Home समाचार दिल्ली विधानसभा चुनाव में BJP को मिला अकाली दल का समर्थन, केजरीवाल...

दिल्ली विधानसभा चुनाव में BJP को मिला अकाली दल का समर्थन, केजरीवाल की बढ़ी मुश्किल

1163
SHARE

दिल्ली विधानसभा चुनाव में शिरोमणि अकाली दल ने बीजेपी को समर्थन देने की घोषणा की है। दिल्ली में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस से मिल रही टक्कर के बीच यह समर्थन बहुत कुछ मायने रखता है। ऐसे में निश्चित तौर पर कहा जा सकता है कि इससे बीजेपी काफी मजबूत हुई है। अकाली दल का दिल्ली में अपना वोट बैंक है। जिसका फायदा बीजेपी को मिल सकता है।

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और अकाली दल प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि बीजेपी के साथ शिरोमणि अकाली दल का गठबंधन सबसे पुराना और मजबूत है। देश की जरूरतों के समय अकाली दल हमेशा आगे आता है। उन्होंने कहा कि आज अकाली दल ने दिल्ली में बीजेपी को समर्थन देने का निर्णय लिया है और हम इसके लिए उनके आभारी है।

शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर बादल ने कहा कि हम बीजेपी को चुनाव में समर्थन दे रहे हैं। बीजेपी के साथ हमारा गठबंधन राजनीतिक नहीं, बल्कि भावनात्मक है। दोनों दलों का गठबंधन देश और पंजाब के हित और शांति के लिए है। इसमें लेने-देने की कोई बात नहीं है। उन्होंने कहा कि कुछ संवादहीनता की स्थिति थी और यह दूर हो गई है। हमारी पार्टी के सभी कार्यकर्ता पूरी ताकत से बीजेपी के लिए जुटेंगे।

अकाली दल के दिल्ली का चुनाव नहीं लड़ने के निर्णय के बाद कई तरह की अटकलें सामने आ रही थी। बादल ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने करतारपुर कॉरिडोर सहित अनेक कार्यों को आगे बढ़ाया है। शिरोमणि अकाली दल प्रमुख ने कहा कि हम संशोधित नागरिकता कानून के समर्थक है। पाकिस्तान और तालिबान के दौर में अफगानिस्तान से प्रताड़ित होकर आए वहां के सिखों एवं अल्पसंख्यकों के मुद्दे को हमने लगातार उठाया। हमने मांग की थी कि उन्हें नागरिकता दी जाए।

दिल्ली में सिख समुदाय की 12 प्रतिशत आबादी है और 9 विधानसभा सीटों पर इनकी अहम भूमिका है। इनमें राजौरी गार्डन, हरी नगर, तिलक नगर, जनकपुरी, मोती नगर, राजेंद्र नगर, ग्रेटर कैलाश, जंगपुरा और गांधी नगर विधानसभा सीट शामिल है। इन सीटों पर बीजेपी-कांग्रेस-AAP के बीच त्रिकोणीय मुकाबला माना जा रहा है।

मौजूदा समय में दिल्ली में 9 सिख बहुल विधानसभा सीटों में से आठ विधानसभा सीटों पर आम आदमी पार्टी का कब्जा है और एक सीट राजौरी गार्डन को बीजेपी 2017 के उपचुनाव में जीत सकी थी। इसके अलावा कांग्रेस के पास एक भी विधायक नहीं है। 2015 के विधानसभा चुनाव में सिखों की पहली पसंद आम आदमी पार्टी बनी थी, लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव में यह समीकरण बदल गए।

2019 के लोकसभा चुनाव में सिख बहुल इलाकों में बीजेपी की एकतरफा जीत हुई थी। इससे साफ जाहिर है कि सिख समुदाय ने आम आदमी पार्टी की तुलना में बीजेपी को ज्यादा वोट किया था। सिख बहुल इलाकों में बीजेपी को 4,94,710, कांग्रेस को 2,29,347 और AAP को 1,67,229 वोट मिले थे। इसके पीछे वजह थी 1984 सिख दंगा मामला, जिसे लेकर कांग्रेस को नुकसान उठाना पड़ा था।

