Home समाचार आमिर खान का फेवरेट पाकिस्तानी एक्टर शान शाहिद किस प्रकार हिन्दुओं को...

आमिर खान का फेवरेट पाकिस्तानी एक्टर शान शाहिद किस प्रकार हिन्दुओं को अपमानित करने वाली फिल्में बनाता है, देखिए वीडियो

1957
SHARE

मशहूर अभिनेता अमिताभ बच्चन की धर्म पत्नी जया बच्चन ने राज्यसभा में कहा था कि दुख की बात यह है कि कुछ लोग जिस थाली में खाते हैं, उसी थाली में छेद करते हैं। यह बात बॉलीवुड पर अक्षरश: लागू होती है। बॉलीवुड के कई ऐसे अभिनेता और अभिनेत्री हैं, जिन्हें हिन्दू दर्शकों ने शोहरत की बुलंदियों पर पहुंचाया। लेकिन उन्होंने हमेशा अपने हिन्दू दर्शकों को धोखा देने का काम किया है। उनमें अभिनेता आमिर खान भी शामिल है। आमिर खान पाकिस्तान के अभिनेता शान शाहिद के बड़े प्रशंसक हैं, जो हिन्दुओं को अपमानित करने वाली फिल्में बनाता है। आप इस वीडियो को देखकर अंदाजा लगा सकते हैं कि आमिर खान किस तरह हिन्दुओं के खिलाफ काम करने वाले लोगों को बढ़ावा देते हैं।

आप इस वीडियो क्लिप में सुन और देख सकते हैं कि किस तरह एक पुजारी को सीढ़ियों पर गिराकर हमला किया गया है। पुजारी अपने को बचाने के लिए राम-राम की गुहार लगा रहा है। लेकिन इस गुहार का मुस्लिम हमलावर पर कोई असर नहीं होता है। वह कह रहा है, “तू राम-राम करता जा, मैं अल्ला-अल्ला कहता जाऊंगा।” आखिरकर मुस्लिम हमलावर गोली मारकर पुजारी की हत्या कर देता है। दरअसल, यह वीडियो क्लिप पाकिस्तानी फिल्म ‘मूसा खान’ से लिया गया है, जो 2001 में रिलीज हुई थी। इस फिल्म के अभिनेता, निर्देशक और निर्माता शान शाहिद है।

आमिर खान ने ‘मूसा खान’ जैसे हिन्दू विरोधी फिल्म में अभिनय करने, फिल्म को निर्देशित करने और फिल्म बनाने के बावजूद शान शाहिद को फिल्म ‘गजनी’ में अभिनय के लिए पेशकश की थी, लेकिन शाहिद ने इस पेशकश को ठुकरा दिया था। शाहिद ने आमिर खान की पेशकश क्यों ठुकराई इसकी भी एक वजह है, जिसे जानकर आप हैरान हो जाएंगे।

शाहिद के मुताबिक, ” गजनी में मुख्य खलनायक की भूमिका के लिए मुझे प्रस्ताव दिया गया था। लेकिन मैंने आमिर खान से कहा कि मैं सूर्य शिवकुमार के बराबर पैसे लूंगा। आमिर खान ने मेरी शर्त स्वीकार कर ली। मैंने उन्हें एक हफ्ते तक जवाब के लिए इंतजार करने के लिए कहा। एक हफ्ते तक विचार के बाद मैंने प्रस्ताव को ठुकरा दिया। मैंने आमिर खान से कहा कि इस फिल्म में मुझे भारतीय हिरो द्वारा अपमानित होना पड़ेगा। जो मेरा और पाकिस्तान का अपमान होगा।”

शाहिद ने मन के मुताबिक मिल रहे पैसे और फिल्म को ठुकरा कर जता दिया कि उसे अपने और अपने देश की इज्जत और स्वाभिमान की चिंता है। लेकिन आमिर खान को देश के हिन्दुओं की भावनाओं का थोड़ा भी ख्याल नहीं है, जिसने उन्हें स्टार बनाने में अहम भूमिका निभाई है। उन्होंने फिल्म का प्रस्ताव देने से पहले एक बार भी नहीं सोचा कि शाहिद ने फिल्म ‘मूसा खान’ में जो भूमिका निभाई है, उससे हिन्दुओं की भावनाएं आहत हो सकती हैं। इससे पता चलता है कि आमिर खान और इनके जैसे कई अभिनेता किस तरह हिन्दू विरोधी भावना से ग्रसित है। 

Leave a Reply