Home समाचार मनमोहन पर बीजेपी का पलटवार- सेना का मनोबल तोड़ने वाली ये वही...

मनमोहन पर बीजेपी का पलटवार- सेना का मनोबल तोड़ने वाली ये वही कांग्रेस है जिसने बिना लड़े जमीन सरेंडर की

455
SHARE

गलवान घाटी में हुई झड़प के बाद देश के लोगों में चीन को लेकर भारी गुस्सा है। लेकिन कांग्रेसी नेता सेना का मनोबल बढ़ाने या चीन को कुछ कहने के बजाय सरकार पर सवाल उठा रहे हैं। कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बाद अब पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने केंद्र सरकार पर सवाल उठाए हैं, जिसके बाद बीजेपी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने मनमोहन सिंह पर करारा पलटवार किया। जेपी नड्डा ने तीखा हमला बोलते हुए कहा कि डॉ. मनमोहन सिंह उसी पार्टी से हैं जिसने बेचारों की तरह 43 हजार वर्ग किलोमीटर जमीन चीन को सरेंडर कर दी थी। यूपीए शासन के देश ने बिना किसी लड़ाई के रणनीतिक और भौगोलिक सरेंडर देखा गया।

एक अन्य ट्वीट में बीजेपी अध्यक्ष ने कहा क‍ि काश डॉ सिंह तब चीन को लेकर चिंतित होते जब बतौर प्रधानमंत्री उन्होंने भारत की सैकड़ों किलोमीटर भूमि चीन को सौंप दिया था। उनके समय में 2010 से 2013 के बीच चीन ने 600 से ज्‍यादा बार LAC का अतिक्रमण किया।

पूर्व प्रधानमंत्री की बखिया उघेड़ते हुए डॉ नड्डा ने कहा कि डॉ मनमोहन सिंह कई विषयों पर अपनी राय रख सकते हैं, लेकिन प्रधानमंत्री कार्यालय की अपनी जिम्मेदारियों पर नहीं। यूपीए के समय प्रधानमंत्री कार्यालय की गरिमा घटी और हमारी सेनाओं का अपमान हुआ। एनडीए ने उसे बदला है।

उन्होंने कहा कि डॉ. सिंह और कांग्रेस पार्टी को हमारी सेनाओं का बार-बार अपमान बंद कर देना चाहिए। ऐसा आप लोग एयर स्ट्राइक और सर्जिकल स्ट्राइक के वक्त भी कर चुके हैं। कृपया राष्ट्रीय एकता का सही अर्थ समझिए। खासकर ऐसे समय में। सुधरने के लिए कभी देर नहीं होती।

एक के बाद एक कई ट्वीट करते हुए बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह का बयान सिर्फ शब्‍दों का खेल है। दुर्भाग्‍य से, कांग्रेस पार्टी के बड़े नेताओं का आचरण देखकर किसी भारतीय को उनके बयान पर भरोसा नहीं होगा। याद रहे, यह वही कांग्रेस है जो हमेशा हमारे सशस्त्र बलों का मनोबल गिराने का काम करती है।

जेपी नड्डा ने पूर्व प्रधानमंत्री पर निशाना साधने हुए कहा कि मनमोहन सिंह एकता की बात करते हैं जो सही है। लेकिन कागज पर उनके शब्‍द धरातल पर बेजान हो जाते हैं जब हम देखते हैं कि कौन एकता के माहौल को खराब कर रहा है। आशा है कि कम से कम डॉ सिंह की अपनी पार्टी में तो बात सुनी जाएगी।’

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि भारत पूरी तरह से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर विश्‍वास और उनका समर्थन करता है। संकट की घड़ी में 130 करोड़ देशवासियों ने उनका प्रशासनिक अनुभव देखा है कि किस तरह से उन्होंने हमेशा देशहित को सबसे ऊपर रखा है।

डॉ. मनमोहन सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर कहा कि आज हम इतिहास के नाजुक मोड़ पर खड़े हैं। हमारी सरकार के निर्णय और सरकार के कदम तय करेंगे कि भविष्य की पीढ़ियां हमारा आकलन कैसे करें। जो देश का नेतृत्व कर रहे हैं, उनके कंधों पर कर्तव्य का गहन दातित्व है। हमारे प्रजातंत्र में यह दायित्व प्रधानमंत्री का है। प्रधानमंत्री को अपने शब्दों और ऐलानों से देश की सुरक्षा और भू-भागीय हितों पर पड़ने वाले प्रभाव के प्रति हमेशा सावधान होना चाहिए। मनमोहन सिंह ने अपने पत्र में लिखा है कि प्रधानमंत्री और केंद्र सरकार से आग्रह है कि वो वक्त की चुनौतियों का सामना करें और कर्नल बी. संतोष बाबू व हमारे सैनिकों की कुर्बानी की कसौटी पर खरा उतरें, जिन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा व भूभागीय अखंडता के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी। इससे कुछ भी कम जनादेश से एतिहासिक विश्वासघात होगा।

Leave a Reply