बीजेपी सिख समुदाय को साधने के लिए कई सीटों पर सिख उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं। इनमें आरपी सिंह को बीजेपी ने राजेंद्र नगर और तेजिंदर सिंह बग्गा को हरि नगर से उतारा है। बीजेपी के ये दोनों सिख चेहरे माने जाते हैं। आरपी सिंह की जहां गंभीर नेता की तौर पर पहचान है तो बग्गा फायर ब्रिगेड युवा नेता हैं। इसके अलावा बीजेपी ने सिख समुदाय को साधने के लिए सिख इलाकों में लोहड़ी का त्योहार मनाने का दांव चला था। हालांकि अकाली दल के छिटक जाने से बीजेपी के लिए इन सीटों पर समीकरण को दुरुस्त करने की बड़ी चुनौती थी, जो अब दूर हो चुकी है।  

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सिख समुदाय के हित में अनेक महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं। आइए एक नजर डालते हैं उन फैसलों पर…

  • मोदी सरकार ने 2015 में सिखों को इंसाफ दिलाने के लिए एसआईटी बनाई और सजा भी दिलाई।
  • पीएम मोदी ने 2018 में ऐतिहासिक फैसला लेते हुए करतारपुर कॉरिडोर के निर्माण को मंजूरी दी।
  • पीएम मोदी ने 9 नवंबर, 2019 को करतारपुर कॉरिडोर को देश को समर्पित किया।
  • करतारपुर कॉरिडोर से होकर गुरुद्वारा दरबार साहिब का दर्शन संभव हुआ।
  • मोदी सरकार में सिख समुदाय के गुरुद्वारों में लंगर को टैक्स फ्री किया गया ।
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा विभिन्न भारतीय भाषाओं में गुरुवाणी का प्रकाशन का फैसला किया गया है।
  • मोदी सरकार के अनुरोध पर यूनेस्को गुरु नानक देवजी की शिक्षा को विश्व भाषाओं में प्रकाशित करने जा रहा है।
  • मोदी सरकार द्वारा पंजाब के गुरुनानक देव विश्वविद्यालय में अंत: पंथ केंद्र की स्थापना की जा रही है।
  • अमृतसर में गुरु नानक जी के नाम पर यूनिवर्सिटी का निर्माण, जिसका टाइ-अप अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालयों से किया जाएगा।
  • मोदी सरकार के सहयोग से ब्रिटेन के बर्मिंघम विश्वविद्यालय में गुरु नानक पीठ की स्थापना की गई।
  • शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने पीएम मोदी को ‘कौमी सेवा पुरस्‍कार’ से सम्मानित किया।
  • ऐतिहासिक शहर सुल्तानपुर लोढ़ा को हेरिटेज टाउन के रूप में विकसित किया जा रहा है।
  • पीएम मोदी ने 13 जनवरी, 2019 को गुरु गोबिंद सिंह की जयंती पर स्मारक सिक्का जारी किया।
  • 5 जनवरी, 2017 को पटना में गुरु गोविंद सिंह की 350वीं जयंती मनायी गई, जिसमें पीएम मोदी भी शामिल हुए।
  • सिख श्रद्धालु अब देश के पांचों पवित्र तख्त स्थलों के दर्शन पंज तख्त एक्सप्रेस से कर सकेंगे।ॉ
  • ब्लैक लिस्ट से 312 सिखों के नाम हटाए गए, अब वे भारत स्थित अपने रिश्तेदारों से मिल सकेंगे।
  • बीते 5 वर्ष में करीब 27 लाख सिख विद्यार्थियों को अलग-अलग स्‍कॉलरशिप दी गई।
  • सीएए लागू होने से बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आए सिख शरणार्थियों को नागरिकता मिली।
  • अनुच्छेद 370 के हटने से जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख में भी सिख अल्पसंख्यकों को समान अधिकार मिला।
  • पीएम मोदी ने गुजरात के जामनगर में गुरु गोबिंद सिंह अस्पताल के 750 बेड वाले एनेक्सी को देश को समर्पित किया।

Leave a Reply