Home समाचार कांग्रेस के पतन का कारण बना परिवारवाद, कपिल सिब्बल ने हटाया राहुल...

कांग्रेस के पतन का कारण बना परिवारवाद, कपिल सिब्बल ने हटाया राहुल गांधी का मुखौटा, कहा- हटे गांधी परिवार, दूसरों को मौका दें

303
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी परिवारवाद के खिलाफ काफी मुखर है। उन्होंने परिवारवाद को लोकतंत्र, पार्टी और देश के लिए खतरनाक बताया है। उन्होंने कांग्रेस की दुर्दशा देखकर अपनी पार्टी बीजेपी को परिवारवाद जैसे कैंसर से दूर रहने के लिए सचेत किया है। आज कपिल सिब्बल जैसे कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं को भी इसकी समझ आने लगी है कि चुनावों में लगातार हार और पार्टी के पतन के लिए मुख्य रूप से गांधी परिवार जिम्मेदार है,जो सत्तर साल से कांग्रेस पार्टी पर कुंडली मारकर बैठा हुआ है। सिब्बल ने गांधी परिवार को दूसरों को मौका देने की नसीहत दी है।

सोनिया गांधी से पद छोड़ने की अपील

दरअसल पांच राज्यों में कांग्रेस की करारी हार के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस में असंतुष्ट जी-23 ग्रुप में शामिल कपिल सिब्बल का दर्द छलक आया है। द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए उन्होंने कहा कि वो चाहते हैं कि कांग्रेस सभी की हो, मगर कुछ अन्य लोग ‘घर की कांग्रेस’ चाहते हैं। वे पहले ऐसे नेता हैं जिन्होंने खुलकर सोनिया गांधी से पद छोड़ने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि अब गांधी परिवार को कांग्रेस नेतृत्व का भार छोड़ देना चाहिए और किसी दूसरे नेता को इसका दायित्व दे देना चाहिए। गौरतलब है कि 2020 में कांग्रेस में सुधार की मांग के साथ ग्रुप 23 नेताओं की एक टोली बनी थी। अब इस ग्रुप के नेता खुलकर नेतृत्व पर सवाल खड़े कर रहे हैं। 

भ्रमित गांधी परिवार को हार के बावजूद चेत नहीं

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए कपिल सिब्बल ने कहा कि पार्टी नेतृत्व कोयल की धरती (यानी उन्हें लगता है कि सब कुछ ठीक है। वास्तविकता से उनका वास्ता नहीं होना) में जी रहा है। 8 सालों से पार्टी के लगातार पतन के बावजूद वह नहीं चेत रहे हैं तो यह कांग्रेस के लिए दुर्भाग्य की बात है। कपिल सिब्बल कहते हैं, कुछ लोग कांग्रेस के अंदर के आदमी हैं, कुछ लोग कांग्रेस के बाहर के आदमी हैं। लेकिन असली कांग्रेस और सबकी कांग्रेस के लिए कांग्रेस के बाहर के आदमी को सुनना चाहिए।

हार और पार्टी छोड़ने वालों का सिलसिला जारी

कपिल सिब्बल ने कांग्रस की लगातार हार और पार्टी छोड़ रहे नेताओं को लेकर अपना दर्द बयां किया। उन्होंने कहा कि पांच राज्यों के चुनाव परिणाम से कोई हैरानी नहीं हुई। 2014 से हम लगातार हार रहे हैं। हम एक के बाद एक राज्य हार रहे हैं। जहां हम सफल हुए, वहां भी हम खुद को एक नहीं रख पाए। कांग्रेस के नेताओं का पलायन आज भी बदस्तूर जारी है। दुर्भाग्य की बात यह है कि कांग्रेस से ऐसे लोगों का पलायन हुआ है जिन्हें नेतृत्व का भरोसा था। कपिल सिब्बल ने पार्टी छड़ने वालों का एक आंकड़ा पेश करते हुए कहा कि 2014 से अब तक लगभग 177 सांसद और विधायक और 222 उम्मीदवार कांग्रेस छोड़ चुके हैं। किसी भी अन्य पार्टी में इतनी बड़ी संख्या में लोग छोड़कर नहीं गए हैं।

सोनिया नहीं, राहुल हैं कांग्रेस के वास्तविक अध्यक्ष- सिब्बल

राहुल गांधी हिन्दू और हिन्दुत्व का फर्क समझाते फिरते हैं। लेकिन उन्हें पार्टी अध्यक्ष और सांसद का फर्क पता नहीं है। सिब्बल ने राहुल गांधी को इसका फर्क समझाया है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष नहीं हैं बल्कि सोनिया गांधी कांग्रेस की अध्यक्ष हैं। लेकिन राहुल गांधी पंजाब जाते हैं और चरणजीत सिंह चन्नी को सीएम कैंडिडेट घोषित कर देते हैं। वे किस अधिकार के तहत इस तरह का काम करते हैं। वे पार्टी अध्यक्ष नहीं हैं लेकिन वे सभी निर्णय लेते हैं। एक तरह से वही वास्तविक कांग्रेस अध्यक्ष हैं। ऐसे में कांग्रेस के अंदर के आदमी क्यों कह रहे हैं कि उन्हें कमान फिर से दे देनी चाहिए? जबकि वास्तविकता यह है कि वे वास्तविक अध्यक्ष हैं। बेशक वे विधिवत कांग्रेस अध्यक्ष बन जाएं लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ने वाला।

 

Leave a Reply