Home समाचार केरल में फिर सामने आया पीएफआई का घृणित कारनामा, रैली में सीएम...

केरल में फिर सामने आया पीएफआई का घृणित कारनामा, रैली में सीएम योगी का मुखौटा पहना कर किया अपने नफरत का प्रदर्शन

435
SHARE

पॉप्युलर फ्रंट ऑफ इंडिया देश में हिंसा और नफरत फैलाने के लिए जाना जाता है। फिर उसका एक वीडिया सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रति नफरत को प्रदर्शित किया गया है। वीडियो में देखा जा सकता है कि मुख्यमंत्री योगी का मुखौटा लगाए और उन्हीं की तरह भगवा वस्त्र धारण किए व्यक्ति को रस्सियों से बांथकर तीन लोग घसीट रहे हैं और थप्पड़ मारने का नाटक भी कर रहे हैं। जिस तरह से इसे प्रदर्शित किया गया है, उससे पीएफआई के खतरनाक इरादों का पता चलता है।

बताया जा रहा है कि वीडियो को पीएफआई (PFI) की छात्र शाखा कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया द्वारा की गई रैली के दौरान शूट किया गया था, जो सिद्दीकी कप्पन के खिलाफ मुकदमा चलाने को लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के खिलाफ प्रदर्शन कर रहा है। दरअसल, 8 पीएफआई कार्यकर्ताओं में से एक पर हाथरस की घटना के दौरान सांप्रदायिक अशांति भड़काने का आरोप लगाया गया था। 

इस वीडियो के वायरल होने पर सोशल मीडिया पर लोगों ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। एक यूजर ने लिखा कि ये वीडियो केरल के पीएफआई संगठन के विरोध प्रर्दशन का है। इस विडियो में योगी जी का प्रतिरूप बनाकर उसकी पिटाई समुदाय विशेष के लोग कर रहे,आखिर इतनी नफरत आती कहां से है,हम जवाब देंगे तो कहा जाएगा कि असहिष्णु हो गए हैं।

एक यूजर ने लिखा कि योगी जी के असली डंडे का दुख बांटने का नया तरीका, आपस मे ही मुखौटे पहन कर थप्पड़ लगाने में केरल के मुस्लिम संगठन के लोग खुश हैं। योगी जी का डंडा तो पड़ता है ही, और अब आपस मे खुद भी थापड़ मारने लगे।

एक यूजर ने लिखा कि केरल में योगी जी व सनातन संस्कृति का अपमान बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। भारत में ही सनातन संस्कृति और हिन्दू सुरक्षित नहीं है तो पाकिस्तान और बंग्लादेश में कैसे रह सकता है ? मामले को गंभीरता से ले और कार्रवाई हो।

एक आक्रोशित यूजर ने लिखा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री संत योगी आदित्यनाथ जी का केरल में अपमान। हिंदू समाज और हिंदू संत परम्परा का अपमान है। अब कोई सेकुलर गिद्ध कुछ नहीं बोलेगा। हिंदुओं का मानव अधिकार नहीं होता। वह मार खाने के लिए है। अपमानित होने के लिए है।

एक यूजर ने लिखा कि दक्षिण भारत में योगी जी बढ़ती लोकप्रियता के कारण केरल में कायर लेफ़्ट वाले अब नीचता पर उतर आए हैं। ये नौटंकी नहीं है, सोची समझी साज़िश है, हिंदुओं अभी वक्त है जागो।

गौरतलब है कि यूपी पुलिस ने हाथरस की घटना को लेकर अशांति फैलाने के आरोप में सिद्दीकी कप्पन सहित पीएफआई के कार्यकर्ताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की थी। उन्होंने इस मामले में कप्पन को गिरफ्तार किया था, वह तब से जेल में बंद है। यही कारण है कि कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया ने योगी आदित्यनाथ के खिलाफ नफरत भरा वीडियो बनाया है।

Leave a Reply