Home समाचार अपने ही चक्रव्यूह में फंसी कांग्रेस, पटियाला में प्रदर्शन पर अड़े किसान,...

अपने ही चक्रव्यूह में फंसी कांग्रेस, पटियाला में प्रदर्शन पर अड़े किसान, पंजाब में कोरोना का ‘सुपर स्प्रेडर’ बन सकता है किसान आंदोलन

734
SHARE

देश की जनता अब जान चुकी है कि किसान आंदोलन की पूरी स्क्रिप्ट कांग्रेस ने लिखी है। कांग्रेस का मकसद किसान आंदोलन की आड़ में मोदी सरकार के खिलाफ नकारात्मक माहौल बनना है। लेकिन कांग्रेस ने जिस चक्रव्यूह को मोदी सरकार के लिए तैयार किया था, उसमें वो खुद फंसती नजर आ रही है। पंजाब के किसान मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की अपील के बावजूद कोरोना के प्रबंधन में विफल रहने के विरोध में प्रदर्शन और रैली निकालने पर अड़े हुए हैं। 

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 23 मई, 2021 को ‘भारतीय किसान यूनियन (BKU उगराहां)’ से अपील की कि वो अपने प्रस्तावित तीन दिवसीय प्रदर्शन को रोक दे, नहीं तो ये कोरोना का ‘सुपर स्प्रेडर’ बन सकता है। गौरतलब है कि शुक्रवार से किसानों का विरोध प्रदर्शन दक्षिण-पूर्वी पंजाब के पटियाला से आरम्भ होगा।

किसानों ने अमरिंदर सरकार पर कोरोना को रोकने में नाकाम होने का आरोप लगाया है। इस आरोप को नकारते हुए अमरिंदर सिंह ने कहा कि पंजाब का हाल दिल्ली, महाराष्ट्र और यहां तक कि उत्तर प्रदेश जैसा न हो, इसके लिए उन्होंने पूरी कोशिश की है। उन्होंने किसानों से गैर-जिम्मेदाराना हरकतें कर के अपने जीवन को खतरे में नहीं डालने की अपील की।

अमरिंदर सिंह ने दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे ‘किसान आंदोलन’ के समर्थन का हवाला दिया। साथ ही उन्होंने ध्यान दिलाया कि कैसे सबसे पहले पंजाब सरकार ने ही विधानसभा में केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया था। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि जब किसान विरोध प्रदर्शन शुरू करेंगे तो ज्यादातर लोग गांवों से ही आएंगे, जो पहले से ही इस महामारी से पीड़ित हैं और उनका जीवन बेहाल है। इस लिए किसानों के प्रस्तावित धरना प्रदर्शन अनुचित है। 

गौरतलब है कि मई 2021 के पहले हफ्ते में ही पंजाब में किसानों ने वहां लगे वीकेंड लॉकडाउन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था। किसानों ने दुकानदारों पर दबाव बनाया कि वो अपनी दुकाने खोलें और सरकार का आदेश नहीं मानें। संगठन के कार्यकर्ताओं ने नेचर पार्क में एकत्रित होकर राज्य व केंद्र सरकार के खिलाफ जम कर नारेबाजी की थी। किसान नेताओं ने अपने भाषण में कहा था कि हम लॉकडाउन को नहीं मानेंगे।

 

Leave a Reply