Home समाचार अगस्ता वेस्टलैंड डील में बड़ा खुलासा, कमलनाथ के बेटे, सलमान खुर्शीद और...

अगस्ता वेस्टलैंड डील में बड़ा खुलासा, कमलनाथ के बेटे, सलमान खुर्शीद और अहमद पटेल के नाम आए सामने

324
SHARE

कांग्रेस के राज में कई घोटाले हुए और कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व और उसके नेताओं ने जनता के पैसे का खूब बंदरबांट किया। यही वजह है कि आज भी भ्रष्टाचार का भूत कांग्रेस का पीछा नहीं छोड़ रहा है। अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले में मुख्य आरोपी और चार्टर्ड अकाउंटेंट राजीव सक्सेना ने पूछताछ के दौरान कांग्रेस के कई भ्रष्ट नेताओं को बेनकाब किया है। इनमें मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के भतीजे रतुल पुरी, बेटे नकुलनाथ, सलमान खुर्शीद और अहमद पटेल का नाम शामिल है।

राजीव सक्सेना ने ईडी के सामने जो बयान दिया है, उसका इंडियन एक्सप्रेस ने गहन अध्ययन किया। इसके साथ ही बैंकिंग स्टेटमेंट्स, ऑफशोर कंपनियों के रिकॉर्ड और प्रमुख लोगों के साथ किए गए ईमेल के बारे में जानकारी इकट्ठी की। इसमें कई कथित हवाला ट्रांजैक्शन और ऑफशोर स्ट्रक्चर का जाल पाया गया जो बात सक्सेना ने भी स्वीकार की है।

इंडियन एक्सप्रेस ने सक्सेना के बयान के हवाले से बताया है कि अगस्ता वेस्टलैंड सौदे में कथित रूप से कैसी कमियां हैं। सक्सेना ने ईडी को बताया कि उस समय फैसले को प्रभावित करने वाले नेताओं और नौकरशाहों के फायदे के लिए क्या-क्या उपाय किए गए। इनमें कुछ फंड को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से स्ट्रक्चर्ड ट्रांजैक्शन में लाया गया था। 

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, 17 सितंबर को दायर सप्लीमेंट्री चार्जशीट में सीबीआई ने कहा कि साल 2000 में सक्सेना ने इंटरस्टेलर टेक्नोलॉजीज के 99.9% शेयर हासिल किए। चार्जशीट में इटली और मॉरीशस के लेटर्स रोगेट्री का हवाला दिया गया है। आरोप लगाया है कि सक्सेना ने गौतम खेतान के साथ मिलकर अगस्ता वेस्टलैंड से इंटरस्टेलर टेक्नोलॉजीज़ के खाते में यूरो 12.40 मिलियन हासिल किए। यह धनराशि ‘मामले में शामिल बिचौलियों और संदिग्ध अधिकारियों को पेमेंट करने के लिए आगे इस्तेमाल में लाई गई।

सक्सेना के स्वामित्व वाली चार कंपनियों में ग्लोबल सर्विसेज द्वारा किए गए 9,48,862 यूरो के पेमेंट की भी जानकारी है। सक्सेना की यह चार कंपनियां पैसिफिक इंटरनेशनल एफजेडसी, मिडास मेटल्स इंटरनेशनल एलएलसी, मेटॉलिक्स लिमिटेड और यूरोट्रेड लिमिटेड हैं। सक्सेना से पूछताछ में अगस्ता वेस्टलैंड मामले के दो अन्य आरोपियों, डिफेंस डीलर सुषेन मोहन गुप्ता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के भतीजे रतुल पुरी के फाइनेंसियल ट्रांजैक्शन पर फोकस किया गया है। गुप्ता और पुरी दोनों हिरासत में लिए गए थे और फिलहाल जमानत पर हैं।

सक्सेना ने आरोप लगाया कि गुप्ता और खेतान ने जिन लोगों के नाम लिया था, वे खुद में ‘विशेष’ हैं। उन्होंने सत्ता में अपनी पहुंच को दिखाने के लिए तत्कालीन राजनीति के बड़े लोगों का नाम लिया। उन्होंने कई बार सलमान खुर्शीद और कमल चाचा का जिक्र किया जो कि मेरे हिसाब से कमलनाथ के लिए था। इसके जरिए वह सत्ता के गलियारों में अपनी ताकत का एहसास कराते थे।

सक्सेना ने कहा- “मुझे पता है कि इंटरस्टेलर टेक्नोलॉजीज लिमिटेड अगस्ता वेस्टलैंड से रिश्वत पाने वाली कंपनियों में से एक थी। इंटरस्टेलर टेक्नॉलॉजीज़ का स्वामित्व सुषेन मोहन गुप्ता के पास था, जिन्होंने गौतम खेतान के माध्यम से कंपनी को नियंत्रित किया था। सुषेन मोहन गुप्ता और गौतम खेतान के साथ मेरी बैठकों के दौरान वे अक्सर नेताओं का जिक्र करते थे। वे बातचीत में AP नाम लेते थे जिसका मतलब अहमद पटेल से होता था।”

अपने बेटे और भतीजे का नाम आने के बाद कमलनाथ ने कहा कि मैं पहले ही कह चुका हूं कि मेरे भतीजे रतुल पुरी कंपनियों या लेनदेने से मेरा कोई वास्ता नहीं है। जहां तक मेरे बेटे नकुलनाथ की बात है, वह दुबई में रहता है। कोई भी बैंक अकाउंट या कागजात नहीं हैं जिससे मेरे बेटे का कनेक्शन सामने आता हो। वहीं खुर्शीद ने कहा कि यह मेरे लिए चौंकाने वाला है कि मेरा नाम इसमें उछाल दिया गया। सुशेन मोहन गुप्ता के पिता देव मोहन गुप्ता एक करीबी पारिवारिक मित्र हैं और मैं उनका शुभचिंतक हूं। उनके अलावा मैं किसी रतुल पुरी या सक्सेना को नहीं जानता।

चॉपर डील केस में तीन हफ्ते पहले ही राजीव सक्सेना को अंतरिम जमानत दी गई थी। सक्सेना को जनवरी 2019 में दुबई से प्रत्यर्पित किया गया था और प्रवर्तन निदेशालय द्वारा पूछताछ की गई थी। इस मामले में सक्सेना की 385 करोड़ रुपये की संपत्ति अटैच कर दी गई थी। अब ईडी इस मामले को सुप्रीम कोर्ट के सामने लेकर गई है। ईडी का कहना है कि सक्सेना मामले से जुड़े सभी तथ्यों को सामने नहीं रख रहे हैं।

गौरतलब है कि 3000 करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड VVIP डील को यूपीए-2 सरकार ने रद्द कर दिया था। यह डील दो कंपनियों के माध्यम से हुई, जिसमें सक्सेना की इंटरस्टेलर टेक्नोलॉजीज और क्रिश्चियन मिशेल की ग्लोबल सर्विस शामिल है। मिशेल साल 2018 से ही जेल में है।

 

 

Leave a Reply