Home समाचार भारतीय वायुसेना की बढ़ेगी मारक क्षमता, 83 ‘तेजस’ विमानों की खरीद के...

भारतीय वायुसेना की बढ़ेगी मारक क्षमता, 83 ‘तेजस’ विमानों की खरीद के लिए 48 हजार करोड़ रुपये की डील को मिली मंजूरी

786
SHARE

भारत को रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने और भारतीय वायुसेना की मारक क्षमता बढ़ाने के लिए बुधवार (13 जनवरी) को मोदी सरकार ने एक बड़े रक्षा सौदे को मंजूरी दी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई सुरक्षा मामलों पर मंत्रिमंडल समिति की बैठक में 83 तेजस विमानों की खरीदी के लिए 48 हजार करोड़ रुपये जारी करने की स्वीकृति दी गई। सीमा पर चीन से तनातनी के बीच यह फैसला देश की सुरक्षा के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, ‘‘ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई सुरक्षा मामलों पर मंत्रिमंडल समिति (सीसीएस) की बैठक में यह फैसला किया गया। यह सौदा भारतीय रक्षा विनिर्माण के क्षेत्र में आत्मनिर्भरता के लिये गेम चेंजर होगा।’’ उन्होंने कहा कि घरेलू स्तर पर तैयार किये जाने वाले एलसीए तेजस से जुड़ी इस खरीद पर लागत करीब 48000 करोड़ रुपये आयेगी।

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) से भारतीय वायु सेना के लिए 83 तेजस विमान खरीदे जाएंगे, जिनमें 73 हल्के लड़ाकू विमान तेजस एमके-1ए और 10 तेजस एमके-1 प्रशिक्षण विमान शामिल हैं। हल्का लड़ाकू विमान एमके-1ए का डिजाइन एवं विकास स्वदेशी स्तर पर किया गया है और यह चौथी पीढ़ी के लड़ाकू विमान से जुड़े अत्याधुनिक उपकरणों से सुसज्जित है।

तेजस को चौथी पीढ़ी के सबसे उन्नत और सबसे हल्के लड़ाकू विमानों में गिना जाता है। ये अपने मूल वैरिएंट में 43 बदलावों के बाद अप्रूव हुई है। एलसीए-तेजस कम ऊंचाई पर उड़ते हुए सुपरसोनिक स्पीड से दुश्मन पर हमला करने में सक्षम है। ऊंचाई कम होने की वजह से ये कई बार दुश्मन के रडार को भी चमका देने में कामयाब रहता है। तेजस मल्टीरोल फाइटर जेट है, जिसका इस्तेमाल एयर टू एयर, एयर टू ग्राउंड स्ट्राइक में किया जाता है।

मौजूदा समय में भारतीय वायुसेना में तेजस से लैस दो स्क्वॉड्रन हैं। पिछले साल स्क्वॉड्रन नंबर 45 खास तौर पर तेजस के साथ बनाया गया था, जिसका नाम Flying Daggers रखा गया है। हालांकि नए तेजस विमान पहले मिल चुके तेजस से और भी ज्यादा बेहतर होंगे। तेजस की खासियत है कि ये कम जगह से भी उड़ान भर सकता है। यह एक बार में 23 हजार किलोमीटर की दूरी तय करता है और हवा में ईंधन भरा जा सकता है।

Leave a Reply