Home समाचार हार तय देखकर दीदी ने बंगाल से बाहर राजनीति करने का फैसला...

हार तय देखकर दीदी ने बंगाल से बाहर राजनीति करने का फैसला कर लिया है: प्रधानमंत्री मोदी

165
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी और कृष्णानगर में चुनावी जनसभाओं को संबोधित किया। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के चौथे चरण की वोटिंग के बीच पीएम मोदी ने शनिवार को सिलीगुड़ी में जनसभा को संबोधित के बाद कृष्णानगर में रैली की। उन्होंने कहा कि दीदी इस बार अपने लिए नहीं बल्कि भाइपो के लिए बड़े सपने देखकर सारी व्यूह रचना बना रही हैं। हार तय देखकर दीदी ने बंगाल से बाहर राजनीति करने का फैसला कर लिया है। बनारस वाली बात ऐसे ही नहीं उछाली गई है। चुनाव के बाद दीदी एग्जिट हो जाएंगी, भाइपो नया दांव लगाएगा। यह भी एक खेला है।    

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले TMC सांसद महुआ मोइत्रा ने कहा था कि दीदी दूसरी सीट से चुनाव लड़ेंगी और वह सीट बनारस होगी। महुआ ने यह बात PM मोदी को जवाब देने के लिए ही कही थी। मोदी ने कहा था कि सुना है दीदी दूसरी सीट से चुनाव लड़ने का सोच रही हैं।

गुंडागर्दी से निकलकर समृद्धि की तरफ बढ़ेगा बंगाल
पीएम मोदी ने कहा कि बरसों के रक्तपात, भय, अत्याचार गुंडागर्दी से बाहर निकलकर अब बंगाल शांति और समृद्धि की ओर बढ़ेगा। सोनार बांग्ला का संकल्प पूरा करेगा। यह पवित्र धरा अब घुसपैठ से मुक्त होगी। होरीचंद्र ठाकुर के प्रति आस्था रखने वालों का सम्मान बीजेपी के बंगाल में होगा। अब अभाव पीछे छूटेगा। आकांक्षी बंगाल का उदय होगा। मोदी ने भीड़ से कहा कि नौजवानों आपका उत्साह मेरे सर आंखों पर है।

परेशानी सुरक्षाबल नहीं, बल्कि दीदी की हिंसक राजनीति है
पीएम मोदी ने कहा कि अपनी हार देखकर दीदी और TMC ने हिंसा की कोशिश शुरू कर दी है। उन्होंने कहा कि अब बंगाल आपसे उम्मीद छोड़ चुका है। दीदी, आप माताओं-बहनों के आंसू गिरने की वजह बन गई हैं। 4 राज्यों में मतदान हुआ है, कोई दिक्कत नहीं हुई। उन्होंने ममता बनर्जी को निशाना बनाते हुए कहा कि दीदी समस्या सुरक्षाबल नहीं है। समस्या आपकी हिंसक राजनीति है।

कूचबिहार की हिंसा पर दुख व्यक्त किया
इससे पहले सिलीगुड़ी पहुंचे पीएम मोदी ने कूचबिहार में हुई हिंसा पर दुख जाहिर करते हुए हिंसा में मरने वालों के परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की। उन्होंने कहा कि दीदी, TMC और उनके गुंडों के मंसूबे कामयाब नहीं होंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने आरोप लगाया कि ममता बनर्जी लोगों को सिक्युरिटी फोर्स पर हमले के लिए उकसा रही हैं, लेकिन इन सब से वो बच नहीं पाएंगी। 10 साल के शासन का हिसाब ममता बनर्जी को देना होगा।

दीदी के करीबी ने SC समुदाय का अपमान किया
पीएम मोदी ने कहा कि एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। लोग इसे देखकर चौक गए हैं। वीडियो में दीदी के करीबी ने SC समुदाय का अपमान किया है। वो कह रहे हैं, बंगाल के SC भिखारियों की तरह व्यवहार करते हैं। दीदी, इतना अहंकार। मेरे भाइयों, बहनों और उनके बच्चों के साथ आपकी पार्टी और नेता इतनी नफरत करते हैं। दीदी और उनके साथियों का यही असली चेहरा है।

सिंडीकेट मुक्त बंगाल बनाएगी BJP
पीएम मोदी ने कहा कि बंगाल से निकलीं संतानों ने साहित्य से लेकर सेना तक सभी को मजबूत किया है। उन्हीं की प्रेरणा से बंगाल आशोल परिवर्तन के लिए प्रेरित हुआ है। दीदी ने जिन्हें दबा रखा था, उन्हें अब आशोल परिवर्तन चाहिए। भाजपा की सरकार में सुनवाई होगी, न्याय होगा। भाजपा की सरकार में प्रशासन जनता के लिए काम करेगा। पुलिस जनता को न्याय दिलाएगी। बंगाल में दशकों से जिस तरह का राजनीतिक वातावरण बना दिया गया है, उसे बदलने का समय आ गया है। अब तोलाबाज मुक्त, कटमनी मुक्त और सिंडीकेट मुक्त बंगाल बनेगा।

सुरक्षाबलों के खिलाफ लोगों को भड़का रहीं दीदी
पीएम मोदी ने कहा कि अपनी हार सामने देख, दीदी का गुस्सा मुझ पर बढ़ता जा रहा है। उनहें 10 साल तक गरीबों को सताने वाले गुंडों पर, हत्यारों पर, लुटेरे तोलाबाजों पर गुस्सा नहीं आया। लेकिन उन सुरक्षाबलों पर गुस्सा आ गया, जो बंगाल के लोगों के अधिकार की रक्षा कर रहे हैं। एक राज्य की मुख्यमंत्री 10 साल सत्ता में रहने के बाद सिखा रही हैं कि कैसे सुरक्षा बलों का घेराव करना है। कैसे उन पर हमला करना है। देश के बहादुर सुरक्षा बल आतंकियों और नक्सलियों से नहीं डरते, तो क्या वे आपके पाले गुंडों से डर जाएंगे? केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के समय केंद्र ने जो मुफ्त चावल और चना भेजा था, उसे तृणमूल के तोलाबाजों ने पार कर दिया।

ममता ने स्वीकारा, उनके लोग तोलाबाजी करते हैं
पीएम मोदी ने कहा कि सिलीगुड़ी में ही दीदी ने कहा था कि उनके तोलाबाज तो सिर्फ 200, 300 या 500 रुपए लेते हैं, इसमें क्या बड़ी बात है। इसके लिए एक कथा मैंने बचपन में सुनी थी। कथा में एक बहुत बड़े लुटेरे को फांसी हुई। अंतिम इच्छा पूछने पर उसने कहा कि मां से मिलना है। सरकार ने कहा कि मां से मिलवाया जाए। मां से मिलने के बाद उसने उन्हें गले लगाया और मां की नाक पर काट लिया। उससे पूछा गया कि ऐसा तुमने क्यों किया। उसने बताया कि जब मैं छोटी चोरी करता था, उस दिन अगर मेरी मां ने मुऐ रोका होता तो ये नौबत नहीं आती।

Leave a Reply