Home केजरीवाल विशेष अरविंद केजरीवाल ने प्रदूषण को लेकर दिल्ली के लोगों के साथ यमुना...

अरविंद केजरीवाल ने प्रदूषण को लेकर दिल्ली के लोगों के साथ यमुना को भी दिया धोखा, देखिए वीडियो

489
SHARE

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की राजनीति ही झूठे वादों पर टिकी हुई है। सीएम केजरीवाल शुरू से ही झूठ की सियासत कर दिल्ली के लोगों को ठगते आ रहे हैं। आम आदमी पार्टी के संयोजक केजरीवाल प्रदूषण को लेकर भी लगातार झूठ बोलते रहे हैं। उन्होंने चुनावी घोषणापत्र में वादा किया था कि दिल्ली में प्रदूषण के स्तर को कम करेंगे, लेकिन प्रदूषण के स्तर को कम करने में उनकी सरकार नाकाम रही। हर साल अक्टूबर नवंबर के महीने में दिल्ली में इमरजेंसी जैसी स्थिति बन जाती है। दिल्ली की जनता का प्रदूषित हवा में दम फूल रहा है।

प्रदूषण कम करने के लिए कुछ नहीं किया
प्रदूषण को लेकर केजरीवाल की राजनीति की वजह से ही दिल्ली में हवा सबसे खराब स्तर तक पहुंच गई है। दिल्ली के कई इलाकों में एयर क्वालिटी इंडेक्स बेहद खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका है। लेकिन केजरीवाल अपनी तरफ से कोई प्रयास करने के बजाए पूरा ठीकरा पंजाब, हरियाणा और केंद्र की सरकारों पर मढ़ने का काम करते रहे हैं। बीच में दिल्ली कुछ दिनों तक भी एक्यूआई लेवल ठीक रहने पर आप सरकार ने अखबारों में पूरे पेज का विज्ञापन देकर वाहवाही लूटने की कोशिश जरूर की, लेकिन हकीकत में दिल्ली का प्रदूषण स्तर कम करने में केजरीवाल सरकार कुछ नहीं कर पाई। यहां तक की दिल्ली सरकार की ऑड ईवन फॉर्मूले को लेकर भी आलोचना ही हुई।

छह साल में नहीं साफ हुई यमुना
मुख्यमंत्री केजरीवाल ने दिल्ली के लोगों से वादा किया था कि उनकी सरकार यमुना को साफ कर देगी और लोग यमुना के तट पर भ्रमण के साथ वोट राइड भी कर सकेंगे। प्रचार-प्रसार के साथ यमुना के तट पर महाआरती के कार्यक्रम की शुरुआत जरूर की गई, लेकिन यह सिर्फ और सिर्फ दिखावा भर ही रहा। यमुना को साफ करने की दिशा में दिल्ली सरकार ने कोई काम नहीं किया। केजरीवाल ने पिछले छह सालों के यमुना नदी को साफ करने के लिए तमाम वायदे किए लेकिन एक इंच यमुना साफ नहीं हो सकी।

फोटो सोशल मीडिया

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने 2015 में विधानसभा में कहा कि वे अगले पांच साल में यमुना को साफ कर देंगे। इसके बाद 2016 में यमुना के घाट पर महाआरती का आयोजन कर यमुना को साफ करने का वायदा किया गया, लेकिन हालत में कोई सुधार नहीं हुआ। जनवरी 2020 में यही सवाल अरविद केजरीवाल से पूछा गया तो उनका कहना था कि हमलोगों ने काम शुरु किया है और अगले पांच साल में यमुना को ऐसा साफ कर देंगे तो दिल्लीवासी उसमे डूबकी लगाएंगे। लेकिन यमुना नदी साफ होने के बजाय और प्रदूषित हो गई है।

फोटो सोशल मीडिया

छठ के अवसर पर श्रद्धालु प्रदूषित पानी में पर्व मनाने को विवश है। ऐसे में मुख्यमंत्री केजरीवाल और उनके मंत्रियों का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें उन्होंने यहां के लोगों से यमुना को साफ करने के वादे किए थे। आप भी देखिए वीडियो-

Leave a Reply