Home समाचार कांग्रेसी विधायक की कोरोना वायरस से हुई मौत, बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा...

कांग्रेसी विधायक की कोरोना वायरस से हुई मौत, बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा को दी थी जिंदा जलाने की धमकी

382
SHARE

कोरोना वायरस से संक्रमित मध्य प्रदेश के कांग्रेस विधायक गोवर्धन डांगी का गुरुग्राम के एक निजी अस्पताल में देहांत हो गया। कोविड-19 रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद 8 दिन पहले तबीयत बिगड़ने पर उन्हें दिल्ली के मेदांता अस्पताल में भर्ती किया गया था। गोवर्धन दांगी मध्य प्रदेश के पहले विधायक हैं, जिनका कोरोना पॉजिटिव आने के बाद निधन हो गया। उनके निधन पर कांग्रेस ने दु:ख व्यक्त किया है। मध्य प्रदेश कांग्रेस ने ट्वीट किया कि ब्यावरा के विधायक गोवर्धन डांगी ने कोरोनो वायरस संक्रमण के कारण दम तोड़ दिया।

डांगी उस समय काफी चर्चा में आए थे, जब उन्होंने खुलेआम बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा को जिंदा जला देने की धमकी दी थी। नवंबर 2019 में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी द्वारा भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को ‘आतंकवादी’ कहे जाने के एक दिन बाद, ब्यावरा कांग्रेस के विधायक गोवर्धन डांगी ने भोपाल के सांसद को धमकी दी थी। 

कोरोना महामारी की वजह से दुनिया को अलवविदा कह गए कांग्रेस विधायक गोवर्धन डांगी ने प्रज्ञा ठाकुर को धमकी देते हुए कहा था कि प्रज्ञा ठाकुर कभी मेरे विधानसभा क्षेत्र में आईं तो उनका पुतला नहीं, बल्कि उनको ही पूरा जिंदा जला देंगे।

गोवर्धन डांगी इस धमकी के बाद साध्वी प्रज्ञा ने ट्वीट करते हुए चैलेंज किया, “कांग्रेसियों को जिंदा जलाने का पुराना अनुभव है। 1984 मैं सिखों को और नैना साहनी को तंदूर में जलाने तक का। राहुल गांधी ने आतंकी कहा और उनके विधायक गोवर्धन दांगी मुझे जलाएंगे। ठीक है तो मैं आ रही हूं ब्यावरा उनके निवास मुल्तानपुरा पर दिनांक 8 दिसंबर, 2019 समय सायं 4:00 बजे जला लीजिए।”

कांग्रेसियों को जिंदा जलाने का पुराना अनुभव है1984 मैं सिखों को और नैना साहनी को तंदूर में जलाने तक का।@RahulGandhi ने आतंकी कहा और उनके विधायक गोवर्धन दांगी मुझे जलाएंगे।ठीक है तो मैं आ रही हूं ब्यावरा उनके निवास मुल्तानपुरा पर दिनांक 8 दिसंबर 2019 समय सायं 4:00 बजे जला लीजिए

धमकी के खिलाफ बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा भोपाल में एक पुलिस स्टेशन के बाहर धरने पर बैठी थीं। उनकी मांग थी कि कांग्रेस के विधायक गोवर्धन डांगी के खिलाफ FIR दर्ज की जाए। लेकिन तब राज्य में कमलनाथ की सरकार थी और सांसद की मांग को थाने में अनसुना कर दिया गया था।हालांकि बाद में विधायक दांगी ने अपने बयान पर अफसोस जाहिर किया था।

Leave a Reply