Home समाचार अंतरराष्ट्रीय योग दिवस : दुनिया को पीएम मोदी की एक और सौगात,...

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस : दुनिया को पीएम मोदी की एक और सौगात, M-Yoga App से अलग-अलग भाषाओं में होगा योग का प्रसार

409
SHARE

भारत में योग की परंपरा अत्यन्त प्राचीन है। लेकिन वर्तमान समय में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी विश्व के सबसे बड़े योग गुरु के रूप में दुनिया भर के लोगों तक योग को पहुंचाने के प्रयासों में जुटे हुए हैं। उनकी पहल पर जब से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को मान्यता मिली है, उसके बाद से ही दुनियाभर में योग को लेकर खासा उत्साह बढ़ गया है। योग अब लोगों के दैनिक जीवन का हिस्सा बन गया है। कोरोना महामारी के दौरान तो योग बचाव का अहम साधन बन गया है और दुनिया को भी इसकी ताकत का अहसास हुआ है। प्रधानमंत्री मोदी की कोशिशों का नतीजा है कि 21 जून की तारीख ने पिछले कुछ ही बरस में भारत के साथ ही विश्व के इतिहास में एक महत्वपूर्ण स्थान हासिल कर लिया है।

प्रधानमंत्री मोदी चाहते हैं कि योग दुनियाभर के लोगों के लिए आसानी से उपलब्ध हो। इसलिए उन्होंने 21 जून, 2021 को सातवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर M-Yoga एप लॉन्च कर दुनिया को एक और सौगात दी। इस एप के जरिये दुनिया की अलग-अलग भाषाओं में योग सिखाया जाएगा। इस एप में कॉमन योग प्रोटोकॉल के आधार पर योग प्रशिक्षण के कई वीडियोज दुनिया की अलग-अलग भाषाओं में उपलब्ध होंगे। भारत के आयुष मंत्रालय ने इस एप को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के साथ मिलकर तैयार किया है। पिछले करीब डेढ़ साल से दुनिया भर में कोरोना का कहर जारी है। मेडिकल एक्सपर्ट्स, सरकार, योग गुरु और आयुर्वेद सभी ने इस दौर में लोगों को सुरक्षित रहने के लिए योग करने की सलाह दी है। ऐसे में यह एप लोगों को फिट और सुरक्षित रखने के साथ ही दुनिया भर में योग के प्रचार-प्रसार में काफी मददगार साबित हो सकता है।

M -yoga एप से योग प्रशिक्षण और प्रसार

  • एप में योग को लेकर ऑडियो और वीडियोज़ जारी किए जाएंगे।
  • एप से कई भाषाओं में योग समझा और सीखा जा सकता है।
  • एप में योग के विभिन्न आसन और जानकारियां उपलब्ध होंगे।
  • एप में योग को लेकर आसान प्रोटोकॉल समझाई जाएंगी।
  • यह यूजर फ्रेंडली और डेटा के मामले में पूरी तरह सुरक्षित है।
  • 12 से 65 वर्ष की उम्र के व्यक्ति इसका उपयोग कर सकते हैं।
  • Google Play Store और एप्पल के App Store से डाउनलोड हो सकता है।

पीएम मोदी ने दिलाई अंतरराष्ट्रीय पहचान

  • 27 सितंबर, 2014 को पीएम मोदी ने यूएनजीए के अपने पहले संबोधन में ही अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का प्रस्ताव रखा था।
  • 11 दिसंबर, 2014 को यूएनजीए ने 193 देशों में से 177 के समर्थन के साथ 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया था।
  • इसमें सबसे बड़ी बात ये थी कि प्रस्ताव के विरोध में एक भी वोट नहीं पड़ा। भले ही लोग अनुपस्थित रहे।
  • पहली बार 21 जून, 2015 को विश्व योग दिवस को दुनिया के विभिन्न हिस्सों में बहुत उत्साह के साथ मनाया गया।
  • आज दुनिया के 200 देशों में करोड़ों लोग योग कर रहे हैं। योग दुनिया भर में भारत के राजदूत की तरह काम कर रहा है।

Leave a Reply