Home समाचार अंकित शर्मा और पुलिस पर कैसे हुए सुनियोजित हमले, आरोपी सलमान ने...

अंकित शर्मा और पुलिस पर कैसे हुए सुनियोजित हमले, आरोपी सलमान ने खोले राज

1309
SHARE

दिल्ली दंगों में मारे गए अंकित शर्मा की हत्या का आरोपी सलमान पुलिस की गिरफ्त में हैं और वह लगातार नए-नए खुलासे कर रहा है। सलमान ने पुलिस के सामने कुबूल किया कि कैसे वे लोग अंकित को घसीटकर ताहिर हुसैन के घर ले गए और बेरहमी से अंकित की हत्या कर दी। अंकित की हत्या के मामले में दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने गुरुवार को सलमान को पकड़ा था। सलमान के पांच नाम हैं, सलमान उर्फ मोमिन उर्फ हसीन उर्फ मुल्ला उर्फ नन्हे।

वहीं दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जांच से पता चला है कि चांद बाग में पुलिस पर हमला सुनियोजित था। हमले से पहले ही आरोपी सलीम मलिक उर्फ मुन्ना (38) प्रदर्शन स्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे तोड़ते हुए नजर आ रहा है।

सलमान ने अंकित पर खुद किए थे 14 वार

सलमान ने कोर्ट में पेश होने पर बताया कि ‘हत्या करने वाले सभी लोगों को मालूम था कि अंकित आईबी में काम करता है, साजिश के तहत अंकित को मारा गया। पहले अंकित को घसीटकर ताहिर हुसैन के घर ले जाया गया और फिर अंकित पर दर्जन भर से भी ज्यादा लोगों ने चाकू मारे।

सलमान ने कोर्ट के सामने ये खुलास किया कि उसने खुद अंकित पर 14 वार किए थे। अंकित को बूरी तरह से मारने के बाद हमने अंकित का शव नाले में फेंक दिया। सलमान ने आगे बताया कि वो 23 फरवरी को पुरानी दिल्ली ईदगाह में हुई जमात में शामिल हुआ था। इसके बाद दोपहर में उसे जानकारी मिली कि नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में दंगे शुरु हुए हैं।

अंकित को ताहिर के घर खींचा और चाकुओं से कर दी हत्या

इसके बाद अगले दिन 24 फरवरी को वाट्सऐप पर सलमान से कहा गया कि बस से खजूरी पहुंचे और फिर वो गली-गली होता हुआ चांदबाग में ताहिर हुसैन के घर पहुंच गया। इसके बाद 25 फरवरी के दिन दंगों के दौरान ही सलमान ने 6 और साथियों के साथ मिलकर सड़क से अंकित को ताहिर हुसैन के घर में खींच लिया।

अंकित को अंदर खींच लेने के बाद सबसे पहले उसके कपड़े उतार कर उसे चेक किया और फिर उस पर चाकुओं से हमला कर मार डाला। अंकित को मारने के बाद सलमान ने अपने भाई और भाभी से कहा था कि उसने दंगे में हत्या की है।

अंकित का पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टर भी हो गए वितलित

अंकित शर्मा के शव का पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टर ने भी कहा कि उन्होंने आज तक किसी के शरीर पर इतना जख्म नहीं देखा था। इससे इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि अंकित को कितनी बेरहमी से मारा गया था। अंकित पर चाकुओं से करीब 400 वार किए गए थे, इस हमले से अंकित की आंतें बाहर आ गई थीं।

पुलिस पर हमला करने से पहले तोड़ दिए थे कैमरे

दिल्ली पुलिस की जांच के दौरान सामने आया कि चांद बाग में पुलिस टीम पर किया गया हमला पूरी तरह सुनियोजित था। गौरतलब है कि हमले में दिल्ली पुलिस उपायुक्त अमित शर्मा और एसीपी अनुज कुमार गंभीर रूप से जख्मी हो गए थे और हवलदार रतनलाल की मौत हो गई थी।

पुलिस ने अब तक वीडियो फुटेज, बयानों और अन्य सुबूतों के आधार पर सात लोगों को गिरफ्तार किया है जिसमें मो. जलालुद्दीन उर्फ गुड्डू भाई (33), मो. अय्यूब (35), मो. यूनुस (32), आरिफ (27), मो. दानिश (23) और मो. सलीम खान (46) शामिल हैं। इसके साथ ही पुलिस के हाथ वह वीडियों भी लगा है जिसमें हमले से पूर्व एक आरोपी सलीम मलिक उर्फ मुन्ना (38) सीसीटीवी कैमरों को तोड़ रहा है।

Leave a Reply