Home समाचार भाजपा का 20-21 मई को चुनावी मंथन : PM Modi के विजन...

भाजपा का 20-21 मई को चुनावी मंथन : PM Modi के विजन को पूरा करने के लिए ‘कांग्रेस मुक्त राजस्थान’ पर भी होगा मंथन, पीएम मोदी वर्चुअली देंगे जीत का मंत्र

372
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कांग्रेस मुक्त भारत के विजन को पूरा करने के लिए राजस्थान भाजपा कांग्रेस मुक्त राजस्थान का संकल्प अभी से लेकर चल रही है। राजस्थान में अगले साल ही विधानसभा चुनाव हैं, इसमें कांग्रेस को कैसे चारों खाने चित्त किया जाए, इसके लिए बीजेपी उच्च स्तरीय बैठक 20-21 मई को जयपुर में होगी। प्रधानमंत्री मोदी इसमें वर्चुअली जीत का मंत्र देंगे। इस बैठक में पूरे देश के भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारियों को बुलाया गया है। बैठक में दिसंबर 2023 तक होने वाले छह राज्यों के चुनावों की रणनीति के अलावा संगठनात्मक परिवर्तन पर भी मंथन हो सकता है। इस बीच राजस्थान के उदयपुर में ही कांग्रेस के चिंतन शिविर में इस पर मंथन होगा कि युवा पार्टी को छोड़कर क्यों जा रहे हैं और भविष्य में उन्हें कैसे रोका जा सकता है। पांच राज्यों में बुरी तरह हार के बाद कांग्रेस वैसे ही दबाव और तनाव में है।छह राज्यों में विधानसभा चुनाव और मिशन 2024 जीतने के लिए बनाएंगे रणनीति
देश में अगले दो सालों में कई राज्यों में विधानसभा और 2024 आम चुनाव होने हैं। राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, हिमाचल प्रदेश और कर्नाटक में एक साल के भीतर विधानसभा चुनाव होने हैं। इन्हें और मिशन 2024 फतह को ध्यान में रखते हुए भाजपा ने अभी से तैयारियां शुरू कर दी है। बीजेपी अभी चार विधानसभा चुनाव में मिली बंपर जीत से उत्साहित है। इसी की तर्ज पर भाजपा शासित राज्यों में अगले विधानसभा चुनाव पीएम मोदी के विजन, केंद्र की योजनाओं और राज्य सरकारों द्वारा कराए सर्वांगीण और समावेशी विकास पर आधारित होंगे। जहां अभी भाजपा की सरकार नहीं है, वहां के लिए अलग के रणनीति पर मंथन किया जाएगा। इस पर रूपरेखा बनेगी कि जन-जन तक केंद्र की योजनाओं से मिल रहे लाभों के बारे में जनता को कैसे जागरुक किया जा सके।प्रदेशों के पदाधिकारी 20 को और महासचिव 21 मई को करेंगे विस्तृत मंथन
गैर भाजपा शासित राज्यों में राजस्थान भी है और बैठक भी जयपुर में हो रही है, इसलिए राजस्थान पर विशेष फोकस होगा। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां के मुताबिक पार्टी ने अभी से पीएम मोदी के विजन पर चलते हुए 2023 में राजस्थान को कांग्रेस मुक्त करने का संकल्प ले लिया है। हम इसी दिशा में हुंकार रैलियां कर रहे हैं। अलवर की सफल हुंकार रैली ने सोनिया गांधी की धड़कने बढ़ा दीं। पार्टी की 20-21 मई को होने वाली उच्च स्तरीय बैठक में इस बारे में विस्तृत रूप से मंथन कर रणनीति बनाई जाएगी। इस बैठक की अध्यक्षता भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा करेंगे। इसमें पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष, प्रदेश प्रभारी महासचिव, सह प्रभारी और महासचिव शामिल होंगे। कुछ राज्यों में भाजपा संगठन में बदलाव की भी तैयारी है। इसे देखते हुए यह बैठक काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है। प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक 20 मई को होगी, जबकि महासचिवों की बैठक 21 मई को होगी।हुंकार रैली में बोले पूनियां- भगवान भरोसे ही चल रही है कांग्रेस की गहलोत सरकार
प्रदेश अध्यक्ष पूनियां ने हास्य कवि शैल चतुर्वेदी की बात पर प्रदेश सरकार की चुटकी लेते हुए तंज कसा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार के एक नए मंत्री ने अपने ड्राइवर से कहा कि आज कार मैं चलाउंगा, तो ड्राइवर बोला, हुजूर ठीक है तो मैं उतर जाउंगा…ये कार है सरकार नहीं, जो भगवान भरोसे चल जाती है। कांग्रेस की गहलोत सरकार का भी कोई धणी-धोरी नहीं है। कांग्रेस ने जाति, धर्म, मजहब और पंथ को बांटने का काम किया है। महिलाओं और दलितों पर सर्वाधिक अत्याचार हुए हैं। पूनियां ने राहुल गांधी पर सीधा हमला बोलते हुए कहा उन्होंने चुनाव में किसानों का कर्जा माफ करने का वादा किया था, जबकि सरकार ने 9 हजार से ज्यादा किसानों की जमीन कुर्क कर ली है।राजस्थान का सीएम बदलने के बारे में कांग्रेस चिंतन शिविर में होगा चिंतन
राजस्थान भाजपा ही नहीं कांग्रेस के चिंतन शिविर का गवाह बनेगा। इसी माह 13 से 15 मई तक उदयपुर में कांग्रेस का चिंतन शिविर होगा। बीजेपी जहां कांग्रेस मुक्त राजस्थान के विजन पर आगे बढ़ेगी, वहीं कांग्रेस आलाकमान पार्टी की डूबती नैया को पार लगाने के लिए चिंतन करेंगे। कांग्रेस हाल ही में पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में बुरी तरह हार का मुंह देख चुकी है। राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने भी पिछले दिनों सोनिया-प्रियंका को दो टूक कह दिया कि राजस्थान का मुख्यमंत्री अविलंब बदला जाए, अन्यथा विधानसभा चुनाव में राजस्थान में कांग्रेस के हालात पंजाब जैसे खराब हो जाएंगे। राजस्थान में बदलाव के बारे में पार्टी थिंक टैंक चिंतन शिविर में चिंतन करेगा।

 

Leave a Reply