Home समाचार कश्मीर में दशकों बाद हर-हर महादेव की गूंज, मोदी राज में गुलमर्ग...

कश्मीर में दशकों बाद हर-हर महादेव की गूंज, मोदी राज में गुलमर्ग का शिव मंदिर गुलजार

452
SHARE

कश्मीर में जहां कभी सुबह शाम हर इलाके से बंदूक की गोलियों की आवाज आती थी, अब हर-हर महादेव की गूंज सुनाई दे रही है। लगभग मंदिरविहीन हो चुकी घाटी में गुलमर्ग का शिव मंदिर ऐसा पहला मंदिर है, जिसे आज यानि 1 जून, 2021 को जीर्णोद्धार के बाद जनता के लिए खोल दिया गया। इस दौरान सेना की गुलमर्ग बटालियन द्वारा एक भव्य उद्घाटन समारोह का आयोजन किया गया था।

भारतीय सेना ने स्थानीय लोगों की मदद से गुलमर्ग के इस शिव मंदिर का जीर्णोद्धार कार्य किया है। सेना के जवानों ने मंदिर की ओर जाने वाले रास्तों को भी नया रूप दिया है। शिव मंदिर को व्यापक जीर्णोद्धार की आवश्यकता थी, क्योंकि लंबे समय से इस मंदिर में कोई जीर्णोद्धार कार्य नहीं हुआ था। गुलमर्ग में आने वाले स्थानीय लोगों और पर्यटकों की एक बड़ी संख्या ने मंदिर को उसकी मूल स्थिति में देखने की इच्छा व्यक्त की थी।

अनुच्छेद 370 हटने के बाद सितंबर 2019 में मोदी सरकार ने ऐतिहासिक फैसला लेते हुए घाटी में बंद पड़े 50 हजार मंदिरों को खोलने का ऐलान किया था। अब मोदी सरकार और सेना के इस पहल से फिर उम्मीद बंधी है कि यहां अन्य मंदिरों का जीर्णोद्धार होगा, पूजा की घंटियों के साथ जयघोष की आवाजें सुनाई देंगी।

गौरतलब है कि मोदी राज में कश्मीर में हालात कितने बदल गए हैं, इसकी एक झलक फरवरी 2020 में महाशिवरात्रि पर देखने को मिली, जब श्रीनगर के शंकराचार्य शिव मंदिर में सुबह सुबह हर-हर महादेव की गूंज दूर-दूर तक सुनाई दे रही थी, तो दशकों के अंधेरे के बाद रात्रि में मंदिर रंग-बिरंगी रोशनी से जगमगा उठा था।

Leave a Reply