Home समाचार राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस पर मोदी सरकार की नई पहल, कोरोना के खिलाफ...

राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस पर मोदी सरकार की नई पहल, कोरोना के खिलाफ जंग में 12 से 14 साल के बच्चों को मिलने लगा वैक्सीन का कवच

267
SHARE

हर साल 16 मार्च को राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस के रूप में मनाया जाता है। लेकिन इस साल यह दिवस खास बन गया है, क्योंकि इस मौके पर मोदी सरकार ने विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान में एक नई पहल की है। दरअसल कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में एक नए ‘सबको वैक्सीन और मुफ्त वैक्सीन’ अभियान की शुरुआत की गई है। इसके तहत 12 से 14 साल के बच्चों को भी वैक्सीन का कवच प्रदान किया जा रहा है। बच्चों को बायोलॉजिकल ई लिमिटेड द्वारा बनाई गई कोरबेवैक्स वैक्सीन दी जा रही है। बच्चों के अलावा 60 साल से ऊपर वालों को प्रिकॉशन डोज भी देने की शुरुआत की गई है। 

कोरोना से बचाव के सभी उपायों का पालन करें-पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी 12 से 14 आयु वर्ग के बच्चों से कोविड-19 रोधी टीके की खुराक लेने और 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों से ‘एहतियाती खुराक’ लेने का अनुरोध किया। प्रधानमंत्री मोदी ने सिलसिलेवार ट्वीट कर यह भी कहा कि कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत आज बेहतर स्थिति में है लेकिन इसके बावजूद देशवासियों को बचाव के सभी उपायों का पालन भी करते रहना होगा।

बच्चों को दी जा रही कोरबेवैक्स वैक्सीन की खुराक

स्वास्थ्य मंत्रालय ने 12 से 14 साल के बच्चों के टीकाकरण के दौरान टीकों का मिश्रण न हो, यह सुनिश्चत करने के लिए टीका लगाने वालों और टीकाकरण टीम को प्रशिक्षण देने की जरूरत पर बल दिया है। इसके लिए राज्यों को निर्धारित कोरोना टीकाकरण केंद्रों पर समर्पित टीकाकरण सत्र आयोजित करने का निर्देश दिया गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने 12 से 14 साल के बच्चों के कोरोना टीका को लेकर गाइडलाइन भी जारी की है। इसमें इस ग्रुप के बच्चों को केवल कोरबेवैक्स ही देने की बात कही गई है।

दो खुराक के बीच 28 दिनों का अंतराल

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक गाइडलाइन राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को भेजी है। इसके मुताबिक 12 से 14 साल के बच्चों को कोर्बेवैक्स टीके की दो खुराकें 28 दिनों के अंतराल पर दी जाएंगी। इसके साथ ही यह सुनिश्चित करना होगा कि टीका केवल उन्हीं बच्चों को लगाया जाए, जिन्होंने टीकाकरण की तिथि पर 12 साल की उम्र पूरी कर ली है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देश में 12 से 13 साल के बीच 1,21,43,000 लड़के और 1,13,27,000 लड़कियां हैं। इसी तरह 13 से 14 साल के 1,22,50,000 लड़के और 1,14,23,000 लड़कियां हैं। देश में 12 से 14 आयुवर्ग के 4.74 करोड़ बच्चों को टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है। इन बच्चों के वैक्सीनेशन के लिए केवल कोविन पोर्टल के माध्यम से बुकिंग की जा सकती है।

60 से अधिक उम्र वालों के लिए बूस्टर डोज

टीकाकरण अभियान के तहत 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को एहतियाती डोज लगाए जा रहे हैं। इसमें उन लोगों को प्राथमिकता दी जा रही है, जिन्हें दूसरी खुराक लिए नौ माह से ज्यादा का वक्त हो चुका है। अब तक करीब एक करोड़ 87 लाख लोगों को पहली और करीब डेढ़ करोड़ को दूसरी डोज दी जा चुकी है। ऐसे में जिन लोगों के दूसरी डोज का समय नौ माह हो चुका है उन्हें एहतियाती डोज दी जाएगी। एहतियाती डोज उसी कंपनी की दी जाएगी, जिसके दोनों डोज पहले दिए जा चुके हैं।

Leave a Reply