Home समाचार ‘मोदी फोबिया’ से ग्रस्त राहुल के खिलाफ फिर समन जारी

‘मोदी फोबिया’ से ग्रस्त राहुल के खिलाफ फिर समन जारी

532
SHARE

पीएम नरेंद्र मोदी को लेकर विवादित टिप्पणी करने पर रांची की कोर्ट ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ शनिवार को समन जारी कर दिया। इस मामले में राहुल को 22 फरवरी को कोर्ट में पेश होना है।


गौरतलब है कि राहुल गांधी ने अपने एक बयान में ‘सभी मोदी चोर हैं’ कहा था, जिसके बाद उनके खिलाफ शिकायत दर्ज की गई थी। एडवोकेट प्रदीप मोदी की ओर से दर्ज कराए गए 20 करोड़ रुपये की मानहानि के मामले में न्यायिक दंडाधिकारी कुमार विपुल की कोर्ट में शनिवार को सुनवाई हुई। कोर्ट ने सुनवाई के बाद राहुल गांधी के खिलाफ समन जारी कर दिया।

चुनाव प्रचार के दौरान राहुल ने दिया था आपत्तिजनक बयान

एडवोकेट प्रदीप मोदी ने सिविल कोर्ट में एक शिकायत दर्ज कराई थी कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान रांची में कांग्रेस की सभा में नरेंद्र मोदी, नीरव मोदी, ललित मोदी का लेते हुए कहा था कि जिनके नाम के आगे मोदी है वे सभी चोर हैं।


पटना और गुजरात में भी दर्ज हुआ मुकदमा

सुशील मोदी ने पिछले साल पटना में राहुल गांधी के खिलाफ मानहानि का केस दर्ज करा कर बताया गया था कि राहुल ने 13 अप्रैल 2019 को कोलर में चुनाव रैली में कहा था कि सभी मोदी चोर हैं। सुशील मोदी ने बताया कि राहुल के इस बयान को मैंने टीवी चैनल और पेपर में पढ़ा और मैं इससे आहत हूं।

सुशील मोदी ने कहा कि मैं चाहता हूं कि कोर्ट राहुल को समन भेजे और उनके खिलाफ आपराधिक मुकदमा चलाकर कार्रवाई करें। इसके साथ ही गुजरात में भी राहुल गांधी पर इसी मामले में मानहानि का मुकदमा दर्ज हुआ और राहुल को कोर्ट में पेश भी होना पड़ा था।

यह पहली बार नहीं जब राहुल गांधी ने बेतुकी बयानबाजी की हो, इससे पहले और बाद में भी वो ऐसे बयान दे कर देश, सेना, महिलाओं, प्रधानमंत्री आदि को बदनाम करने की कोशिश करते रहते हैं-

भारत को दुनिया का रेप कैपिटल बताकर बदनाम किया

केरल के वायवाड में भाषण देते हुए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी ने गलत बयान देकर साफ कर दिया कि उनके लिए देश का मान सम्मान कोई मायने नहीं रखता है। राहुल गांधी ने कहा कि भारत दुनिया के रेप कैपिटल के रूप में जाना जाता है। दूसरे देश पूछ रहे हैं कि क्यों भारत अपनी बहन-बेटियों की सुरक्षा नहीं कर पा रहा है। बड़ा सवाल ये है कि क्या किसी राजनीतिक स्तर का नेता को इस तरह का बयान देना शोभा देता है।

भारतीय सेना के साथ विश्व प्रसिद्ध योग का मजाक उड़ाया

योग दिवस पर राहुल गांधी ने विवादित ट्वीट कर भारतीय सेना का अपमान किया। राहुल गांधी ट्विटर पर एक फोटो ट्वीट की थी, जिसमें भारतीय सेना के कुछ जवान योगासन करते हुए दिखाई दे रहे हैं और उनके सामने आर्मी यूनिट के ट्रेन्ड डॉग भी योग करते हुए दिखाई दे रहे हैं। इस फोटो को ट्वीट करते हुए राहुल गांधी ने कैप्शन में सेना का मजाक उड़ाते हुए लिखा है कि ‘न्यू इंडिया’, राहुल के इस ट्वीट का लोगों ने साफ मतलब निकाला कि राहुल गांधी भारतीय सेना और शहीदों का मजाक उड़ाना माना जा रहा है।

पीएम मोदी के स्वच्छ भारत अभियान का मजाक उड़ाया

दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में जनवारी 2017 में कांग्रेस सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री द्वारा शुरू स्वच्छ भारत अभियान का मजाक उड़ाया। तब उन्होंने कहा था ढाई साल पहले मोदी जी आए और कहा हिन्दुस्तान को साफ करूंगा, सबको झाड़ू पकड़ा दी और खुद भी झाड़ू लेकर खड़े हो गए, लेकिन ये एक फैशन था, तीन या चार दिन चला और फिर भूल गए। लेकिन हकीकत यह है कि स्वच्छता के क्षेत्र में भारत ने मिसाल कायम की है। ग्रामीण और शहरी स्वच्छता में काफी बदलावा आया है। देशभर में 10 करोड़ से ज्यादा शौचालय बनाए जा चुके हैं।

राष्ट्रभक्त संगठन RSS की तुलना मुस्लिम ब्रदरहुड से की

अगस्त 2018 में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने विवादास्पद बयान दिया और राष्ट्रीय स्वयंसेवक की तुलना मुस्लिम ब्रदरहुड से कर दी है। इस देश के लोगों को पता है कि आरएसएस एक राष्ट्रादी संगठन है। उन्होंने कहा था कि मुस्लिम ब्रदरहुड और आरएसएस के बीच काफी समानता है। वे सत्ता पर कब्ज़ा करने के लिए लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं का सहारा लेते हैं।

भारत के खिलाफ, पाकिस्तान के साथ

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उड़ीसा की एक जनसभा में ऐसा बयान दिया, जिसे देशद्रोह की श्रेणी में ही रखा जा सकता है। उड़ीसा के कारोपुट में जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि पिछले दिनों भारत की वायुसेना ने पाकिस्तान पर आक्रमण किया था और इसमें हमारे लोग शहीद हुए थे। सबसे पहले तो भारत ने पाकिस्तान पर हमला नहीं किया था, बल्कि आत्मरक्षा में भारत की वायुसेना ने पाकिस्तान में मौजूद आतंकवादी अड्डों को नष्ट किया था। और दूसरी बात ये है कि उस हमले में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी मारे न गए थे। राहुल गांधी के बयान से साफ है कि वे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह साबित करने पर तुले हुए हैं कि भारत की सरकार ने पाकिस्तान पर हमला किया था और वो अनुचित था।

Leave a Reply