकी जरूरत नहीं है जो संस्कृति और प्रथाओं के नाम पर हिजड़ों की तरह ताली बजाते हैं। कुछ साधु स्टेज से फालतू बातें करेंगे और हम हिंजड़ों की तरह ताली बजाएंगे।”

Leave a Reply