Home समाचार झारखंड में सोरेन सरकार की असंवेदनशीलता: मुख्यमंत्री कोरोना राहत किट में बांटी...

झारखंड में सोरेन सरकार की असंवेदनशीलता: मुख्यमंत्री कोरोना राहत किट में बांटी एक्सपायरी दवा

200
SHARE

दुनिया भर में लोग कोरोना महामारी से परेशान है। झारखंड में भी अब तक कोरोना के 3,69,047 मामले सामने आ चुके हैं और राज्य में 5,161 लोगों की इससे मौत हो चुकी है। लेकिन इस सबके बाद भी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की सरकार जैसे सोई हुई है। सोरेन सरकार की असंवेदनशीलता आप इसी से समझ सकते हैं कि राज्य में होम आइसोलेशन में रहने वाले लोगों को मुख्यमंत्री कोरोना राहत किट में एक्सपायरी दवा बांट दी गई।

राज्य में स्वास्थ्य सुविधा चरमराई हुई है। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए लोगों को होम आइसोलेशन में रहने को गया है। होम आइसोलेशन में रहने वाले लोगों को इंसिडेंट कमांडर की निगरानी में कोरोना किट बांटे जा रहे हैं। दवा के अलावा किट में सैनिटाइजर और मास्क भी दिया गया। लेकिन किट में दी गयी एंटी एलर्जी की दवा (लेवोसेल-एम) लिवोसेट्रीजीन पिछले साल नवंबर में ही एक्सपायर हो चुकी है। राहत किट बांटने में इससे बड़ी लापरवाही क्या हो सकती है कि कोरोना के मरीजों को एक्सपायरी दवा बांट दी गई।

एक्सपायरी दवा वाली यह किट ज्यादातर रांची और बंडू इलाके में बांटी गई है। मामले का खुलासा होने के बाद इस लापरवाही को लेकर स्थानीय लोगों में सोरेन सरकार के खिलाफ काफी गुस्सा है। इससे कोरोना मरीजों में डर का भी माहौल है। लोगों का कहना है कि कोरोना से समय जब ज्यादा सतर्कता बरतने की जरूरत है, सरकार लापरवाही बरत रही है। कोरोना राहत किटों में एक्सपायरी दवा देकर यह सरकार जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने का काम कर रही है।

 

Leave a Reply