Home समाचार कोरोना के खिलाफ लड़ाई में केजरीवाल फेल! दिल्ली में संक्रमित लोगों की...

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में केजरीवाल फेल! दिल्ली में संक्रमित लोगों की संख्या 1500 पार

629
SHARE

कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में जहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी जान से जुटे हुए हैं, वहीं भारत में कुछ राज्य इस महामारी के खिलाफ लड़ाई में वोटबैंक की राजनीति के कारण पिछड़ते दिखाई दे रहे हैं। दिल्ली में कोरोना से संक्रिमत लोगों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। दिल्ली में ये आंकड़ा 1510 पहुंच गया है, सोमवार को दिल्ली में कोरोना के 356 नए मरीज सामने आए।

कोरोना से निपटने में केजरीवाल फेल ?

दिल्ली की केजरीवाल सरकार कोरोना के खिलाफ लड़ाई में पिछड़ती नजर आ रही है। दिल्ली की आबादी करीब 2 करोड़ है और संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 1510 हो चुकी है। सोमवार को इसमें 356 नये मामले सामने आए हैं। दिल्ली में कोरोना से मरने वालों की संख्या 28 हो गई है, वहीं उत्तर प्रदेश की आबादी 22 करोड़ है लेकिन इसके बावजदू संक्रमित मामलों की संख्या सिर्फ 558 है जबकि 5 लोगों की अभी तक कोरोना से मौत हुई है। 

हेल्थ बुलेटिन से मरकज का नाम हटाया 

ये जगजाहिर है कि देश में जो कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी तबलीगी जमात के कारण ज्यादा हुई है। दिल्ली में भी संक्रमित लोगों में करीब दो तिहाई संख्या मरकज से संबंधित है लेकिन तुष्टिकरण की राजनीति और दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के दबाव के आगे झुकते हुए केजीरवाल सरकार ने डेली हेल्थ बुलेटिन से तबलीगी जमात का नाम हटा दिया है। अब दिल्ली में  जमाती ‘स्पेशल ऑपरेशन्स’ के अंतर्गत आते हैं। दिल्ली सरकार के अनुसार ‘स्पेशल ऑपरेशन्स’ के तहत केवल मरकज ही नहीं, कई और भी क्षेत्र हैं। मालूम हो कि 11 अप्रैल 2020 को दिल्ली सरकार द्वारा जारी अपडेट्स में बताया गया कि दिल्ली में फिलहाल कोरोना के 1069 मामले हैं। इनमें से 712 ‘स्पेशल ऑपरेशन्स’ के तहत आते हैं। यानी, दिल्ली के कुल मामलों में से 66% (दो तिहाई) जमाती ही हैं। इससे पहले यानि 10 अप्रैल को जो हेल्थ बुलेटिन जारी किए गए थे उसमें मरकज केस के नाम से बताया गया था, जिसे 11 अप्रैल के न्यूज मेडिकल बुलेटिन से हटा दिया गया। 

पूरे देश में कोरोना के कुल 9352 मामले सामने आए हैं और अब तक 324 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 979 लोग ठीक हुए हैं।

लॉकडाउन तीन मई तक बढ़ा 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना महामारी फैलने के बाद से मंगलवार को चौथी बार देश को संबोधित किया। प्रधानमंत्री मोदी ने 21 दिनों से जारी लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने का ऐलान किया, साथ ही उन्होंने कहा कि 20 अप्रैल के बाद जिन जगहों पर संक्रमण फैलने का खतरा नहीं होगा, वहां शर्तों के साथ लॉकडाउन में कुछ छूट दी जा सकती है। साथ ही उन्होंने कहा कि कल यानी 15 अप्रैल को केंद्र सरकार लॉकडाउन को लेकर नई गाइडलाइन जारी करेगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बार लॉकडाउन का पालन और कठोर तरीके से किया जाएगा। प्रधानमंत्री मोदी ने संतोष जताया कि कोरोना के खिलाफ भारत की लड़ाई मजबूती के साथ आगे बढ़ रही है। देशवासियों की तपस्या की वजह से भारत काफी हदतक कोरोना के खतरे को टालने में सफल रहा है। उन्होंने देशवासियों का आभार जताते हुए कहा कि आप लोगों ने कष्ट सहकर भी देश को बचाया है।  

Leave a Reply